Home » Industry » CompaniesFive Indian companies whose make it to the list of The World Most Innovative Companies

देश की टॉप इनोवेटिव कंपनियों में HUL, AIRTEL और L&T, फोर्ब्स का दावा-नया करने में नहीं करती हैं परहेज

फोर्ब्‍स के मुताबिक, ये कंपनियां टेक्‍नोलॉजी, बिजनेस व प्रोडक्‍ट लाइन में लगातार बदलाव कर रही हैं

1 of

 

नई दिल्‍ली। फोर्ब्‍स की ओर से हाल में जारी दुनिया भर की टॉप- 100 इनोवेटिव कंपनियों की लिस्‍ट में 5 भारतीय कंपनियों को जगह मिली है। फोर्ब्‍स के मुताबिक, ये कंपनियां अपनी प्रोडक्‍ट लाइन और टेक्‍नोलॉजी में नयापन लाने में किसी तरह का परहेज नहीं करती हैं। सीधी भाषा में कहें तो ये कंपनियां वो काम करती हैं, जिसे पहले कोई और नहीं करता है। इस लिस्‍ट में हिंदुस्‍तान यूनीलिवर लिमिटेड को पहला स्‍थान मिला है, हालांकि कंपनी की ग्‍लोबल रैंक 8 है। टॉप-10 में जगह बनाने वाली यह एक मात्र भारतीय कंपनी है। दूसरे नंबर पर एल एंड टी (Larsen & Toubro) को रखा गया है। भारती एयरटेल, सन फार्मा और मारुति सुजुकी भी इस लिस्‍ट में जगह बनाने में कामयाब रही हैं। 

 

क्‍यों शामिल हुईं लिस्‍ट में ?  
ये कंपनियां टेक्‍नोलॉजी, बिजनेस, मशीनरी और प्रोडक्‍ट लाइन में जरूरत तथा फ्यूचर के हिसाब से लगातार बदलाव कर रही हैं। हालांकि इन्‍हें किसी एक खास पैमाने पर शामिल नहीं किया गया है। अलग-अलग सेक्‍टर के हिसाब से अलग-अलग पैरामीटर रखा गया है। नई टेक्‍नोलॉजी का एडॉप्‍टेशन चयन का एक बुनियादी आधार जरूर है। 


 

 

नंबर-1: हिंदुस्‍तान यूनीलीवर लिमिटेड 
ग्‍लोबल रैंक-

 

लिस्‍ट में जगह मिलने के 3 कारण  
1-
कंपनी ने मार्केट में मौजूद अपने ज्‍यादातर प्रोडक्‍ट में एक्‍स्‍ट्रा फीचर जोड़े और साथ ही नई प्रोडक्‍ट्स भी लॉन्‍च किए। 
2- कपड़े धोने में पानी कम से कम खर्च हो, इसके लिए 2017 में रिन ब्रांड के तहत खास फोम टेक्‍नोलॉजी से लैस नया वाशिंग पाउडर और बार पेश किया। 
3- ग्रामीण और लोवर इनकम कैटेगरी के ग्राहकों को लुभाने के लिए कंपनी ने डोमेक्‍स टॉयलेट क्‍लीनिंग पाउडर भी पेश किया।  


 

नंबर-2: Larsen & Toubro (L&T) 
ग्‍लोबल रैंक: 84 

 

लिस्‍ट में जगह मिलने के 3 कारण
1-
कंपनी ने सेंसर और नैनो टेक्‍नोलॉजी आधारित एनर्जी एफीसिएंट सिस्‍टम के क्षेत्र में इनोवेशन के लिए सेंटर फॉर नैनो साइंस एंड इंजीनियरिंग और IIT के साथ मिलकर पार्टनरशिप की।  
2 - बेहतर सर्विस के लिए कंपनी डिजिटल टेक्‍नोलॉजी को तेजी से एडॉप्‍ट कर रही है। कंपनी ने 2016 में एनॉलिटिक्‍स स्‍टार्टअप Augment IQ का अधिग्रहण किया था। इसका मकसद बिग डाटा प्‍लेटफॉर्म पर अपनी उपस्थिति मजबूत बनाना था।  
3- भारतीय टैक्‍स सिस्‍टम में एडवांस टेक्‍नोलॉजी तैनात करने के लिए कंपनी इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के साथ मिलकर काम कर रही है। 


 

नंबर-3: भारती एयरटेल 
ग्‍लोबल रैंक: 92 

 

लिस्‍ट में जगह मिलने के 3 कारण

1-  खुद को परंपरागत टेलिकॉम कंपनी से फुल डिजिटल सर्विस प्रोवाइडर कंपनी बनने की दिशा में कंपनी ने हाल के दौरान कई ठोस कदम उठाए। कंपनी नई टेक्‍नोलॉजिकल टीम और लैब भी बना रही है। 
2- ऑपरेशनल एफीसिएंसी और सर्विस क्‍वालिटी को मूजबूत बनाने के लिए एयरलेटल ने अप्रैल 2017 में 2000 करोड़ रुपए की लागत से प्रोजेक्‍ट Next की घोषणा की। इसके तहत कंपनी वर्चुअल और ऑग्‍युमेंटल रियैलिटी के लिए आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस डेवलप करेगी। 
3- हाईब्रिड सेल्‍फ ऑर्गेनाइज्‍ड नेटवर्क सॉल्‍शूयल का यूज करने के लिए कंपनी ने इसी साल फरवरी में नोकिया के साथ करार किया। 

 

नंबर-4: सनफॉर्मा 
ग्‍लोबल रैंक: 96 

 

लिस्‍ट में जगह मिलने के 3 कारण
1- लोगों को सस्‍ती जैनेरिक दवाएं मुहैया कराने के लिए कंपनी ने भारत के अलावा अमेरिका समेत दुनिया के 14 देशों में अपने रिसर्च सेंटर खोले। 
2- 2017 के आखिरी तक कंपनी के पास रिसर्च के लिए दुनिया भर में करीब 2000 वैज्ञानिक थे। वह अपने टोटल रेवेन्‍यू का करीब 8 फीसदी सिर्फ इसी काम में खर्च कर रही थी। 
3- कंपनी दुनिया के करीब 150 देशों में सस्‍ती दवाएं सप्‍लाई कर रही है। इसके लिए लगातार वह लेबर एफसिएंट टेक्‍नोलॉजी पर काम कर रही है। 


 

नंबर-5: मारुति सुजुकी 
ग्‍लोबल रैंक: 99 

 

लिस्‍ट में जगह मिलने के 3 कारण
1 - टेस्‍ला मोटर्स (4th रैंक) के अलावा एक मात्र ऑटोमोबाइल कंपनी है, जिसे फोर्ब्‍स ने अपनी लिस्‍ट में जगह दी है। 
2 - देश में अफोर्डेबल सेगमेंट में AGS (ऑटोमेटेड गियर शिफ्ट टेक्‍नोलॉजी) लाने वाली मारुति सुजुकी पहली कार कंपनी बनी। कंपनी ने  2014 में यह फीचर सेलेरियो में लॉन्‍च किया। 
3- हाल में कंपनी ने डीजल टेक्‍नॉलोजी में जबरदस्‍त इनोवेशन किया है। इसके चलते उसने  यूवी सेगमेंट में जोरदार उपस्थिति दर्ज की है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट