Home » Industry » CompaniesCBI books Karol Bagh company for defrauding people of Rs 10000 crore rupees

करोलबाग का छोटा सा व्यापारी डकार गया 10 हजार करोड़ रुपए

लोगों को एक साल में पैसा डबल करने का देता था झांसा, सीबीआई के हत्थे चढ़ा

1 of

नई दिल्ली। आजकल झांसा देकर लोगों के पैसे डकारना आम हो चुका है। ऐसा ही एक  मामला हाल ही में करोल बाग में सामने आया है। सीबीआई ने गुरुवार को करोलबाग में लोगों के साथ फ्रॉड कर पैसे कमाने वाली एक कंपनी पर ताला लगा दिया। बताया जा रहा है कि इस कंपनी ने लोगों को एक साल में पैसा डबल करने का झांसा देकर 10 हजार करोड़ का फ्रॉड किया है। इस बात की जानकारी सीबीआई की तरफ से दी गई। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच की जा रही है। 


कंपनी के प्रमोटर और एसोसिएट्स के खिलाफ केस
tviexpress.com नाम की यह कंपनी दिल्ली के करोल बाग में स्थित है। फ्रॉड के तहत सीबीआई ने कंपनी के प्रमोटर और एसोसिएट्स तरुण त्रिखा, वरुण त्रिखा, वीना त्रिखा, शक्ति शरद, अनूप कुमार और कबीता गांगुली के खिलाफ केस दर्ज किया है। सीबीआई ने धोखाधड़ी, जालसाजी और सेबी के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के मामले में कंपनी को बंद कर दिया है। सीबीआई से पहले यह केस पश्चिम बंगाल की पुलिस के हाथों में था। कंपनी के खिलाफ पहली शिकायत  मुर्शिदाबाद जिले से आई थी। आरोप है कि आरोपी गैरकानूनी तरीके से शेयर ट्रेडिंग, कमोडिटी ट्रेडिंग, टूर पैकेज बुकिंग और एयर टिकटिंग का कारोबार चला रहे थे। 

 

आगे पढ़ें कंपनी ने कैसे दिया लोगों को धोखा

पैसे डबल करने का दिया झांसा
शिकायतकर्ताओं ने आरोप लगाया कि कंपनी ने पैसिफ़िक रॉयल एयरलाइंस के नाम पर उनका पैसा इकट्ठा किया था और 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेशकों के साथ फ्रॉड किया। कंपनी पर यह भी आरोप है कि उन्होंने निवेशकों को पैसा डबल करने का झांसा देकर स्कीम लेने के लिए प्रोत्साहित किया लेकिन निवेशकों को कोई पैसा नहीं दिया गया।

आगे पढ़ें कैसे तरुण त्रिखा ने किया लोगों के पैसों को हेरफेर

अलग-अलग बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया लोगों का पैसा

लोगों ने यह भी बताया कि कंपनी ने उन्हें एक सॉफ्टवेयर के बारे में भी बताया था जिसपर निवेशक अपनी इनवेस्टमेंट के बारे में जान सकते थे लेकिन वह सॉफ्टयर काम ही नहीं करता था। निवेशकों से पैसा लेने के बाद तरुण त्रिखा के निर्देशानुसार सारा का सारा  पैसा अलग-अलग बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट