Home » Industry » Companiesमुकेश अंबानी जन्‍मदिन बिजनेस फिलॉसिफी mukesh ambani birthday update

डर से डरो मत डर को डरा दो, इन 5 फिलॉसिफी पर काम करते हैं मुकेश अंबानी

मुकेश अंबानी के जन्‍मदिन पर हम आपको ऐसी कुछ बातेेंं बताते हैं, जिन्‍हें सीखकर वह देश के सबसे अमीर शख्‍स बने..

1 of

नई दिल्‍ली। मुकेश अंबानी का आज 61वां बर्थडे है। देश का सबसे अमीर आदमी बनने का श्रेय मुकेश अंबानी हमेशा अपने पिता धीरूभाई अंबानी को देते हैं। अक्‍सर वह इस बात की चर्चा करते हैं कि उन्‍होंने आखिर अपने पिता का क्‍या सीखा था। साथ ही वह आज जो कुछ भी हैं अपने पिता की ही बदौलत हैं। पिछले साल दिसंबर में मुकेश अंबानी ने रिलायंस की 40वीं सालगिरह के मौके पर एक बार फिर से पिता से मिली शिक्षा को रिलायंस परिवार के साथ साझा किया था। 

 
मुकेश अंबानी के मुताबिक, धीरूभाई ने उन्‍हें बताया कि कैसे बिजनेस शुरू होता है। कैसे बिजनेस को बड़ा किया जाता है। इसके लिए आपमें साहस और हिम्‍मत की जरूर होती है। आपका बर्ताव, दूसरों के लिए आपके दिल में आदर, टेक्‍नोलॉजी-टैलेंट सभी कुछ मिलाकर ही आपको सबसे बड़ा बिजनेसमैन बनाते हैं। मुकेश अंबानी के जन्‍मदिन पर आज हम आपको ऐसी ही कुछ बातों के बारे में बताते हैं, जिन्‍हें सीखकर वह देश के सबसे अमीर शख्‍स बनकर उभरे। मुकेश अंबानी के मुताबिक, उन्‍होंने अपने पिता से जो कुछ भी सीखा, वहीं उनके जीवन की फिलॉसिफी है। 

 

 

डर से डरो मत, डर को डरा दो
मुकेश अंबानी के मुताबिक, साहस और हिम्‍मत जिंदगी में जरूरी हैं। बिना साहस आप जीवन में कुछ भी हासिल नहीं कर सकते हैं। साहस और हिम्‍मत के दम पर आप किसी भी मुसीबत का मुकाबला कर सकते हैं। साहस एक ऐसी ताकत है, जिससे डर को भी डर लगता है। 


 

दूसरों से हमदर्दी रखो 
हमदर्दी ऐसी ताकत है जो हमेशा आपको दूसरों से जोड़े रखती है। मैं इसे दिल की दौलत मानता हूं। दूसरों पर आप इसे जितना खर्च करेंगे यह आपको उतना ही रईस बनाएगी।


 

टेक्‍नोलॉजी और टैलेंट पर भरोसा  
मुकेश के मुताबिक, उनके पिता ने बताया कि टेक्‍नोलॉजी और टैलेंट पर पूरा भारोसा रखों। हमने जो भी नया बिजनेस शुरू किया उनमें अपने दौर की सबसे बेहतरीन टेक्‍नोलॉजी का यूज किया और बेस्‍ट टैलेंट को अट्रैक्‍ट किया। टेक्‍नोलॉजी और टैलेंट जब भी मिल कर काम करेंगे तब ये हमेशा दुनिया का सबसे बेस्‍ट क्रिएशन और इन्‍वेंशन प्रोड्यूज करेंगे। 

 

 

दिल का रिश्‍ता कायम करो 
मेरे पिता की तरह मैं भी भरोसे और ईमानदारी को अहमतिय देता हूं। मैं हार्ट टू हार्ट रिलेशन पर भरोसा करता हूं। 


 

हमेशा पॉजिटिव रहें 
चाहे आप पढ़ें या काम करें, हमेशा पॉजिटिव रहना जरूरी है। इस अप्रोच के साथ आप भी करेंगे तो आपको सफलता मिलेगी। कई सारे नेगेटिव लोग आपके आसपास रहेंगे लेकिन आपको पॉजिटिविटी ही फैलानी है।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट