विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesDDA planning a mega auction for vacant plots

नए साल में अपने घर का मालिक बनने का सुनहरा मौका, DDA ला रहा नई योजना, जल्द करें आवेदन

21 जनवरी से शुरू होगी नीलामी, जल्द शुरू होगी नई वेबसाइट

DDA planning a mega auction for vacant plots
DDA planning a mega auction for vacant plots  दिल्ली विकास प्राधिकरण नए साल पर लोगों के अपने घर के सपने को साकार करने वाली है। इसके लिए डीडीए ने मेगा ई-नीलामी की तारीख 21 जनवरी तय की है। नीलामी से लिए पंजीकरण शुरू हो चुका है। पंजीकरण कराने की अंतिम तारिख 14 जनवरी होगी।

नई दिल्ली। दिल्ली विकास प्राधिकरण नए साल पर लोगों के अपने घर के सपने को साकार करने वाली है। इसके लिए डीडीए ने मेगा ई-नीलामी की तारीख 21 जनवरी तय की है। नीलामी से लिए पंजीकरण शुरू हो चुका है। पंजीकरण कराने की अंतिम तारीख 14 जनवरी होगी। आप भी यदि नए साल में अपना खुद का घर खरीदने का सपना देख रहे हैं तो  यह आपके लिए काफी अच्छा मौका है। नीलामी से पहले डीडीए पंजीकरण करने वाले लोगों के दस्तावेजों की जांच करेगा। जिसके बाद सही दस्तावेज जमा कराने वाले लोगों के आवेदनों को नीलामी प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा।

ई-नीलामी के साथ-साथ आगामी प्रोजेक्ट्स के बारे में भी सूचना देगी DDA

डीडीए की इस योजना में 302 निर्मित व्यवसायिक इकाइयां, 141 आवासीय प्लॉट, ऑद्योगिक प्लॉट, व्यवसायिक प्लॉट, 8 इंटीट्यूशनल प्लॉट, 42 क्योस्क के साथ 135 व्यवसायिक इकाइयां शामिल हैं। इस नीलामी योजना का हिस्सा बनने के इच्छुक लोगों के लिए डीडीए ने आईएनए स्थित अपने मुख्यालय में एक हेल्प डेस्क बनाया है। जिन भी लोगों को पंजीकरण करने में दिक्कत आ रही हैं वह यहां से सहायता ले सकता है। 

 

ई-नीलामी के लिए डीडीए शुरू करेगा वेबसाइट

 

ई-नीलामी के लिए डीडीए एक नई वेबसाइट शुरू करेगा। इस वेबसाइट पर नीलामी संबंधी सभी बातों की जानकारी दी जाएगी। वेबसाइट के जरिए नीलामी के प्रति रूचि रखने वाले लोगों को समय-समय पर जानकारी मिलती रहेगी। इसके साथ ही डीडीए इस वेबसाइट पर लोगों के लिए अन्य जानकारियां भी डालता रहेगा।

 

ई-नीलामी के पीछे DDA ने बताई बड़ी वजह
इस ई-नीलामी के पीछे डीडीए का मुख्य मकसद अपनी पुरानी संपत्तियों का निपटारा करना है। संपत्तियों पर अवैध कब्जे की शिकायतें सामने आने के बाद डीडीए ने यह कदम उठाया है। ई-नीलामी पर अपना बयान देते हुए डीडीए ने कहा कि इससे जहां एक ओर राजस्व की प्राप्ति होगी वहीं इससे अवैध कब्जे की परेशानी से भी निपटा जा सकेगा। डीडीए के एक अधिकारी ने बताया कि इन प्रोपर्टीज में दुकानें, कार्यालय, क्योस्क शामिल है। इसके साथ ही आपको बता दें  कि डीडीए इन सभी संपत्तियों की फ्री होल्ड आधार पर नीलामी करेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन