Home » Industry » CompaniesPallonji Mistry battles with tata unlocked $17 billion of his wealth

टाटा के साथ जंग में मिस्त्री के फंस गए 1.20 लाख करोड़, अपना ही 1 रुपया चाहकर भी नहीं खर्च कर सकते

19.9 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक शॉपोरजी की करीब 85 फीसदी दौलत कानूनी लड़ाई में अटकी

Pallonji Mistry battles with tata unlocked $17 billion of his wealth

मुंबई। टाटा संस के साथ चल रहे कानूनी विवाद के चलते देश के टॉप-5 अमीरों में शामिल पालोनजी मिस्त्री को अपनी ही दौलत छुड़ाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, करीब 19.9 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक पालोनजी मिस्त्री की करीब 85 फीसदी दौलत इस कानूनी लड़ाई में अटकी है। सीधी भाषा में कहें तो मालिकाना हक होने के बाद भी मिस्त्री परिवार चाहकर भी अपनी 16.9 अरब डॉलर (करीब 1.20 लाख करोड़ रुपए) की दौलत का एक भी रुपया खर्च नहीं कर सकता है।  


टाटा ग्रुप के साथ चल रही कॉरपोरेट जंग 
2016 में पालोनजी मिस्त्री के बेटे साइरस मिस्त्री को 2016 में टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाए जाने के बाद भी मिस्त्री परिवार और टाटा ग्रुप के बीच कानूनी लड़ाई जारी है। 89 वर्षीय मिस्त्री करीब 100 अरब डॉलर से ज्यादा की वैल्यू वाले टाटा ग्रुप के सबसे बड़े शेयरहोल्डर में से एक हैं। कानूनी विवाद शुरू होने के बाद टाटा ग्रुप के खिलाफ मिस्त्री फैमिली ने कई मुकदमें दायर किए हैं। इन मुकदमों में टाटा ग्रुप में गवर्नेंस लैप्स समेत कंपनी के बोर्ड में फेरबदल को लेकर कई तरह के आरोप लगाए गए हैं। 


हिस्सेदारी नहीं बेच सकती मिस्त्री फैमिली 
अदालत में जारी इस जंग के चलते टाटा संस ने शेयर होल्डर्स के अपनी हिस्सेदारी बेचने पर प्रतिबंधित कर दिया। टाटा ग्रुप के इस कदम को हाल में सरकार की ओर से भी समर्थन मिल गया। इसके चलते शापूरजी पालोनजी मिस्त्री की अरबों की संपत्ति कानूनी विवाद में फंस गई है। मिस्त्री परिवार टाटा संस बोर्ड की मंजूरी के बिना चाहकर भी अपनी यह हिस्सेदारी नहीं बेच सकता है।


मिस्त्री के पास टाटा की सबसे बड़ी सिंगल होल्डिंग 
मिस्त्री परिवार का बोर्ड के साथ 2 साल से विवाद चल रहा है। ऐसे में इस बात की उम्मीद कम ही है कि बोर्ड मिस्त्री परिवार को इतनी आसानी के साथ अपनी हिस्सेदारी बेचने की मंजूरी देगा। बता दें कि टाटा संस में मिस्त्री परिवार के पास 18.4 फीसदी की हिस्सेदारी है। यह टाटा संस में किसी एक व्यक्ति की सबसे बड़ी सिंगल होल्डिंग है। टाटा संस की सबसे बड़ी हिस्सेदारी टाटा ट्रस्ट के पास है। ट्रस्ट के पास टाटा संस के 60 फीसदी से ज्यादा के शेयर हैं। टाटा ट्रस्ट को टाटा फैमिली चलाती है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट