बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesइस बिजनेसमैन ने शिकागो यूनिवर्सिटी को दान किए 32.5 करोड़, भारत से है नाता

इस बिजनेसमैन ने शिकागो यूनिवर्सिटी को दान किए 32.5 करोड़, भारत से है नाता

यह बिजनेसमैन हैं भारतीय-अमेरिकी बिजनेसमैन रतन एल खोसा।

1 of

ह्यूस्‍टन. अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के एक बिजनेसमैन ने यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो को 32.5 करोड़ रुपए (50 लाख डॉलर) दान में दिए हैं। यह बिजनेसमैन हैं भारतीय-अमेरिकी बिजनेसमैन रतन एल खोसा। एमसिस्‍को (AMSYSCO) इंक के फाउंडर खोसा का यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो को इतनी बड़ी रकम दान में देने के पीछे मकसद इनोवेशन के क्षेत्र में महत्‍वाकांक्षी एंटरप्रेन्‍योर्स की मदद करना है। इस डोनेशन से खोसा के नाम पर यूनिवर्सिटी के पोलस्‍काई सेंटर में एक स्‍टूडेंट एंटरप्रेन्‍योर्स प्रोग्राम लॉन्‍च किया जाएगा। 

 

कौन हैं खोसा

79 वर्षीय रतन एल खोसा एक कश्‍मीरी हैं। वह 70 के दशक में अमेरिका आए थे। उन्‍होंने यहां यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड से रिसर्च फेलोशिप सिक्‍योर की थी। उस वक्‍त उनके पास केवल 195 रुपए (3 डॉलर) थे। 1981 में उन्‍होंने अपने घर के बेसमेंट में एमसिस्‍को कंपनी शुरू की। यह कॉमर्शियल स्‍ट्रक्‍चर्स पर पोस्‍ट टेंशनिंग सिस्‍टम्‍स उपलब्‍ध कराती है। लगभग 4 दशक बाद यह एक हाइली प्रोफिटेबल वेंचर के रूप में स्‍थापित हो चुकी थी। आज यह 55,000 वर्ग फुट में फैली है। 

 

आगे पढ़ें- याद किया अपना पहला दिन

 

यह भी पढ़ें- इस इंडियन लेडी ने विदेशियों की समझी प्रॉब्लम, जुटा लिए 159 करोड़ रु.

डोनेशन के वक्‍त याद किया अमेरिका में अपना पहला दिन 

खोसा ने एक इंटरव्‍यू में बताया कि इस राशि को दान करते वक्‍त उन्‍होंने अमेरिका में अपने पहले दिन को याद किया। उस वक्‍त उनके पास बहुत ही कम पैसे थे। आगे कहा कि आज वह इतने सक्षम हो चुके हैं कि एंटरप्रेन्‍योर्स की नई जनरेशन की मदद कर सकें। इस बात को सोचकर उन्‍हें गर्व की अनुभूति होती है और वह ईश्‍वर को धन्‍यवाद देते हैं। 
 
आगे पढ़ें- केवल पैसे देना नहीं है उद्देश्‍य 

केवल फंड उपलब्‍ध कराना नहीं है मकसद 

खोसा के मुताबिक, अपने खुद के अनुभव के कारण मुझे पता है कि हर किसी को अपनी जिंदगी में कुछ जगहों पर मदद की जरूरत होती है। कोई भी इसके बिना कामयाब नहीं हो सकता। 80 फीसदी से ज्‍यादा कंपनियां शुरुआत के पहले ही साल में फेल हो जाती हैं, यहां तक कि कई बार पर्याप्‍त फंडिंग वाली भी। इससे साबित होता है कि स्‍टार्टअप की कामयाबी के लिए पैसों से भी आगे कुछ चीजों की जरूरत होती है। मैं इस नए प्रोग्राम के लिए केवल पैसे उपलब्‍ध नहीं कराना चाहता। मेरी योजना एक थॉट लीडर, मेंटर और गाइड के रूप में महत्‍वाकांक्षी एंटरप्रेन्‍योर्स की मदद करने की है, ताकि मेरे सालों का अनुभव, संघर्ष और सफलता उनकी कामयाबी में अतिरिक्‍त सोर्स का काम कर सके। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट