विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesBengaluru become favorite destination for 10 to 30 thousand rupee salaries job

10 से 30 हजार रुपए की नौकरी के लिए बेंगलुरू सबसे सटीक ठिकाना

ड्राइवर से लेकर हाउसकिपिंग स्टाफ तक की मांग

1 of

नई दिल्ली। बेंगलुरू नौकरी का नया ठिकाना बनता जा रहा है। उत्तर प्रदेश, बिहार एवं उड़ीसा जैसे राज्यों से ब्लू कॉलर नौकरी तलाशने वाले श्रमिक इन दिनों दिल्ली-मुंबई या हरियाणा के गुरुग्राम की जगह बेंगलुरू का रुख कर रहे हैं। ब्लू कॉलर नौकरियों में मुख्य रूप से ड्राइवर, डिलिवरी वर्कर्स, सिक्युरिटी गार्ड, हाउसकिपिंग स्टॉफ एवं इस तरह की अन्य नौकरी शामिल हैं। बेटर प्लेस के सर्वे में इन बातों का खुलासा किया गया है। सर्वे में कहा गया है कि देश में 12 करोड़ ब्लू कॉलर नौकरी वाले श्रमिक टियर-1 एवं टियर-2 शहर में नौकरी की तलाश में जाते हैं। इन 12 करोड़ में से 70 लाख श्रमिकों  की नजर में बेंगलुरू सबसे पसंदीदा ठिकाना है। 

 

राज्यवार नौकरियों की स्थिति
सर्वे के मुताबिक, इन श्रमिकों में सबसे अधिक उत्तर प्रदेश, असम, बिहार, उड़ीसा जैसे राज्यों से होते हैं। सबसे अधिक उत्तर प्रदेश से 19 फीसदी श्रमिक इस प्रकार की नौकरियों की तलाश में निकलते हैं। असम से 15 फीसदी, बिहार से 12 फीसदी, उड़ीसा से 13 फीसदी, झारखंड से 4 फीसदी, पश्चिम बंगाल से 5 फीसदी, राजस्थान से 4 फीसदी तो मध्य प्रदेश से 3 फीसदी श्रमिक दूसरे राज्यों में ब्लू कॉलर नौकरी के लिए जाते हैं। अन्य राज्यों से 14 फीसदी लोग इस प्रकार की नौकरी करने जाते हैं। जबकि टियर-1 और टियर-2 शहरों को छोड़कर अन्य शहरों में केवल 6 फीसदी लोग ही नौकरी करने जाते हैं। 

ड्राइवर की नौकरी के लिए जा रहे सबसे ज्यादा लोग


सर्वे के अनुसार, सबसे ज्यादा 41 फीसदी लोग ड्राइवर की नौकरी के लिए जा रहे हैं। इसके बाद 32 फीसदी के साथ डिलीवरी वर्कर्स का नंबर आता है। 9-9 फीसदी लोग सिक्युरिटी गार्ड्स और 

हाउसकिपिंग स्टाफ की नौकरी के लिए जा रहे हैं। जबकि 9 फीसदी लोग ही इस तरह की दूसरी नौकरी करने के लिए जा रहे हैं। इसके अलावा दूसरे शहरों में नौकरी करने जाने वालों में 92 फीसदी पुरुष 

होते हैं। मात्र 8 फीसदी महिलाएं ही नौकरी के लिए दूसरे शहरों का रूख करती हैं।

नौकरी के लिए जाने वालों में युवाओं की संख्या ज्यादा

सर्वे के अनुसार, दूसरे शहरों में नौकरी के लिए जाने वालों में युवाओं का दबदबा है। नौकरी के लिए जाने वालों में 35 फीसदी लोग 18-20 साल के आयु वर्ग वाले, 30 फीसदी लोग 21-25 साल की आयु 

वर्ग वाले, 20 फीसदी 26-30 साल के आयु वर्ग वाले और 15 फीसदी लोग 30 साल से ज्यादा वाले होते हैं। सर्वे में बताया गया है कि दूसरे शहरों में नौकरी करने के लिए जाने वालों में 15 फीसदी को 10 

से 15 हजार रुपए प्रतिमाह, 35 फीसदी को 15 से 20 हजार रुपए प्रतिमाह, 20 फीसदी को 20 से 25 हजार रुपए प्रतिमाह, 16 फीसदी को 25 से 30 हजार रुपए प्रतिमाह और केवल 14 फीसदी को 30 

हजार रुपए प्रतिमाह से ज्यादा की सैलरी मिलती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन