बिज़नेस न्यूज़ » Industry » CompaniesMNCs की नौकरी छोड़ 4 दोस्तों ने शुरू किया बिजनेस, खड़ी कर दी 30 करोड़ की कंपनी

MNCs की नौकरी छोड़ 4 दोस्तों ने शुरू किया बिजनेस, खड़ी कर दी 30 करोड़ की कंपनी

चार दोस्तों ने मिलकर मैन्स ग्रुमिंग प्रोडक्ट पर काम कर 30 करोड़ की कंपनी खड़ी कर दी।

1 of

नई दिल्ली। चार दोस्तों ने मिलकर मैन्स ग्रूमिंग प्रोडक्ट पर काम कर 30 करोड़ की कंपनी खड़ी कर दी। शांतनु, रौनक, रोहित और दीपू चारों ही मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते थे, लेकिन चारों के सपने अलग-अलग थे। इसके बावजूद चारों एक टीम में फिट हो गए और बॉम्बे शेविंग कंपनी को एक बड़े ब्रांड के तौर पर खड़ा कर दिया। यह कंपनी शेविंग किट, शेविंग क्रीम, बीयर्ड किट जैसे प्रोडक्ट बनाती है।

 

 

 

अपनी नौकरी में थे खुश..

बॉम्बे शेविंग कंपनी के सीईओ और फाउंडर शांतनु देशपांडे अपनी मैकेंजी की नौकरी से काफी खुश थे, लेकिन एक दोस्त से बातचीत के बाद सब कुछ बदल गया। उनका वह दोस्त न्यूयॉर्क बेस्ड शेविंग ब्रांड हैरी में इंटर्नशिप कर रहा था। तब शांतनु के दिमाग मे ब्लेड, शेविंग क्रीम और मैन्स ग्रूमिंग को लेकर कुछ करने का प्लान किया। उन्हें ऐसा लगा कि यह उनके लिए इंडिया में एक बड़ा मौका साबित हो सकता है।

 

 

मैन्स को नहीं पसंद होता शेव करना

उन्होंने अपने परिवार, फ्रेंड्स और जनरल कस्टमर से बात की और यह बात सामने आई कि किसी को भी शेव करना पसंद नहीं होता। यहां तक कि उन्हें शेव करने का रोजाना का काम भी पसंद नहीं होता। अगर उनके पास शेव नहीं करने का ऑप्शन हो तो वह कभी शेव नहीं करेंगे। शांतनु को समझ में आ गया था कि उनके लिए यहां एक मौका है। एक साल तक काफी मार्केट रिसर्च की और कई एफएमसीजी कंपनियों से भी बात की। तब उन्हें लगा कि इंडस्ट्री में एंट्री करने की यह सही टाइम है।

 

 

अपने दोस्तों की बनाई टीम

शांतनु ने अपने ही दोस्तों की एक टीम बनाई। वह अपने स्कूल फ्रेंड रौनक मनौट से मिले, जो एक मल्टीनेशनल कंपनी के सोशल स्ट्रैटजी डायरेक्टर था। अपने दूसरे दोस्त रोहित जायसवाल को जोड़ा जो क्रॉम्पटन ग्रीव्स में चैनल हैड थे। तीसरे दोस्त मैकेन्जी में सीनियर एनालिस्ट दीपू पनिकर को साथ जोड़ा।

 

आगे पढ़ें- सभी के थे अलग-अलग सपने

 

सभी के थे अलग-अलग सपने

उनका और उनके सभी दोस्तों के सपने अलग-अलग थे। रौनक अपना ब्रांड स्क्रैच से शुरू करना चाहते थे। रोहित एक एफएमसीजी कंपनी खोलना चाहते थे। दीपू का फोकस इंजीनियरिंग और डिजाइन पर ज्यादा था। वे चारों एक अच्छी टीम बना सकते थे। कई महीनों के फोन कॉल्स, बिजनेस मॉडल और मार्केट स्ट्रैटजी के बाद दिल्ली में कंपनी शुरू हो गई। तब उन्होंने अक्टूबर 2015 में बॉम्बे शेविंग कंपनी की शुरुआत की।

 

 

आज हैं 12 हजार कस्टमर

आज बॉम्बे शेविंग कंपनी के 12 हजार कस्टमर हैं। अमेजन ने इनको ग्लोबल लॉन्च के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया। मैन्स ग्रूमिंग स्टार्टअप बॉम्बे शेविंग कंपनी के फिलहाल 12 हजार कस्टमर हैं। उन्हें हाल में ही 2.5 मिलियन डॉलर यानी करीब 17 करोड़ रुपए की फंडिंग मिली है। बॉम्बे शेविंग कंपनी का रेवेन्यू करीब 30 करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है।

 

 

सब कुछ नहीं रहा आसान

यह सब इतना आसान नहीं था, क्योंकि सबसे बड़ी चुनौती प्रोडक्ट फॉर्मूला और डिजाइनिंग थी। उनकी टीम ने वर्ल्ड क्लास एक्सपर्ट और मैन्युफैक्चरर्स से बात की। उन्होंने खूशबू, रॉ मैटेरियल, केमिकल इंजीनियर्स, इंडस्ट्रियल डिजाइनर और पैकेजिंग इनोवेटर्स से बातचीत की। तब उन्होंने अपने प्रोडक्ट बनाए।

 

आगे पढ़ें - 95 फीसदी होती है ऑनलाइन सेल

 

 

 

प्रोफेशनल की तरह किया काम

उनकी टीम ने एक स्टार्टअप की तरह काम न करके प्रोफेशनल्स की तरह काम किया। उन्होंने शुरुआत में रेजर डिजाइन किया और उसे फ्री ऑफ कॉस्ट बेचा। तब उन्हें एहसास हुआ कि उनके बॉक्स ट्रांसपोर्टेशन का वजन नहीं उठा पा रहे हैं। तो उन्होंने अपने आउट बॉक्स को मजबूत बनाया। उन्होंने अपने कोर डिजाइन और फॉर्मूला का ट्रेडमार्क कराया हुआ है। शुरआत में उनके पास 6 लोगों की टीम थी, लेकिन अब उनके पास 20 लोगों की टीम है।

 

 

95 फीसदी होती है ऑनलाइन सेल

अभी कंपनी की 95 फीसदी सेल ऑनलाइन होती है और बाकी सैलून और स्टोर्स के जरिए होती है। इंडिया में बीयर्ड ग्रूमिंग प्रोडक्ट के 2.5 करोड़ यूजर्स हैं और मार्केट का साइज करीब 2,000 करोड़ रुपए का है। उनके अलावा मैन ग्रूमिंग इंडस्ट्री में गुड़गांव की मैन कंपनी, अहमदाबाद की बीयर्डो (जिसे मैरिको ने खरीद लिया है।) और चंडीगढ़ की लेट्स शेव है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट