बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesघर में है AC तो न करें 7 गलतियां, कम होगा बिजली बिल

घर में है AC तो न करें 7 गलतियां, कम होगा बिजली बिल

देश के उत्‍तर भारत के कई राज्‍यों में भीषण गर्मी का दौर शुरू हो गया है।

1 of

नई दिल्‍ली. उत्‍तर भारत समेत देश के कई राज्‍यों में भीषण गर्मी का दौर शुरू हो गया है। गर्मी से बचने के लिए आमतौर पर पंखे, कूलर, एसी का इस्‍तेमाल घरों में होता है। इस सीजन में अमूमन बिजली की डिमांड भी बढ़ जाती है और इसके साथ एसी का इस्‍तेमाल भी ज्‍यादा होने लगता है। देखा जाए तो हमारे इलेक्ट्रिसिटी बिल में एसी के खर्च ज्‍यादा होता है।

 
एक आकलन के अनुसार, समर सीजन में बिजली बिल का करीब आधा हिस्‍सा एसी के खर्च का रहता है। हालांकि एसी के इस्‍तेमाल को बंद नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसे इस्‍तेमाल करने के तरीके में कुछ बदलाव करें और कुछ गलतियां न करें तो हम एनर्जी बचाने के साथ-साथ बिजली के बिल में कमी ला सकते हैं।

 

 

1. बड़ा AC खरीदने से बचें 
एसी को लेकर आम धारणा है कि बड़ा एसी ही हमेशा बेहतर होता है। उनका मानना होता है कि बड़ा एसी घर को जल्‍दी ठंडा करता है। जबकि, हकीकत यह है कि ओवरसाइज एसी एकसमान टेम्‍परेचर नहीं जेनरेट करता है या उमस को कम करता है। वहीं, यह इनइफीशिएंटली ऑपरेट होता है यानी जल्‍दी ऑन-ऑफ होता है। इसलिए जब भी एसी खरीदने जाएं, तो कंज्‍यूमर रिपोर्ट वर्कशीट के अनुसार चयन करें। यानी रूम के साइज के अनुसार ही एसी खरीदें।
 
2. AC को गलत जगह पर न रखें 
एसी यदि सही जगह इन्‍स्‍टॉल न हो तो भी इसका असर उसकी परफार्मेंस पर पड़ता है। हमेशा यह कोशिश करनी चाहिए की एसी को डायरेक्‍ट सनलाइन वाली जगह पर लगाने से बचना चाहिए। साउथवेस्‍ट की बजाय घर के ईस्‍ट या नॉर्थ साइड में इन्‍स्‍टॉल करना चाहिए।
 
3. AC को न ढकें 
एसी को झाडि़यों या अन्‍य पौधों के पीछे छुपाने से इसका असर उसकी परफार्मेंस पर पड़ता है और बिजली बिल बढ़ जाता है। इसलिए कभी भी एसी को पौधों के बीच में नहीं छिपाना चाहिए। इससे वेंटिलेशन प्रभावित होगा, कंडेंसर कॉयल गंदा होता है और एसी की परफार्मेंस बिगड़ती है।
 


आगे पढ़ें... AC के यूज में न करें ये गलतियां

 

4. रखरखाव पर ध्‍यान न देना
एसी कोई ऐसा उपकरण नहीं है, जो अपना मेन्टेनेंस खुद रख सके। घरों में आमतौर पर एसी की बेसिक मेन्‍टेनेंस नहीं की जाती है। बेसिक मेन्‍टेनेंस से एसी की इफीशिएंसी अच्‍छी रहती है और उसकी लाइफ बढ़ती है। बेसिक मेन्‍टेनेंस से मतलब है कि कम से कम दो महीने में एक बार उसका फिल्टर साफ करना चाहिए, जरूरत हो तो बदल देना चाहिए। इवोपरेटर कॉयल को एक साल में चेक करना चाहिए और क्‍लीन करना चाहिए। हर साल विंडो सीज्‍ड को जरूर चेक करना चाहिए।
 
5. AC को चलते हुए न छोड़ें 
घर पर नहीं रहते हुए भी एसी को चलता हुआ छोड़ देने से बिजली बिल का बोझ अच्‍छा-खासा बढ़ जाता है। ऐसा देखने में आता है कि लोग घर को कूल बनाए रखने  लिए एसी को ऑटोमोड में छोड़कर ऑफिस चले जाते हैं। इसकी जगह थर्मोस्‍टेट या इंडिविजुअल यूनिट टाइमर का यूज करना चाहिए।

 

आगे पढ़ें... AC के यूज में न करें ये गलतियां
 
 

6. बिना देखे झरोखे-दरवाजे न बंद करें 
अनयूज्‍ड रूम के दरवाजे और झरोखे बंद कर देने से एसी पर क्‍या असर होता है, इस पर अलग-अलग बातें सामने आती हैं। अधिकांश मामले में इससे सेंट्रल एसी सिस्‍टम की इफीशिएंसी कम हो सकती है। इसलिए गर्मियों में घर के किसी भी हिस्‍से को बंद करने से पहले एक्‍सपर्ट से जरूर परामर्श करें। वहीं, किसी भी रूम को बंद करने में सावधानी बरतें क्‍योंकि इससे थर्मोस्‍टेट हो सकता है। 
 

7. गलत फैन का इस्‍तेमाल न करें 
घर में यदि आप एसी चला रहे हैं और उसके साथ ही किचन या बाथरूम का एग्‍जॉस्‍ट फैन का इस्‍तेमाल करते हैं, तो इससे एसी की परफार्मेंस पर असर होगा। बिजली के बिल पर भी इसका असर होगा। क्‍योंकि, एग्‍जॉस्‍ट फैन घर की ठंडी हवा को बाहर कर देगा। इसलिए, एसी चल रहा हो तो एग्‍जॉस्‍ट फैन का इस्‍तेमाल बहुत जरूरी होने पर ही करना चाहिए।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट