विज्ञापन
Home » Industry » Companiesdelhi kolkata train will be high speed

अब यात्रा के दौरान नहीं रुलाएगी ट्रेन, यात्री बचा पाएंगे 6 घंटे तक का समय

ट्रेन की स्पीड को अपडेट करने के लिए रेलवे ने कैबिनेट में प्रस्ताव भेजा है।

1 of

नई दिल्ली। अगर आप भी दिल्ली से मुंबई और कोलकाता ट्रेन से सफर करते हैं तो यह खबर आपके लिए है। जल्द ही अब इन दो शहरों में जाने के लिए यात्रियों को कम समय लगेगा। इन शहरों के बीच रेल सफर को जल्द ही तेज रफ्तार मिलने वाली है। रेलवे ने बढ़ती मांग के चलते इन दोनों ही शहरों में ट्रेन की रफ्तार को बढ़ाने का फैसला किया है। सूत्रों की माने तो इन रूट्स पर ट्रेन की स्पीड को अपडेट करने के लिए रेलवे ने कैबिनेट में प्रस्ताव भेजा है। प्रस्ताव के अनुसार, इन दोनों की शहरों के रूट से घुमावदार रास्तों को हटाने के बारे में सोचा जा रहा है।

इसके साथ ही आउटर पटरियों को सेमी हाईस्पीड ट्रेन के हिसाब से सक्षम बनाया जाएगा। अभी इन रूट्स पर ट्रेन 80 से 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की स्पीड से चलती है। जबकि रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन (RDSO) इन रूट्स पर राजधानी की स्पीड बढ़ाने के लिए सफल ट्रायल रन कर चुका है। उम्मीद जताई जा रही है कि अगर RDSO को रेलवे बोर्ड की ओर से मंजूरी मिल जाती है तो दिल्ली से मुंबई के सफर में लगने वाले समय में 6 घंटे की कमी आएगी। इन सब के होने से पहले रेलवे को कैबिनेट की मंजूरी का इंतजार है। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें कुंभ में इंडियन रेलवे देगा ये फ्री सर्विस

चलेंगी 800 स्पेशल ट्रेन 

अगले साल जनवरी में प्रयागराज में लगने वाले कुंभ मेले के लिए इंडियन रेलवे युद्धस्तर पर तैयारी कर रहा है। जहां 800 नई स्पेशल ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया गया है, वहीं कई तरह के सर्विस चार्ज हटा दिए गए हैं। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर यह जानकारी दी है। गोयल ने फेसबुक वॉल पर पोस्ट किया है कि अगले महीने प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ को ध्यान में रखते हुए रेलवे 800 स्पेशल ट्रेन चलाने जा रही है, साथ ही 10 स्टेशनों को कुंभ मेले की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है जिससे श्रद्धालुओं को आवगमन में काफी सुविधा होगी। इसमें 622 मेला स्पेशल ट्रेनें अकेले उत्तर मध्य रेलवे, इलाहाबाद जोन की होंगी। ये ट्रेनें 13 जनवरी से छह मार्च के बीच चलेंगी। 

 

आगे पढ़ें...

 

हटाए ये चार्ज 
- अब तक रेलवे की ओर से सेकेंड क्लास (साधारण, मेल व एक्सप्रेस) के लिए 5 रुपए मेला चार्ज लिया जाता था, लेकिन अब यह सर्विस फ्री कर दी गई है। 
- इसी तरह अब तक रेलवे स्लीपर (साधारण, मेल व एक्सप्रेस) सेवा लेने के लिए 10 रुपए मेला चार्ज लेता था, लेकिन इस चार्ज भी हटा दिया गया है। 
- रेलवे ने एसी चेयर कार व एसी थर्ड क्लास के लिए लगाए जाने वाले मेला चार्ज को भी हटा दिया है। पहले इसके लिए 20 रुपए लिए जाते थे। 
- रेलवे अब तक प्रथम श्रेणी (साधारण, मेल व एक्सप्रेस) व एसी सेकेंड क्लास में सफर करने पर 30 रुपया मेला चार्ज वसूलता है, लेकिन रेल मंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक, यह चार्ज भी हटा दिया गया है। 
- सबसे अधिक मेला चार्ज एसी फर्स्ट क्लास में सफर करने पर लिया जाता था। इसके लिए 40 रुपए प्रति टिकट वसूले जाते थे, लेकिन मोदी सरकार ने यह चार्ज भी खत्म कर दिया है।  

 

पीयूष गोयल ने क्या कहा 
पीयूष गोयल ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा है कि श्रद्धालुओं की धार्मिक आस्था को ध्यान में रखते हुए और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने रेलवे द्वारा वसूले जा रहे मेला अधिशुल्क को समाप्त करने का निर्णय लिया है, जिससे कुम्भ और ऐसे सभी मेलों में लगाए जा रहे अधिशुल्क से यात्रियों को राहत मिलेगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन