बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesकंपनी की स्मूथ रनिंग के लिए जरूरी है इंटीग्रेटेड सॉफ्टवेयर, जो चुटकियों में आसान कर दे हर मुश्किल

कंपनी की स्मूथ रनिंग के लिए जरूरी है इंटीग्रेटेड सॉफ्टवेयर, जो चुटकियों में आसान कर दे हर मुश्किल

अलग-अलग तरह का इंटिग्रेटिंग (एकीकृत) डाटा ही बिजनेस सॉफ्टवेयर का फ्यूचर है..

businessman can use integrated software system for easy management
नई दिल्‍ली. इस दौर में कोई कंपनी डाटा के बिना नहीं चल सकती। हर कंपनी डाटा के पहाड़ पर बैठी है। लेकिन सॉफ्टवेयर बिजनेस की दुनिया के इस पहाड़ के टॉप पर पहुंचना जितना दिखता है, उससे कहीं ज्यादा कठिन है। साल दर साल कंपनियों के हाथ से लगातार ढेर सारे मौके सिर्फ इसलिए निकलते जा रहे हैं क्योंकि सही वक्त पर सही व्यक्ति को सही जानकारी नहीं मिल रही है। हालांकि इसके बाद भी ज्यादातर कंपनियों के पास बेहद जरूरी जानकारी प्राप्त करने के अपने-अपने तरीके हैं। उदाहरण के तौर पर, जब भी कभी कोई समस्या आती है तो पुराने जमाने की एनालॉग इन्‍फॉर्मेशन शेयरिंग आज के डिजिटल युग में किसी काम की नहीं है। इन्‍फॉर्मेशन में आने वाली इस कमी से दूसरी कंपनियों को साल दर साल लगातार फायदा उठाने और आगे बढ़ने का मौका मिल जाता है। ऐसे में एक ऐसा बिजनेस माहौल बनाने के लिए, जिसमें कर्मचारी सबसे सही और ताजा जानकारी से लैस हों, सही इंटीग्रेटेड सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन बेहद जरूरी है। 
 
अलग-अलग तरह का इंटिग्रेटिंग (एकीकृत) डाटा ही बिजनेस सॉफ्टवेयर का फ्यूचर है, क्योंकि कस्टमर एंगेजमेंट के लिए आपके पास उसका पूरा और विस्तृत नजरिया होना जरूरी है और यही भविष्य भी है। इसमें समस्या भी है, क्योंकि फिलहाल मौजूद ज्यादातर बिजनेस टूल्स ग्राहकों के व्यक्तिगत डाटा को ही एकत्रित करते हैं, लेकिन उन्हें अच्छे तरीके से समायोजित करने में असफल हो जाते हैं, खासकर तब जब उसमें अलग-अलग विभाग शामिल होते हैं। बिजनेस करने का तरीका काफी तेजी से लगातार बदल रहा है। एकीकृत सॉफ्टवेयर जैसे गूगल G सूट, माइक्रोसॉफ्ट अजूर और जोहो उन्हीं में से एक है। ये सूट सॉफ्टवेयर आपकी कंपनी के सारे डिपार्टमेंट और चैनल से इन्‍फॉर्मेशन प्राप्‍त करके ग्राहकों की पूरी जानकारी देता है। 
 
 
तो एक ग्राहक का 360 डिग्री दृष्टिकोण आपके सॉफ्टवेयर पर मौजूद है। इसे उदाहरण से समझें। ऐसे मामलों में समस्याओं को आमतौर पर पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर संभाला जाता है, लेकिन ये इस तरह से नहीं होता और ना ही होना चाहिए। इस सॉफ्टवेयर की मदद से उस वक्त एक टिकट जारी हो जाता है और सपोर्ट स्टाफ कर्मचारी ग्राहक की पूरी कहानी देख सकता है, वो उसकी पुरानी सपोर्ट रिक्वेस्ट और आपकी कंपनी के साथ सोशल मीडिया पर हुई बातचीत को देख सकता है। क्या ये आपके सबसे बड़े ग्राहकों में से एक है, एक नया ग्राहक या एक महत्वपूर्ण शख्सियत… जब इस तरह की तस्वीर उपलब्ध होती है, तो एक कंपनी जल्दी से रिक्वेस्ट के बारे में पता लगाती है और प्रायोरिटी दे सकती है।
 
अगर आपको अपने सबसे बड़े ग्राहकों में से एक कंपनी के सीईओ का गुस्से में फोन आता है, तो इस समस्या को ठीक करने के लिए आप हर वो मदद पाना चाहेंगे, जो उसे ठीक करने के लिए जरूरी है। ऐसे हालात में ये सॉफ्टवेयर वो सभी रास्ते खोल देता है। कुछ ही सेकंड में, उस कॉल को संभालने वाला कोई भी व्यक्ति उस ग्राहक का सपोर्ट टिकट नंबर देख सकता है। वर्तमान में उसे क्या समस्या है, इस बारे में पहले उसकी किससे बात हुई थी, उनकी वर्तमान जानकारी, उनके ऑर्डर का इतिहास, आपके साथ उनके सोशल मीडिया इंटरैक्शन, इसके अलावा और भी बहुत कुछ। आपकी उंगलियों पर इतनी ज्यादा जानकारी के साथ एक बड़ी समस्या आसान हो जाती है।
 
लेकिन एक सूट की वैल्यू सिर्फ टिकट लेवल पर आकर ही खत्म नहीं होती। बल्कि ये एकीकृत प्रणाली आपको, आपकी कंपनी के विभिन्न विभागों और लोगों से जोड़ती है। वे लोग जो जानकार हैं, जो बेहतर संदर्भ में सोचते हैं, वे अब निर्णय लेने की प्रक्रिया में भी अपनी बात रख सकते हैं, और जब नए विचार अलग-अलग जगहों से आते हैं, तो कंपनियां बिजनेस को लेकर बेहतर फैसले लेती हैं।
 
इससे बड़ा सबूत कुछ और नहीं हो सकता, जब कभी सुरक्षा उल्लंघन जैसी कोई चीज होती है। इस दौर में हर वो मिनट जो बिना प्रतिक्रिया के गुजरता है, वो समस्या को और भी ज्यादा खराब कर देता है। ऐसी टीम जो कई डिपार्टमेंट के लोगों को जोड़कर बनाई जाती है, उसे जल्दी से बनाया जाना चाहिए। ताकि वे सामने आते ही हालात को लेकर सही समय पर प्रतिक्रिया दे सकें। ये जरूरी है कि सूचना प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ, उच्च स्तर पर फैसले लेने वाले लोग, मार्केटर्स और कस्टमर सपोर्ट स्टाफ सभी लोग एक ऐसी जगह पर हों, जहां उन्हें एक जैसी जानकारी साथ में मिले। ताकि वे हालात को देखकर सही स्थिति का अंदाजा लगा सकें और सूूट इसी में काम आता है। इंटीग्रेटेड कम्युनिकेशन सॉफ्टवेयर से सभी को इन्‍फॉर्मेशन जल्दी से मिल जाती है और उन्हें साथ बनाए रखती है। इसकी मदद से एक तकनीकी विशेषज्ञ को किसी इम्‍प्‍लॉई के ईमेल सॉफ्टवेयर तक पहुंचने के लिए अपने एडमिनिस्ट्रेटर की परमिशन का इंतजार नहीं करना होगा। आपका हेड ऑफ सिक्युरिटी आपके यहां सोशल मीडिया की निगरानी करने में सक्षम होगा और सारी चिंताओं का जवाब भी देगा। सबके साथ शेयर होने वाले एक सिस्टम में कुछ भी अप्रत्याशित होने पर आपका ऑर्गनाइजेशन तुरंत और प्रभावी रूप से प्रतिक्रिया दे सकता है।
 
सूट लगाने के बाद बिजनेस पहले से बेहतर चलने लगता है, फैसले भी तेजी से होने लगते हैं, जरूरी कामों पर वक्त ज्यादा बिताया जाने लगता है और कॉर्पोरेट टैलेंट का इस्तेमाल साधारण कामों को छोड़, ज्यादा महत्वपूर्ण कामों के लिए होने लगता है। मैन्युअल रूप से डाटा लाने और इसके लिए कर्मचारियों से मदद मांगने की बजाए, सब कुछ पहले से ही सही जगह मिल जाता है, इसलिए आप पहले से कहीं बेहतर तरीके से समस्या का समाधान कर सकते हैं।
 

क्या है Zoho?

Zoho (जोहो) एक बिजनेस ऑपरेटिंग सिस्टम है- जहां सिंगल ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर पूरा बिजनेस चलाया जा सकता है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ करीब-करीब हर मेजर बिजनेस कैटेगरी के लिए एप्स भी हैं, जिसमें सेल्स, मार्केटिंग, कस्टमर सपोर्ट, अकाउंटिंग और बैक ऑफिस ऑपरेशन्स के अलावा उत्पादकता और अन्य टूल्स की एक पूरी श्रृंखला है। Zoho दुनिया की सबसे सफल सॉफ्टवेयर कंपनी है। दुनियाभर में हजारों कंपनियों के बीच 3.5 करोड़ से ज्यादा ग्राहक हर रोज अपने बिजनेस को चला रहे हैं|

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट