विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesDhirubhai ambani birthday special

​धीरूभाई अंबानी की वजह से भारत में मिल रहे हैं सस्ते कपड़े, आज है उनका जन्मदिन

अपने जमाने में मेड इन इंडिया के समर्थक थे धीरूभाई अंबानी

Dhirubhai ambani birthday special
Dhirubhai ambani birthday special  फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशंस (फियो) के पूर्व प्रेसिडेंट एवं निर्यातक रामू देवड़ा ने बताया कि रिलायंस के संस्थापक धीरूभाई काफी विजनरी व्यक्ति थे। उनकी बदौलत ही आज देश में सस्ते कपड़े मिल रहे हैं। 

नई दिल्ली। फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशंस (फियो) के पूर्व प्रेसिडेंट एवं निर्यातक रामू देवड़ा ने बताया कि रिलायंस के संस्थापक धीरूभाई काफी विजनरी व्यक्ति थे। उनकी बदौलत ही आज देश में सस्ते कपड़े मिल रहे हैं। 80 के दशक में फियो के प्रेसिडेंट रह चुके देवड़ा ने बताया कि धीरूभाई असल में भारत में सिंथेटिक फाइबर, पोलिस्टर फाइबर या नॉयलोन इंडस्ट्री के जनक थे। देवड़ा ने याद करते हुए बताया कि यह साल 1965  की बात है जब भारत में पूर्ण रूप से जापान एवं कोरिया से सिंथेटिक फाइबर का आयात होता था। 

 

धीरूभाई ने की केमिकल से लेकर सिंथेटिक उद्योग की स्थापना 
उस समय देश में सिर्फ कॉटन टेक्सटाइल उद्योग था और कॉटन के ही कपड़े बनते थे। लेकिन धीरू भाई के प्रयास से पोलिस्टर, नॉयलोन एवं सिंथेटिक उद्योग की स्थापना हुई। देवड़ा ने मनी भास्कर को बताया कि धीरूभाई अंबानी उस जमाने में ही मेड इन इंडिया के समर्थक थे और इस दिशा में उन्होंने कई काम किए। केमिकल उद्योग से लेकर सिंथेटिक उद्योग की स्थापना उनके द्वारा ही की गई। उस जमाने में इन प्रकार की चीजों पर 65 फीसदी कस्टम ड्यूटी होती थी। लगभग सारे केमिकल आयात होते थे जो काफी महंगे थे।

 

भारत में बने उत्पादों को संरक्षण दिए जाने के समर्थक हैं धीरूभाई
देवड़ा ने बताया कि 1975 में जब वह फियो प्रेसिडेंट बने तब कई बार धीरूभाई के साथ कई नीतियों पर बात होती थी और धीरूभाई अपनी सलाह भी देते थे। उन्होंने बताया कि धीरूभाई हर हाल में भारत में बने उत्पादों को संरक्षण दिए जाने के समर्थक थे और इस दिशा में ही सरकार की नीति भी चाहते थे। वे उस जमाने में ही मेड इन इंडिया को बढ़ावा देना चाहते थे जो अब प्रचलन में आया है। देवड़ा ने बताया कि धीरूभाई उनके मुरली भइया ( मुरली देवड़ा, पूर्व केंद्रीय मंत्री) के करीबी थे और उनसे काफी चीजें शेयर करते थे।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन