बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companies65 हजार रुपए में आप भी बन सकते हैं PADMAN, बस खरीदनी होगी ये मशीन

65 हजार रुपए में आप भी बन सकते हैं PADMAN, बस खरीदनी होगी ये मशीन

अगर आप भी पैडमैन बनना चाहते हैं तो आपके पास भी घर बैठे कारोबार करने का अच्छा मौका है।

1 of

नई दिल्ली। 9 फरवरी को फिल्म 'पैडमैन' आ रही है। फिल्म 'पैडमैन' अरूणाचलम मुरूगनाथन की जिंदगी पर आधारित है जिन्होंने अपनी वाइफ और गांव की महिलाओं की परेशानी को देखते हुए सेनेटरी नैपकिन बनाने की सस्ती मशीन डेवलप की। सेनेटरी नैपकिन के कारोबार का बिजनेस मॉडल डेवलप किया। अगर आप भी पैडमैन बनना चाहते हैं तो आपके पास भी घर बैठे कारोबार करने का अच्छा मौका है।

 

 

बस लगानी होगी ये मशीन

 

अरूणाचलम मुरूगनाथन की कंपनी जयश्री इंडस्ट्रीज ने सेनेटरी नैपकिन के कारोबार का बिजनेस मॉडल बनाया हुआ है। ये कंपनी अन्य लोगों को भी सेनेटरी नैपकिन बनाने की यूनिट लगाने में भी मदद करती है। उनकी सेनेटरी नैपकिन बनाने की प्रमुख मशीन करीब 65 हजार रुपए में मिल जाएगी। उनकी ये कंपनी मशीनें खरीदने से लेकर, इस्टालेंशन और ट्रेनिंग देने का काम भी करती है। उनके बनाए बिजनेस मॉडल के बारे में बता रहे हैं।

 

2,000 करोड़ रुपए का है सेनेटरी नैपकिन का मार्केट

 

इंडिया में सैनिटरी नेपिकन का मार्केट2,000 करोड़ रुपए का है जो सालाना 16 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। इंडिया में रूरल एरिया में महिलाएं महंगा होने के कारण नैपकिन का उपयोग नहीं कर पाती। इसे फीमेल ग्रुप के बीच सस्ते सेनेटरी नैपकिन का ब्रांड भी खड़ा किया जा सकता है।

 

 

आगे पढ़े - सेनेटरी नेपेकिन के बिजनेस मॉडल के बारे में...

 

जयश्री इंडस्ट्रीज का बनाया बिजनेस मॉडल

 

अरूणाचलम मुरूगनाथन की कंपनी जयश्री इंडस्ट्रीज एक दिन में 1,600 सेनेटरी नैपकिन बनाने का बिजनेस प्लान बनाया है। यानी साल में 4.80 लाख नैपकिन बनेंगे। मार्केट में 8 नैपकिन का पैकेट मार्केट में 40 रुपए से 108 रुपए में मिलता है। इस कारोबार के लिए फाइंनेंशियल इंस्टीट्यूशन या बैंक के जरिए आसानी से लोन मिल जाएगा।

 

प्लांट और मशीनरी में इतना आएगा खर्च

 

सेनेटरी नैपकिन बनाने के लिए मशीनें करीब 1.50 लाख रुपए में आ जाएगी। इसमें नैपकिन बनाने के लिए जरूरी करीब सात मशीनें आएंगी।

 

 

ऑपरेटिंग खर्च

 

अगर आपके घर में एक कमरा खाली है तो ये कारोबार आप घर में ही शुरू कर सकते हैं। इससे आपका रेंट का खर्च नहीं आएगा। इसके अलावा 5 सेमी स्किल्ड लेबर का खर्च करीब 25,000 रुपए आएगा। बिजली का बिल महीने का 1,500 रुपए अन्य एडमिनिस्ट्रेटिव खर्च मिलाकर महीने का 30,000 रुपए (इसमें लेबर, बिजली और अन्य खर्च शामिल  है।) खर्च आएगा।

 

 

रॉ मैटेरियल कॉस्ट

 

वुड पल्प, टॉप लेयर, बैक लेयर, गम और पैकिंग कवर मिलाकर प्रति दिन का रॉ मैटेरियल का कॉस्ट 2,000 रुपए आएगा। यानी अगर आप रोज इस रॉ मैटेरियल से 1,600 नैपकिन से करीब 8 पैड के 200 पैकेट बना लेंगे। इसमें आपकी प्रति पैकेट कॉस्ट वेस्टेज मिलाकर करीब 10 रुपए आएगी।

 

22 रुपए में मार्केट पर बेचने पर होगा 50 फीसदी का प्रॉफिट

 

पैकेट पर 11 फीसदी प्रॉफिट मिलाकर आप मार्केट में सेनेटरी नैपकिन मार्केट में 22 रुपए में बेच सकते हैं। इससे आपको महीने में 58,725 रुपए का कुल प्रॉफिट होगा। सभी कॉस्ट घटाने पर आपको करीब 22,225 रुपए का शुद्ध लाभ होगा। यानी आपका कुल प्रॉफिट मार्जिन 50 फीसदी होगा।

 

 

आगे पढ़ें - मुद्रा बैंक ने भी ऐसे बनाया है बिजनेस मॉडल

 

 

15 हजार रुपए में शुरू हो जाएगा यह बिजनेस

 

- अगर आपके पास सिर्फ 15 हजार रुपए हैं तो आप सेनेटरी नैपकिन बनाने की यूनिट शुरू कर सकते हैं।

 

- इस प्रोजेक्‍ट पर आपका लगभग 1 लाख 50 हजार रुपए का इंवेस्‍टमेंट होगा और 1 लाख 35 हजार रुपए आपको मुद्रा स्‍कीम के तहत लोन मिल जाएगा।

 

- मुद्रा स्‍कीम के तहत आप फिक्‍सड कैपिटल लोन के रूप में 73 हजार रुपए और वर्किंग कैपिटल लोन के तौर पर 57 हजार रुपए के लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं।

 

- मुद्रा स्‍कीम की प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल रिपोर्ट के मुताबिक यदि आप एक दिन में 1440 सेनेटरी नैपकिन तैयार करते हैं और एक पैकेट में 8 नैपकिन रखते हैं तो आप एक साल में 54,000 पैकेट तैयार कर लेंगे।

 

- अगर आप एक पैकेट की कीमत 13 रुपए रखते हैं तो आप साल भर में 7 लाख 2 हजार रुपए की सेल्‍स कर लेंगे।

 

- इतनी सेल्‍स में सभी खर्चे निकालने के बाद आप कम से कम 1 लाख 80 हजार रुपए बचा सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट