विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesIndia needs to fix missing links in farm-to-fork value chain, reduce food wastage: President

खाने की बर्बादी पर राष्ट्रपति चिंतित, कहा-टेक्नोलॉजी का बढ़े यूज

रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है।

India needs to fix missing links in farm-to-fork value chain, reduce food wastage: President

India needs to fix missing links in farm-to-fork value chain reduce food wastage  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश में खाने की बर्बादी पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि फूड प्रोसेसिंग और अन्य टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से इसे रोकने पर जोर दिया। ऑल इंडिया फूड प्रोसेसर एसोसिएशन (AIFPA) में रामनाथ कोविंद ने कहा कि किसानों को उनके उत्पादन के लिए क्या मिलता है और उपभोक्ता क्या भुगतान करते हैं इसमें "पर्याप्त" अंतर है। इस अंतर को कम करने की बहुत जरूरत है।

 

 

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश में खाने की बर्बादी पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि फूड प्रोसेसिंग और अन्य टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से इसे रोका जा सकता है। ऑल इंडिया फूड प्रोसेसर एसोसिएशन (AIFPA) में रामनाथ कोविंद ने कहा कि किसानों को उनके उत्पादन के लिए क्या मिलता है और उपभोक्ता क्या भुगतान करते हैं इसमें "पर्याप्त" अंतर है। इस अंतर को कम करने की बहुत जरूरत है।

 

राष्ट्रपति कोविंद ने दिया चार-आयामी दृष्टिकोण का सुझाव

इसके साथ ही राष्ट्रपति कोविंद ने फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री में किए जाने वाले खाने की बर्बादी को रोकने पर भी जोर दिया। कोविंद ने कहा कि भारत आज भोजन की कोई कमी नहीं है। और जब कई कृषि वस्तुओं और फूड प्रोसेसिंग की बात आती है, तो हमारे पास सरप्लस मौजूद हैं। हम वैश्विक बाजार के बहुत बड़े हिस्से पर नियंत्रण रखते हैं। यह सही वक्त है कि हम और अधिक आर्थिक फायदे पाने के लिए अपने प्रयासों को बढ़ावा दें। इसमें किसानों का भी फायदा होगा। इसके साथ ही रामनाथ कोविंद ने कृषि और फूड प्रोसेसिंग सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए चार-आयामी दृष्टिकोण का सुझाव भी दिया।

 

राष्ट्रपति कोविंद ने जताई खाने की बर्बादी के प्रति चिंता

उन्होंने आगे कहा कि सबसे पहले हमें फार्म से फोर्क के वैल्यू तेन के बीच लापता लिंक्स को ठीक करना होगा। इसके साथ ही किसानों को अपनी फसल के लिए क्या मिलता है और उपभोक्ता कितना भुगतान करता है इसका पता होना बहुत जरूरी है। खाने की बर्बादी के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए राष्ट्रपति राष्ट्रपति ने कहा कि यह एक वैश्विक समस्या है क्योंकि न केवल कृषि क्षेत्रों में बल्कि फूड प्रोसेसिंग उद्योग में भारी बर्बादी हो रही है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि 1.23 लाख करोड़ डॉलर का भोजन हर साल फेंक दिया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन