विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesHuawei challenge to USA

चीन के 74 वर्षीय कारोबारी ने अमेरिका को ललकारा, कहा, दुनिया नहीं रह सकती उनकी कंपनी के बिना

उन्नत तकनीक वाले इस कंपनी पर ब्रिटेन ने किया है भरोसा

Huawei challenge to USA

Huawei challenge to USA: चाइनीज टेलीकॉम कंपनी हुवावे के संस्थापक रेन झेंगफेई ने अमेरिका पर पलटवार किया है। 74 साल झेंगफेई ने कहा कि अमेरिका तमाम प्रयास करने के बावजूद हमें दबा नहीं सकता है।

नई दिल्ली. चाइनीज टेलीकॉम कंपनी हुवावे के संस्थापक रेन झेंगफेई ने अमेरिका पर पलटवार किया है। 74 साल झेंगफेई ने कहा कि अमेरिका तमाम प्रयास करने के बावजूद हमें दबा नहीं सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि दुनिया हुवावे के बिना नहीं रह सकती है क्योंकि कंपनी के पास सबसे उन्नत तकनीक है।

 

बेटी और दामाद की गिरफ्तारी को बताया राजनीतिक साजिश 

एजेंसी में छपी खबरों के मुताबिक झेंगफेई ने अपनी बेटी और कंपनी की चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर मेंग वानझोउ की दिसंबर में कनाडा में गिरफ्तारी को राजनीति से प्रेरित बताया। वानझोउ पर ईरान में अमेरिकी प्रतिबंधों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था। उनके अमेरिका प्रत्यर्पण के लिए अगले महीने सुनवाई होनी है। झेंगफेई ने कहा,  ‘हम इस कदम का विरोध करते हैं, लेकिन हम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे।

 

हुवावे पर ट्रेड सीक्रेट चुराने का आरोप 

पिछले साल सुरक्षा चिंताओं के कारण ऑस्ट्रेलिया ने अपने भविष्य के 5जी नेटवर्क के लिए हुवावे के उपकरणों पर प्रतिबंध लगा दिया था। न्यूजीलैंड ने भी 5जी नेटवर्क के लिए अपने सबसे बड़े टेलीकॉम कैरियर को हुवावे के उपकरण लेने से मना कर दिया था। चेक गणराज्य ने भी टेंडर प्रक्रिया से हुवावे को बाहर रखा है। अमेरिका में हुवावे पर ट्रेड सीक्रेट चुराने के आरोप भी हैं। अमेरिका का यह भी कहना है कि हुवावे अपने कर्मचारियों को दूसरी कंपनियों की टेक्नोलॉजी चुराने के लिए पुरस्कृत भी करती है।

 

ब्रिटेन ने जताया हुवावे पर भरोसा 

झेंगफेई ने कहा कि पश्चिमी देशों के व्यवहार से वे विचलित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि अगर पश्चिम में रोशनी चली भी जाती है तो हमारे लिए पूर्व चमकता रहेगा। उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका कुछ अन्य देशों को हमारे खिलाफ करने में सफल भी हो जाता है तो हम कभी भी अपना आकार घटा सकते हैं। वैसे कई देशों में अमेरिकी कोशिश फेल भी हो रही है। ब्रिटेन की खुफिया एजेंसियों का मानना है कि हुवावे से जो खतरा उत्पन्न होगा उसे मैनेज किया जा सकता है। झेंगफेई ने कहा कि अगर ब्रिटेन को हम पर भरोसा है तो यह और देशों को भी हो सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss