बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companies15 जनवरी से AC खरीदना हो सकता है महंगा, कंपनियां बढ़ाएंगी 10% तक कीमत

15 जनवरी से AC खरीदना हो सकता है महंगा, कंपनियां बढ़ाएंगी 10% तक कीमत

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल कंपनियां 15 जनवरी से एसी के दाम 7 से 10 फीसदी तक बढ़ाने जा रही है।

1 of

नई दिल्ली. कंज्‍यूमर ड्यूरेबल कंपनियां 15 जनवरी से एसी के दाम 7 से 10 फीसदी तक बढ़ाने जा रही है। कंपनियों के मुताबिक बढ़ती इन्पुट कॉस्ट को देखते हुए ऐसा फैसला किया है। हालांकि, कंज्‍यूमर ड्यूरेबल प्रोडक्ट के दाम कंपनियां नहीं बढ़ाएंगी। डिमांड को देखते हुए दूसरे प्रोडक्ट की सेल ज्यादा से ज्यादा करने पर फोकस कर रही है। वैसे भी जनवरी का महीना एसी के सेल के लिहाज से इंडस्ट्री के लिए लो-डिमांड वाला रहता है जिसकी वजह से उनके लिए हर साल इस सीजन में दाम बढ़ाना आसान होता है।

 

 

केवल एसी के बढ़ेंगे दाम

 

विजय सेल्स के एमडी नीलेश गुप्ता ने moneybhaskar.com को बताया कि कंपनियों ने 15 जनवरी से एसी के प्राइस बढ़ाने की जानकारी दे दी है। कंपनी कीमतें स्टार रेटिंग के मुताबिक 7 से 10 फीसदी तक बढ़ा सकती है। अभी एसी की सेल का ऑफ सीजन है जिसके कारण कंपनियां अभी प्राइस बढ़ा रही हैं ताकि वह गर्मियों के पीक सीजन में दाम बढ़ाने से बच सके।

 

कंपनियों के मुताबिक बढ़ी इन्पुट कॉस्ट

 

एलजी के वरिष्ठ अधिकारी ने moneybhaskar.com को बताया कि बीते साल कॉपर की कीमत 5,500 डॉलर प्रति टन थी जो इस साल बढ़कर 6,800 डॉलर प्रति टन हो गई है। एसी में 70 फीसदी से ज्यादा कॉपर का इस्तेमाल होता है। वीडियोकॉन के एक अधिकारी ने moneybhaskar.com को बताया कि डॉलर महंगा होने, कॉपर और स्टील की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण कंप्‍यूमर ड्यूरेबल कंपनियों की लागत बढ़ गई है। इसके कारण कंपनी एसी पर कुछ फीसदी दाम बढ़ा रही है।

 

नए साल पर कीमतें बढ़ाने का है ट्रेंड

 

अगर बीते पांच साल का ट्रेंड देखें तो नए साल में ज्यादातर कंज्‍यूमर ड्यूरेबल कंपनियां 2 से 5 फीसदी तक प्रोडक्ट की कीमतें बढ़ाई हैं। विजय सेल्स के एमडी नीलेश गुप्ता ने moneybhaskar.com को बताया कि कंपनियां बढ़ती इनपुट कॉस्ट के कारण प्राइस बढ़ाती हैं और साल के शुरू होने पर कीमतें बढ़ाने का ट्रेंड रहा है। जीएसटी लागू होने के कारण कंपनी कीमतें नहीं बढ़ा पाई थी जबकि पुराना स्टॉक देने के लिए कंपनी को डिस्काउंट देना पड़ा था।

 

 

 

आगे पढ़ें... कितना बड़ा है कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर का मार्केट

 

 

 

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल का पीक सीजन

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट की सालाना एवरेज ग्रोथ (सीएजीआर) 14.8 फीसदी है। फ्रिज, टीवी जैसे कंज्‍यूमर ड्यूरेबल प्रोडक्ट का 65 फीसदी मार्केट अर्बन एरिया में है। इंडस्‍ट्री के 2016 तक के आंकड़ों के अनुसार, देश का रूरल कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सालाना 25 फीसदी की सीएजीआर से बढ़ रहा है। कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर की 60 फीसदी सेल शादी के सीजन में होती है। बाकी का 40 फीसदी सेल बाकी समय में होती है। ऐसे में अभी सेल के मामले में कंज्‍यूमर ड्यूरेबल का पीक सीजन चल रहा है।

 

 

 

65 हजार करोड़ का है कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर करीब 65,000 करोड़ रुपए का है। दुनिया के टेलीविजन मार्केट में इंडिया का तीसरा स्थान है। इंडिया ब्रांड एंड इक्विटी के सर्वे के मुताबिक, भारत 2025 तक दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट हो जाएगा। 

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल का पीक सीजन

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट की सालाना एवरेज ग्रोथ (सीएजीआर) 14.8 फीसदी है। फ्रिज, टीवी जैसे कंज्‍यूमर ड्यूरेबल प्रोडक्ट का 65 फीसदी मार्केट अर्बन एरिया में है। इंडस्‍ट्री के 2016 तक के आंकड़ों के अनुसार, देश का रूरल कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सालाना 25 फीसदी की सीएजीआर से बढ़ रहा है। कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर की 60 फीसदी सेल शादी के सीजन में होती है। बाकी का 40 फीसदी सेल बाकी समय में होती है। ऐसे में अभी सेल के मामले में कंज्‍यूमर ड्यूरेबल का पीक सीजन चल रहा है।

 

 

 

65 हजार करोड़ का है कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर करीब 65,000 करोड़ रुपए का है। दुनिया के टेलीविजन मार्केट में इंडिया का तीसरा स्थान है। इंडिया ब्रांड एंड इक्विटी के सर्वे के मुताबिक, भारत 2025 तक दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट हो जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट