Home » Industry » Companiesincome tax department doubt private lockers have above 500 crore cash

इनकम टैक्स को प्राइवेट लॉकर में 500 करोड़ से अधिक कैश होने की आशंका, जगह-जगह होगी छापेमारी

दिल्ली की छोटी सी दुकान से निकले 25 करोड़ कैश

1 of

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद पुराने रुपये को नए में बदल कर उसे बैंक लॉकर या घर में छिपाने के बजाय उसे प्राइवेट लॉकर में छिपाने का काम किया गया। अब सरकार की सख्ती पर प्राइवेट लॉकर पर छापेमारी का सिलसिला शुरू गया है। इनकम टैक्स के अधिकारियों के मुताबिक उनकी सूचना के मुताबिक देश के सिर्फ बड़े शहरों के प्राइवेट लॉकर में 500 करोड़ रुपए कैश होने की आशंका है। दिल्ली के चांदनी चौक इलाके में हाल ही में इनकम टैक्स की छापेमारी के दौरान एक छोटी सी दुकान में चल रहे प्राइवेट लॉकर से 25 करोड़ रुपए कैश बरामद किए गए। यह दुकान मेवे की है, लेकिन यहां प्राइवेट लॉकर चलाने का काम भी हो रहा था।

 

इनकम टैक्स अधिकारियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि उन्हें अपने सोर्स के साथ प्रधानमंत्री कार्यालय से भी काले धन के बारे में सूचना मुहैया कराई जा रही है जिसके आधार पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि छापेमारी का यह सिलसिला जारी रहेगा और दिल्ली के साथ मुंबई, बंगलुरु जैसे शहरों में भी भारी मात्रा में कालेधन के रूप में नकदी होने की सूचना है।  कुछ माह पहले दिल्ली के साउथ एक्स में स्थित प्राइवेट लॉकर में इनकम टैक्स ने छापमारी की थी जिसमें करोड़ों रुपए बरामद किए गए थे। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें छोटी-छोटी दुकानों से कैसे ऑपरेट होता है प्राइवेट लॉकर का काम 

भीड़भाड़ वाले इलाके की छोटी दुकान से चलते है ये रैकेट
इनकम टैक्स के अधिकारियों ने बताया कि प्राइवेट लॉकर का काम मुख्य रूप से भीड़भाड़ वाले बाजार की छोटी-छोटी दुकानों से ऑपरेट किया जा रहा है ताकि वहां हर कोई आसानी से नहीं पहुंच सकता है। वहां छापेमारी की कार्रवाई भी आसान नहीं होती है। यही वजह है कि दिल्ली के सबसे व्यस्तम बाजार चांदनी की छोटी सी दुकान में कई बड़े व्यापारियों ने यहां के लॉकर में अपनी-अपनी नकदी छिपा रखी थी। उन्होंने बताया कि प्राइवेट लॉकर चलाने वाले पैसे रखने एवं उसकी देखरेख के एवज में बैंकों के मुकाबले काफी मोटी रकम वसूलते हैं। सरकार से इजाजत लेकर भी प्राइवेट लॉकर का काम किया जाता है, लेकिन यहां मिलने वाली रकम या किसी भी चीज के लिए सरकार जिम्मेदार नहीं होती है।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें क्या है इनकम टैक्स विभाग की योजना

थोक व्यापारियों के व्यापार की भी हो सकती है जांच
सूत्रों के मुताबिक इनकम टैक्स विभाग को इस बात की आशंका है कि दिल्ली के कई थोक व्यापारियों का कारोबार हवाला के माध्यम से आने वाले पैसे से चल रहा है। ऐसे में, इन कारोबारियों के पूरे व्यापार की पड़ताल की योजना बनाई जा रही है। विभागीय सूत्रों के मुताबिक इस माह में कम से कम दर्जन भर से अधिक जगहों पर छापेमारी की कार्रवाई के लिए टीम तैयार की गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट