विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesThis young man coming from a small town opened the private incubation center, taught people to make such Startups

उम्र 25 साल, सिर्फ ढाई साल में खड़ी की 70 कंपनियां, दो फोर्ब्स की सूची में

छोटे शहर से आने वाले इस युवा ने खोला प्राइवेट इन्क्यूबेशन सेंटर, लोगों को सिखाया ऐसे बनाओ Startups

1 of

कुलदीप सिंगोरिया

नई दिल्ली. उम्र 25 साल। साढ़े 22 साल की उम्र में देश का पहला प्राइवेट इन्क्यूबेशन सेंटर खोला। शुरूआत में सिर्फ दो ही Startups मिले। कारवां बढ़ा और महज ढाई साल में 70 स्टार्टअप्स इस युवा से बिजनेस शुरू करने के गुर सीख चुकी हैं। कामयाबी की कहानी का यह तो सिर्फ आगाज है। आज  इस युवा के सिखाए दो स्टॉर्टअप्स खादी जी व एनजीओ फोर्ब्स अंडर 30 सूची में शामिल हो चुके हैं। यहां समहज लाख दो लाख रुपए के निवेश से स्थापित किए गए स्टॉर्टअप्स को दुनिया की बड़ी कंपनियों ने करोड़ों रुपए में खरीदा। 

 

युवा समझकर लोग नकार देते थे 

 तैतिल सिंह मीक ने जनवरी 2017 में भोपाल के दस नंबर मार्केट में किराए पर ऑफिस लेकर Incubation center की शुरूआत की थी। उन्होंने एक टीम तैयार की जो युवाओं को सिखाती थी कैसे वे अपने आइडिए को बिजनेस में बदल सकते हैं। इसमें हर सेक्टर में काम करने वाले नामी लोग थे। मनी भास्कर को तैतित बताते थे कि वे खुद युवा थे इसलिए कोई यकीन नहीं करता था कि वो उन्हें बिजनेस करना सिखाएंगे। आखिर में बचपन में साथ पढें कुछ दोस्त तैयार हुए और फिर Incubation center  संचालित करने वाली S.pace कंपनी तैयार की गई। अब तक उन्होंने खुद 15 कंपनियों को इन्क्यूबेट किया है जबकि 70 कंपनियां उनके सेंटर में काम कर चुकी हैं। 


यह भी पढ़ें..

सिर्फ 75 रुपए रोजाना बचाएं, बेटी की शादी के लिए मिलेंगे 11 लाख रुपए 

 

जब मुंबई की कंपनी ने खरीदा स्टार्टअप्स 

तैतिल ने मनी भास्कर को बताया कि उन्होंने Z2P स्टार्टअप को इन्क्यूबेट किया था। यह स्टार्टएप्स साहूकारी का संगठित काम करने के आइडिए को ऑनलाइन एप में कन्वर्ट करने पर आधारित।  इसमें किसी को पैसे की जरूरत है तो वह एप पर संपर्क कर सकता है और इसी तरह निवेशक भी एप पर जरूरतमंद को फाइनेंस कर सकता है। महज छह महीने में यह चल निकला। आखिरकार मुंबई की एक बड़ी कंपनी ने महज कुछ लाख रुपए के निवेश से बनाए गए इस स्टार्टअप को करोड़ों रुपए में खरीद लिया।  तैतित ने बताया कि खरीदार की शर्तों के तहत कीमत व खरीदार का नाम वे सार्वजनिक नहीं कर सकते हैं। 

 

यह भी पढ़ें...

Tulip garden के लिए यूरोप नहीं भारत की इस जगह की सैर कीजिए

 

पिता रियल एस्टेट के जानकार फिर भी चुनी नई फील्ड 

तैतिल के पिता भोपाल के जाने-माने नाम हैं। वे रियल एस्टेट के जानकार, लेखक और कवि के तौर पर पहचाने जाते हैं। हाल के वर्षों में रियल एस्टेट की मंदी ने उन्हें भी प्रभावित किया। ऐसे में वे तैतिल को बड़े शहरों में शिफ्ट हो जाने की सलाह देते थे लेकिन तैतिल ने भोपाल में ही पोटेंशियल देखा। तैतिल की स्कूलिंग भोपाल से ही हुई लेकिन हायर एजुकेशन के लिए वे लंदन गए। लंदन में उन्होंने बिजनेस शुरू कर दिया था लेकिन उनके मुताबिक उन्हें भोपाल में ही रहकर बड़े कारोबार की स्थापना करना उनका सपना था। 

भविष्य की रणनीति 

तैतिल बताते हैं कि भोपाल के बाद रायपुर और इंदौर में Incubation center शुरू हो चुके हैं। अब 10 टियर टू शहरों में सेंटर खोलने की योजना है। इससे छोटे शहरों के प्रतिभाशाली युवाओं को स्टार्टअप्स शुरू करने में मदद मिल सकेगी। 

 

यह भी पढ़ें...

भारत के बहिष्कार से चीन घबराया, फोरम में 100 देशों की मौजूदगी का किया दावा

 

 

यह सुविधाएं 

इंक्यूबेशन स्पेस में युवाओं को अपने आइडियाज को बिजनेस में बदलने का मौका दिया जाता है। यहां कंप्यूटर से लेकर, वाई-फाई जोन सहित कई तरह के संसाधन व सुविधाएं होंगी, जो आधुनिक तकनीकी से लेस रहेंगी। इसके साथ कंपनी के टाइटल से कानूनी व वित्तीय सहायता के लिए मेंटर सलाह देते हैं। 

 

यह भी पढ़ें..

जिस चुनावी बांड से भाजपा को मिला सबसे ज्यादा गुमनामी चंदा, कांग्रेस उसे करेगी बंद

 

यहां संपर्क करें 

 facebook.com/startupace पर तैतिल से संपर्क किया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि स्टार्टअपस की सफलता को देखते हुए केंद्र और राज्य सरकार ने भी स्क्लि डेवलपमेंट के तहत इस कॉन्सेप्ट को अपनी नीति में शामिल किया है। युवा उद्यमियों को प्रमोट करने के लिए नीति आयोग ने अटल इंक्युबेशन सेंटर स्कीम के साथ पूंजी व ब्याज में छूट जैसी कई सुविधाएं दी हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन