Home » Industry » Companiesगौतम अडानी, चाइनीज बैंक, ऑस्‍ट्रेलिया माइन प्रोजेक्‍ट, लोन, इनकार- 2 China banks refuse loan to Adanis Carmichael coal mine project in Australia

अंबानी के बाद अब अडानी के पीछे पड़ा चीन, कहा- नहीं रखना चाहते रिश्‍ता

भारत ही नहीं दुनिया भर की कंपनियों को परेशान करने के मामले में चीन का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है।

1 of

नई दिल्‍ली. अनिल अंबानी के बाद चीन के सरकारी बैंक अब गौतम अडानी के पीछे पड़ गए हैं। चीन सरकार के 2 बैंकों ने ऑस्‍ट्रेलिया में अडानी के प्रोजेक्‍ट को फाइनेंस करने से कदम पीछे खींच लिए है। इससे पहले चाइना डेवेलपमेंट बैंक (CDB) ने अनिल अंबानी की कंपनी आर- कॉम के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी का केस दर्ज करा दिया था। बता दें कि भारत ही नहीं दुनिया भर की कंपनियों को परेशान करने के मामले में चीन का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है।  

 

अडानी के माइन प्रोजेक्‍ट को लोने देने से मना किया 
चीन के 2 बड़े सरकारी बैंकों ने अडानी के ऑस्‍ट्रेलिया स्थित कॉर्मिशेल कोल माइन प्रोजेक्‍ट को फंड करने से मना कर दिया है। यह प्रोजेक्‍ट करीब 16.5 अरब डॉलर का है। हाल में इस प्रोजेक्‍ट को ऑस्‍ट्रेलिया की सरकार ने मंजूरी दी है। अडानी इस प्रोजेक्‍ट के पहले चरण के लिए मार्च 2018 तक 2 अरब ऑस्‍ट्रेलियाई डॉलर का फंड जुटाने की कोशिश में हैं। इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्शियल बैंक ऑफ चाइना (ICBC) ने अपने बयान में कहा कि अडानी के इस प्रस्‍तावित प्रोजक्‍ट को फंड करने का उसका कोई इरादा नहीं है। बैंक का दावा है कि वह ग्रीन फाइनेंसिंग के लिए प्रतिबद्ध है और इसे अहमियत देता है। बता दें कि पर्यावरण चिंताओं और विरोध के चलते यह प्रोजेक्‍ट लंबे समय से लटका हुआ था।  

 

आगे पढ़ें- नहीं रखना चाहते हैं रिश्‍ता 

 

 

 

नहीं रखना चाहते रिश्‍ता 
इससे पहले चाइनीज कंस्‍ट्रक्‍शन बैंक ने भी इस प्रोजेक्‍ट को फंड देने से मना कर दिया था। बैंक ने कहा कि वह अडानी के इस प्रोजेक्‍ट से प्रत्‍यक्ष-परोक्ष किसी भी तरह का रिश्‍ता नहीं रखना चाहता। बैंक ने कहा कि वह न तो इस परियोजना के साथ जुड़ा हुआ है और न ही उसका आगे जुड़ने को कोई इरादा है। फिलहाल इस बारे में कुछ भी बोलने से अडानी ग्रुप ने इनकार किया है। इससे पहले क्‍वींसलैंड की मुख्‍य विपक्षी पार्टी ने कहा कि वह इस प्रोजेक्‍ट का विरोध करेगी। यह प्रोजेक्‍ट ऑस्‍ट्रेलिया के क्‍वींसलैंड राज्‍य में ही स्थित है। दोनों बैंकों के इस कदम का उन लोगों ने स्‍वागत किया है, जो इस प्रोजेक्‍ट का विरोध कर रहे थे। 

 

 

अडानी ग्रुप के  लिए बड़ा झटका 
चाइनीज बैंकों के इस कदम को अडानी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। अडानी ग्रुप इस प्रोजेक्‍ट में 2010 में घुसा था। शुरू से विरोध के चलते यह प्रोजेक्‍ट लंबे समय से लटका रहा। हाल में इसे मंजूरी मिल पाई। अब इस प्रोजेक्‍ट की फाइनेंसिंग को लेकर सवाल खड़ हो रहे हैं। इससे पहले भी ऑस्‍ट्रेलिया सरकार और यूरोप अमेरिका के कई अन्‍य फाइनेंस इंस्‍टीट्यूशन्‍स भी इस प्रोजेक्‍ट को फंड करने से इनकार कर चुके हैं। ऐसे में ये दोनों चाइनीज बैंक ही उनकी आखिरी उम्‍मीद थे। उनके इनकार के बाद अडानी को बड़ा झटका लगा है। 

 

 

चीन बैंक ने अंबानी की कंपनी के खिलाफ किया केस 
इससे पहले चाइना डेवेलपमेंट बैंक (CDB) ने रिलायंस कम्‍युनिकेशन के खिलाफ इनसॉल्वेंसी का केस दर्ज कराया था। अनिल अंबानी की कंपनी आर-कॉम को CDB के 9000 करोड़ रुपए का कर्ज चुकाना था। कंपनी कर्ज चुकाने में नाकाम रही, इसीलिए CDB ने यह मामला दर्ज कराया है। CDB पहली ऐसी लेंडर है, जिसने आर-कॉम के खिलाफ इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी (IBC) के तहत ऐसा कदम उठाया है। रिपोर्ट के मुताबिक CDB के इस मामले की सुनवाई नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) जल्‍द कर सकता है। शुक्रवार को ही बैंक ने NCLT के मुंबई बेंच में पिटीशन दायर की थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट