Advertisement
Home » Industry » CompaniesCyber ​​attack on PNB bank account holders

PNB पर साइबर हमला, कई खाताधारकों के खाते से पैसे उड़ाए

शनिवार को सुबह 6 बजे से लेकर 9 बजे तक लोगों के लाखों रुपए एटीएम से निकाल लिए गए।

1 of

नई दिल्ली। दिल्ली में हाल ही में पंजाब  नेशनल बैंक की ब्रांच से महज तीन घंटे में लाखों की रकम निकाल ली गई। यह घटना दिल्ली के सराय रोहिल्ला के शास्त्री नगर इलाके की है। सबसे ज्यादा हैरानी की बात तो यह है कि जिस समय एटीएम से यह पैसे निकले उस समय लोगों के एटीएम उनकी जेब में मौजूद थे और सभी लोग अलग-अलग जगह पर थे। आपको बता दें कि यह घटना शनिवार की है। शनिवार को सुबह 6 बजे से लेकर 9 बजे तक लोगों के लाखों रुपए एटीएम से  निकाल लिए गए। पहले तो लोगों को लगा  कि यह गड़बड़ सिर्फ उनके साथ हुई है लेकिन शनिवार को बैंक बंद होने के कारण लोगों ने सोमवार तक का इंतजार किया। सोमवार को बैंक में लोगों की भीड़ लगी हुई थी। जिसमें सभी ऐसे लोग थे जिनके अकाउंट से पैसे निकले हैं। पुलिस के लगभग 20 लोगों को शिकायत दर्ज की है। 

हैरानी की  बात तो यह है  कि जिन लोगों के पास नई चिप वाले एटीएम थे वे लोग भी ठगी का शिकार हुए हैं। पंजाब नेशनल बैंक के ब्रांड मैनेजर डीके श्रीवास्तव ने बताया  कि बैंक ने बैंकिंग साइबर सेल को इसका ब्यौरा भेज दिया है। पुलिस भी इस मामले की जांच कर रही है। डीके श्रीवास्तव ने  बैंक के सभी ग्राहकों को जांच का भरोसा दिया है। इस पर डीके श्रीवास्तव ने यह भील कहा कि हो सकता है कार्ड की क्लोनिंग हुई हो। सोमवार को जब बैंक को इस बात की खबर मिली तो उन्होंने ग्राहकों से आग्रह किया कि वह कस्टमर केयर पर अपनी शिकायत दर्ज कराएं। और उसके बाद थाने में शिकायत दर्ज करके वहां से रिसीविंग लेकर बैंक के पास आएं। इसके बाद ग्राहकों को बैंक की तरफ से इंश्योरेंस क्लेम फॉर्म दिया गया। क्योंकि हर कार्ड का एक लाख का इंश्योरेंस होता है। यह होने के बाद जांच की जाएगी की कार्ड धारक के पास था या नहीं। यदि कार्ड धारक के पास ही हुआ और फिर भी पैसे निकाले नगए तो यह मामला क्लेम के भीतर आएगा।  

 

अगली स्लाइड में पढ़ें कैसे आपके अकाउंट को हैक करते हैं  हैकर्स

ATM हैक करने के लिए हैकर्स करते हैं की तरीकों का इस्तेमाल
दिल्ली जैसे बड़े शहरों में एटीएम फ्रॉड से जुड़ी घटनाएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं। शहरों में कई ऐसे गैंग हैं जो इन वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। जिससे अब लोगों का पैसा बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। पैसे चुराने के लिए यह गैंग ऐसे -ऐसे  पैंतरे आज़माते हैं कि जिसका आपको एहसास तक नहीं होता। हाल ही में दिल्ली में एटीएम फ्रॉड से जुड़ा एक केस सामने आया है जहां चोरों ने पूरे एटीएम को ही हैक कर लिया। यह वाकया दिल्ली के चिराग दिल्ली में हुआ है। जानकारों की मानें तो चोरों ने एटीएम से पैसे लूटने के लिए माचिस की तीली, ग्लू स्टिक, थर्मो कैम, शोल्डर सर्फिंग आदि तरीको का इस्तेमाल किया जाता है। वहीं साइबर एक्सपर्ट प्रबेश चौधरी ने दावा किया है कि दिल्ली में हाल ही में हुए पीएनबी के एटीएम हैक केस में स्कीमर ट्रिक का इस्तेमाल किया गया था। स्कीमर ट्रिक का इस्तेमाल इन दिनों सभी एटीएम हैक के लिए किया जा रहा है। 

 

शोल्डर सर्फिंग के जरिए भी पता लगाया जा सकता है एटीएम पिन
क्रिप्टस साइबर सिक्यॉरिटी एजेंसी के डायरेक्टर ने स्कीमर ट्रिक की जानकारी देते हुए कहा कि कोई भी एटीएम इस बात पर निर्भर करता है कि क्लोनिंग कार्ड कैसा है। उन्होंने कहा कि यदि आप मुझे नया एटीएम देते हो और  मेरे पास खाली कार्ड है तो आसानी से क्लोनिंग की जा सकती है। इसके  लिए एक डिवाइस होता है जिससे उसे स्कैन कर ब्लैंक कार्ड में डाला जाता है। इसके बाद एटीएम पिन की जरूरत होती है जिसे फ्रॉड कॉल के जरिए भी लिया जा सकता है। और  शोल्डर सर्फिंग के जरिए भी पता लगाया जा सकता है।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें  हैकर्स कैसे पता लगाते है आपके एटीएम पिन का

 

स्कीमर ट्रिक से एटीएम हो जाता है क्लोन 
उन्होंने कहा कि ऐसा कई बार होता है जब लोग एटीएम पर जाते हैं और उन्हे ट्रांजैक्शन फेल दिखाई देता है लेकिन कुछ ही देर बार उनके पास ट्रांजैक्शन सक्सेसफुल का मेसेज आता है। ये सभी चीजें स्कीमर डिवाइस की मदद से की जाती है। इस डिवाइस के कारण एटीएम क्लोन हो जाता है और एटीएम मशीम में मौजूद नंबर प्लेट के ऊपर एक फैक नंबर प्लेट लगा दी जाती है, जिसके कारण कोई भी व्यक्ति जब एटीएम मशीन में अपना पिन टाइप करता है तो यह फेक नंबर प्लेट उसके पिन को कलेक्ट कर लेता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement