Home » Industry » Companiesgovernment will make wood village after statue of unity

जंगल में बनेगा 'तंबू वाला शहर', एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए सरकार की नई योजना

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बाद अब सरकार ने सरदार सरोवर बांध के पास साधु बेट द्वीप पर तंबू वाला शहर बनाने की योजना बनाई है।

1 of

अहमदाबाद: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बाद अब सरकार ने सरदार सरोवर बांध के पास साधु बेट द्वीप पर तंबू वाला शहर बनाने की योजना बनाई है। गुजरात के वडोदरा में एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए यहां पहाड़ियों के पीछे स्थित जंगलो के बीचोंबीच एक तंबू वाला शहर बनाया जाएगा। यहां तंबू वाला शहर बनाने से यहां के पिछडे जनजातीय शहर में आर्थिक समृद्धि आएगी। बता दें  कि गुजरात के नर्मदा बांध पर सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची मूर्ती बनाी गई है।

 

यह दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है। चीन में भी इसी तरह की एक मूर्ति है जिसकी ऊंचाई 153 मीटर है। इसे मात्र 42 महीनों में 7000 टन सीमेंट 22500 टन स्टील के इस्तेमाल से बनाया गया। सरदार पटेल के इस स्टैच्यू में 1700 मीट्रिक टन तांबे का प्रयोग किया गया है। इसकी खास बात ये है कि इसमें 6.5 तीव्रता को भूकंप को सहने की क्षमता है। इसके साथ ही यह 220 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं को भी सहन कर सकता है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बाद चीन में बनी बुद्ध प्रतिमा का नंबर आता है। जिसकी लंबाई 128 मीटर है। यह स्टैच्यू पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। 

 

लिफ्ट के जरिए पर्यटक देख पाएंगे सरदार पटेल के स्टैच्यू को
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट था, जो कि 19700 वर्ग किलोमीटर में फैली एक परियोजना का हिस्सा था। इसमें करीब 17 किलोमीटर लंबी फूलों की घाटी भी शामिल है। स्टैच्यू को देखने के लिए लिफ्ट भी लगाई गई है। पर्यटक लिफ्त के जरिए सरदार पटेल के दिल तक पहुंच सकते हैं। इसके साथ ही 153 मीटर लंबी  गैलेरी के जरिए लगभग 200 लोग एक साथ इस स्टैच्यू को देख सकते हैं। इस स्टैच्यू को 4 धातुओं से बनाया गया है जो कि इसे जंग से बचाने में मदद करेगा। 

आगे पढ़ें,

2,500 लोगों को मिलेगा रोजगार
इस मूर्ति की स्थापना के लिए सरकार ने किसी भी तरह की कसर नहीं छोड़ी है इस मूर्ति के निर्माण में  2,500 कर्मचारियों ने अपना सहयोग दिया है। आपको बता दें कि मूर्ति को रोज 3 हजार लोग देख सकते हैं।  इस पर्यटक स्थल के पास पर्यटकों ने किए पार्किंग की सुविधा भी दी गई है। यहां 800 गाड़ियां खड़ी की जा सकती है। अधिकारियों के मुताबिक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के शुरू होने के बाद 2 हजार प्रत्यक्ष और 500 अप्रत्यक्ष नौकरियां तैयार होंगी। 

आगे पढ़ें,

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के आस-पास

स्मारक के बाहर 264 लोगों के बैठने के लिए कैफेटेरिया बनाया गया है। साथ ही स्मारक के बाहर एक गिफ्ट की दुकान भी है। इसी के पास एक 52 कमरों का होटल भी खोला गया है। स्टैच्यू के पास ही 4,747 वर्ग मीटर में फैला और 25 मीटप ऊंचा प्रदर्शनी हॉल बनाया गया है। इसी के साथ मूर्ति और बांध के पास तंबुओं से बना एडवेंचर टूरिज्म भी बनाया जाएगा। यहां पहुंचने के लिए पर्यटकों को वडोदरा तक हवाई जहाज या रेल से जाना होगा। फिर वहां से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक पहुंचा जा सकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट