बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesआम कर्मचारी से 150 गुना ज्‍यादा सैलरी पा रहे हैं देश के टॉप सीईओ, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

आम कर्मचारी से 150 गुना ज्‍यादा सैलरी पा रहे हैं देश के टॉप सीईओ, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

टॉप कॉरपोरेट हाउस में काम करने वाले एवरेज कर्मचारी के मुकाबले यहां के सीईओ की सैलरी 150 गुना ज्‍यादा है...

1 of

नई दिल्‍ली। बीते 5 साल के दौरान देश की टॉप 500 कंपनियों के सीईओ की सैलरी के बढ़ने की रफ्तार उनकी कंपनियों की अपनी परफॉर्मेंस और ग्रोथ के मुकाबले कहीं ज्‍यादा तेज रही है। इंस्‍टीट्यूशनल इन्‍वेस्‍टर एडवायजरी सर्विसेज यानी IiAS के ताजा अध्‍ययन में   इस बात का खुलासा हुआ है। रिपोर्ट S&P और BSE की टॉप-500 कंपनियों पर स्‍टडी के आधार पर तैयार की गई है। 

IiAS  के पोर्टल पर जारी रिपोर्ट के मुताबिक, ऑटोमोबाइल, FMCG और इंजीनियरिंग कंपनियों में यह ट्रेंड खासतौर पर देखने को मिला है। कंस्‍ट्रक्‍शन जैसे सेक्‍टर्स में आम कर्मचारी और सीईओ के औसत वेतन में करीब 150 गुना का अंतर पाया गया है। 19 फीसदी सीईओ ऐसे हैं जो औसत रूप से 10 करोड़ रुपए का सालाना वेतन हासिल कर रहे हैं। रिपोर्ट में इस ट्रेंड पर चिंता जताते हुए कॉरपोरेट घरानों को इस दिशा में काम करने को कहा गया है। 

 

इंस्‍टीट्यूशनल इन्‍वेस्‍टर एडवायजरी सर्विस यानी के पोर्टल पर जारी रिपोर्ट के मुताबिक, 

 

परफॉर्मेंस के मुकाबले 2 गुना वेतन बढ़ोतरी 
रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 5 साल के दौरान S&P BSE की टॉप-500 कंपनियों के परफॉर्मेंस रेश्‍यो के मुकाबले सीईओ की सैलरी में 2 गुने से ज्‍यादा की बढ़ोतरी हुई है। इन सीईओं की सैलरी में 85 फीसदी की औसत ग्रोथ दर्ज की गई है, वहीं कंपनियों के रेवेन्‍यू में 48% और प्रॉफिट में मात्र 45% की ग्रोथ दर्ज की गई है। इसमें ऑटो, FMCG, कन्‍स्‍ट्रक्‍शन मैटेरियल और इंजिनियरिंग से जुड़ी कंपनियों का नाम सबसे आगे है। यहां सीईओ की सैलरी में 161 फीसदी तक (ऑटो सेक्‍टर) की अधिकतम ग्रोथ देखी गई है। कुछ सेक्‍टर ऐसे भी हैं, जहां कंप‍नियों के रेवेन्‍यू और प्रॉफिट के मुकाबले सीईओ की सैलरी बढ़ने की रफ्तार कमजोर रही है। इसमें आईटी और हेल्‍थकेयर का नाम प्रमुख है।  

 

 

8.8 करोड़ रुपए तक का सैलरी पैकेज 
S&P BSE टॉप-500 कंपनियों के सीईओ की औसत सैलरी 4.3 करोड़ रुपए रही। वहीं कंस्‍ट्रक्‍शन मैटेरियल सेगमेंट में सीईओ की औसत सैलरी सबसे ज्‍यादा 8.8 करोड़ रुपए रही। जबकि ऑटो में 7.7 करोड़  और FMCG सेक्‍टर में 5.8 करोड़ रुपए की औसत सैलरी मिल रही है। इंजीनियरिंग, प्राइवेट बैंक और हेल्‍थयेकर ये तीन ऐसे सेक्‍टर हैं, जहां के सीईओ की औसत सैलरी 4.3 करोड़ से कम है। इंजीनियरिंग सेक्‍टर के सीईओ की औसत सैलरी 2.6 करोड़, प्राइवेट बैंक की 4.2 करोड़ और हेल्‍थयेकर सेक्‍टर के सीईओं को 4.1 करोड़ रुपए की औसत सैलरी मिल रही है। 

 

 

आम कर्मचारियों से 147 गुना ज्‍यादा सैलरी 
रिपोर्ट के मुताबिक, सीईओ और आम कर्मचारियों की सैलरी में 100 गुना से ज्‍यादा का अंतर पाया गया है। इसके मुताबिक, S&P BSE टॉप-500 कंपनियों के सीईओं की औसत सैलरी कर्मचारियों के मुकाबले औसतन 88 गुना ज्‍यादा है। इसमें कंस्‍ट्रक्‍शन मैटेरियल सेक्‍टर का अंतर 147 गुना, हेल्‍थकेयर का 124, ऑटो का 102 और FMCG सेक्‍टर के सीईओ की सैलरी आम कर्मचारियों के मुकाबले 99 गुना ज्‍यादा है। प्राइवेट बैंक (66 गुना) आईटी (62 गुना) और इंजीनियरिंग सेक्‍टर (43गुना) की सैलरी 88 गुना से कम है। 

 

 

19 फीसदी सीईओ की सैलरी 10 करोड़ से ज्‍यादा 
S&P BSE टॉप-500 कंपनियों करीब 19 सीईओ फीसदी ऐसे हैं, जिनकी सैलरी 10 करोड़ रुपए से ज्‍यादा है। अगर सेक्‍टर के हिसाब से बात करें तो कंस्‍ट्रक्‍शन मैटेरियल सेक्‍टर में 41%, ऑटो में 38%, प्राइवेट बैंक में 36%, आईटी में 25%, हेल्थकेयर में 25% और  FMCG सेक्‍टर में 22% सीईओ ऐसे हैं, जिनकी सैलरी 10 करोड़ रुपए से ज्‍यादा है।  वहीं 12 सीईओ ऐसे भी हैं जिनकी सैलरी 35 करोड़ रुपए से भी ज्‍यादा है, जबकि 17 सीईओ ऐसे हैं, जिनकी सैलरी 20 से 35 करोड़ के बीच है। 10 से 25 करोड़ के बीच सैलरी पाने वाले सीईओ की संख्‍या 94 है। 10 या इससे ज्‍यादा सैलरी पाने वाले सीईओ की संख्‍या 123 है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट