इन 4 भारतीय मूल की महिलाओं का टेक्नोलॉजी की दुनिया में बजता है डंका

list list
Kamakshi Sivaramakrishnan Kamakshi Sivaramakrishnan
Padmasree Warrior Padmasree Warrior
Komal Mangtani Komal Mangtani
Neha Narkhede Neha Narkhede

4 Indian-origin women in Forbes list of 50 female technology moguls: जब भी टेक्नोलॉजी की बात आती है तो हम सभी के दिमाग में केवल पुरुषों का ही नाम आता है। क्योंकि हम सभी सोचते हैं कि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में केवल पुरुष ही नाम कमा सकते हैं। वहीं महिलाओं के प्रति लोगों की यह धारणा है कि वह इस क्षेत्र में पुरुषों से मुकाबला नहीं कर सकती। लेकिन हाल ही में 4 महिलाओं ने लोगों की इस धारणा को गलत साबित करते हुए पूरे विश्व में एक खास पहचान हासिल की है।

Money Bhaskar

Dec 05,2018 04:53:00 PM IST

नई दिल्ली। जब भी टेक्नोलॉजी की बात आती है तो हम सभी के दिमाग में केवल पुरुषों का ही नाम आता है। क्योंकि हम सभी सोचते हैं कि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में केवल पुरुष ही नाम कमा सकते हैं। वहीं महिलाओं के प्रति लोगों की यह धारणा है कि वह इस क्षेत्र में पुरुषों से मुकाबला नहीं कर सकती। लेकिन हाल ही में 4 महिलाओं ने लोगों की इस धारणा को गलत साबित करते हुए पूरे विश्व में एक खास पहचान हासिल की है। जी हां, हाल ही में फोर्ब्स ने अमेरिका में टेक्नोलॉजी सेक्टर की 50 दिग्गज महिलाओं की एक लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में हैरान करने वाली बात यह है कि इसमें पहले चार नंबर पर भारतीय महिलाओं के नाम शामिल है। भारत की इन चार महिलाओं ने सभी को गलत साबित करते हुए यह दिखाया है कि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में महिलाएं पुरुषों से कहीं ज्यादा आगे हैं।

फोर्ब्स की इस लिस्ट में - आईबीएम की मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिनी रोमेटी और नेटफ्लिक्स की कार्यकारी एनी एरोन शामिल हैं। सूची में सिस्को की पूर्व मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी पद्मश्री वारियर, उबर की वरिष्ठ निदेशक कोमल मंगतानी, कोंफ्लूएंट की सह-संस्थापक और मुख्य तकनीकी अधिकारी नेहा नारखेड़े, पहचान प्रबंधन कंपनी ड्राब्रिज की संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कामाक्षी शिवराम कृष्णन शामिल हैं। इन चारों भारतीय महिलाओं ने कहा कि उन्होंने यूं ही इस क्षेत्र में अपनी पहचान नहीं बनाई है। इसके लिए उन्होंने बहुत मेहनत की है। इन महिलाओं के आगे बहुत सी ऐसी परिस्थितियां आई जब इनके पैर डगमगा गए लेकिन फिर भी इन चारों महिलाओं ने कभी हार नहीं मानी और हर परिस्थितियों का जमकर सामना किया। इनके कठोर परिश्रम का फल यह मिला कि आज ये महिलाएं हर पुरुष, महिला, युवा के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गई हैं। आइए जानते हैं इन महिलाओं के बारे में कुछ खास बातें-

अगली स्लाइड में पढ़ें कामाक्षी शिवराम कृष्णन के बारे में

कामाक्षी शिवराम कृष्णन: पहचान प्रबंधन कंपनी ड्राब्रिज की संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कामाक्षी शिवराम कृष्णन की कंपनी बड़े स्तर पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करती है। यह डिवाइस लोगों की पहचान करने में सक्षम है। साउथ इंडियन घर में जन्मी कामाक्षी ने बताया कि उनके घर में उनसे पहले कोई भी व्यवसायी नहीं था। वह भी बस पढ़ाई करके अपना करियर बनाना चाहती थी। लेकिन उन्होंने मैथमैटिक्स फॉर इंजीनियर्स का कोर्स किया। 2016 में कामाक्षी ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था, मैं अपने पसंदे के रास्ते चुनती हूं। मैनें लव मैरिज की जबकि उनके घर में पहले किसी ने यह नहीं किया था और तो और मैनें अपनी मकंपनी खोलने के लिए गूगल की अच्छी खासी नौकरी छोड़ दी।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें पद्मश्री वारियर के बारे में

पद्मश्री वारियर: सिस्को की पूर्व मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी पद्मश्री वारियर ने कहा उन्हें कविताएं लिखने का काफी शौक है और वह खाली समय में पेंटिंग करना पसंद करती हैं। पद्मश्री वारियर अभी चीन की कार कंपनी नियो की अमेरिकी हैड हैं और 17 दिसंबर को अपने पद से इस्तीफा दे देंगी। पद्मश्री वारियर ने आईआईटी दिल्ली से इंजीनियरिंग की पढ़ाी की थी। उनके घर के हासलात काफी खराब थे लेकिन स्कॉलरशिप मिलने के कारण उन्हें अमेरिका जाने का मौका मिला। पद्मश्री  ने आगे कहा कि महिलाएं अगर चाहें तो वह कुछ भी कर सकती हैं। उनके पिता के पास इतने पैसे भी नहीं ते कि वह आने-जाने की टिकट करवा पाते इसलिए उन्होंने केवल जाने की टिकट बुक कराई। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें कोमल मंगतानी के बारे में

कोमल मंगतानी: उबर की वरिष्ठ निदेशक कोमल मंगतानी के घर का माहौल काफी रुढ़िवादी था। अपने एक इंटरव्यू में कोमल ने बताया, 'यह 80 और 90 के दशक की बात थी। उस समय कम्प्यूटर बहुत मुश्किल से मिलते थे। मुझे कम्प्यूटर पर घंटों वक्त बिताना अच्छा लगता था। मैं पेपर पर ही सॉप्टवेयर प्रोग्राम लिखकर उसे लोकल कम्प्यूटर की दुकान पर चलाकर देखती थी। मुझे यह काम काफी मजेदार लगा।'

 

अगली स्लाइड में पढ़ें नेहा नारखेड़े के बारे में

नेहा नारखेड़े: नारखेडे ने पुणे विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है। वह लिंक्डइन में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थीं और उन्होंने अपाचे काफका को विकसित करने में अहम भागीदारी निभायी। उन्होंने अपने लिंक्डइन के एक सहयोगी के साथ कोंफ्लूएंट की स्थापना की जो डाटा आकलन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी है। इसके ग्राहकों में गोल्डमैन साक्स, नेटफ्लिक्स और उबर जैसी कंपनियां शामिल हैं।

X
listlist
Kamakshi SivaramakrishnanKamakshi Sivaramakrishnan
Padmasree WarriorPadmasree Warrior
Komal MangtaniKomal Mangtani
Neha NarkhedeNeha Narkhede
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.