बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesआपके हाथ में भी नहीं रुकता पैसा, 3 आदतें हो सकती हैं वजह, रिपोर्ट्स में आया सामने

आपके हाथ में भी नहीं रुकता पैसा, 3 आदतें हो सकती हैं वजह, रिपोर्ट्स में आया सामने

अक्‍सर अनजाने में हम कुछ आदतों को फॉलो कर रहे होते हैं। ये आदतें हमारे और बचत के बीच में रोड़ा बन जाती हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. अक्‍सर ऐसा होता है कि हम अपनी मेहनत से अच्‍छी खासी इनकम करते हैं लेकिन फिर भी बचत के नाम पर कुछ नहीं होता। हर तरह से कोशिश करने के बावजूद पैसा रुकता ही नहीं है। इसकी वजह है कुछ आदतें। अक्‍सर अनजाने में हम कुछ आदतों को फॉलो कर रहे होते हैं। ये आदतें हमारे और बचत के बीच में रोड़ा बन जाती हैं। ऐसी कई रिपोर्ट्स हैं, जिनमें पैसा न बचा पाने के कारणों में से 3 कारण सभी रिपोर्ट्स में कॉमन हैं। आइए आपको बताते हैं क्‍या हैं वे तीन वजह-  


1. खर्चों को पहले और सेविंग्‍स को बाद में रखना

जब भी फ्यूचर के लिए सेविंग्‍स की बात आती है तो हमारा यही कहना होता है कि पहले वर्तमान के खर्चों को देख लें। अगर कुछ बच जाएगा तो सेविंग्‍स में डाल देंगे। लेकिन यह तरीका गलत है। स्‍मार्ट तरीका यह है कि हम पहले सेविंग्‍स कर अपना फ्यूचर सिक्‍योर करें और उसके हिसाब से खर्चे करें। इसकी वजह है कि आज हमारे पास आय का जरिया है लेकिन भविष्‍य में केवल सेविं‍ग्‍स की काम आने वाली है। अपने खर्चों में कटौती कर हम अभी तो बैलेंस बना सकते हैं लेकिन अगर सेविंग नहीं की तो फ्यूचर में बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है। 

 

यह जरूरी नहीं है कि हम बहुत बड़ा अमाउंट फ्यूचर सेविंग्स में डालें। छोटी-छोटी बचत से भी आप एक बड़ा फंड इकट्ठा कर सकते हैं लेकिन उसके लिए आपको यह छोटी बचत रेगुलरली करनी होगी। 

 

आगे पढ़ें- बाकी की दो आदतें 

2. कमाई बढ़ाने पर ध्यान न देना

हममें से कई लोग फ्यूचर सेविंग्‍स को लेकर काफी सचेत होते हैं और ऐसा करते भी हैं। लेकिन कमाई को कैसे बढ़ाया जाए, इसके लिए कुछ नहीं करते। अच्‍छे फ्यूचर और वर्तमान के खर्चों में बैलेंस बनाने के लिए कमाई में बढ़ोत्‍तरी भी अहम भूमिका निभाती है। हम केवल सैलरी पर ही निर्भर रहते हैं, जबकि हमें कमाई के कुछ और तरीकों के बारे में सोचना चाहिए। हमें आय कमाने के मल्‍टीपल सोर्सेज खोजने चाहिए, खासतौर पर प्राइवेट नौकरी वालों को। इसकी वजह है कि भले ही आज आप जॉब करते हों लेकिन प्राइवेट कंपनीज में कब जॉब चली जाए, कोई नहीं जानता। इसलिए एक बैकअप स्‍ट्रैटेजी होना जरूरी है। जॉब के साथ-साथ रेंटल प्रॉपर्टी, साइड बिजनेस आदि जैसे साइड इनकम सोर्स पर भी सोचना चाहिए।

 

इसमें इन्‍वेस्‍टमेंट यानी पैसे से पैसा बनाना भी काम आ सकता है। ज्‍यादातर लोग पैसों को यूं ही बैंक में पड़ा रहने देते हैं, जबकि उन्‍हीं पैसों से ज्यादा रिटर्न कमाने के मौके हमारे सामने रहते हैं। हमें चाहिए कि हम उन पैसों को काम में लाएं और उससे म्‍यूचुअल फंड, बॉन्‍ड्स आदि जरियों से प्रॉफिट कमाने की कोशिश करें। 
  
आगे पढ़ें- बजट में खर्च न रखना 

3. हैसियत से महंगी चीज खरीदना

एक बहुत पुरानी कहावत है- उतने पांव पसारिए, जितनी लंबी सौर। यानी उतना ही खर्च करें, जितनी आपके बजट में आता हो। इसलिए कभी भी दूसरों की देखादेखी अपनी हैसियत से बाहर जाकर चीजें नहीं खरीदनी चाहिए। कोशिश यही होनी चाहिए कि हमारा खर्च हमारी सैलरी से कम रहे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट