बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesमुकेश अंबानी ने पिता धीरूभाई से सीखी थी 5 बातें, बन गए सबसे अमीर

मुकेश अंबानी ने पिता धीरूभाई से सीखी थी 5 बातें, बन गए सबसे अमीर

मुकेश अंबानी के जन्‍मदिन पर आइए जानते हैं ऐसी बातों के बारे में, जो उन्‍होंने अपने पिता से सीखी...

1 of

नई दिल्‍ली. सफलता किसी को आसानी से नहीं मिलती है। इसके लिए कड़ी मेहनत और लगन की जरूरत होती है, लेकिन देश का सबसे अमीर आदमी बनने के लिए आपको इससे आगे जाना होता है। यही वो मंत्र था, जो मुकेश अंबानी ने अपने पिता धीरूभाई अंबानी से का यही मंत्र था। एक पिता के रूप में धीरूभाई ने यही बातें बेटे मुकेश अंबानी को सिखाई थी। मुकेश अंबानी इसी सीख के दम पर देश के सबसे अमीर शख्‍स बनकर उभरे। 
 
मुकेश अंबानी अक्‍सर अपनी स्‍पीच और इंटरव्‍यू में पिता की इन बातों को कोट करते हैं। हाल में उन्‍होंने नैस्‍कॉम लीडरशिप फोरम की बैठक में भी ऐसी कुछ बातें शेयर की, जो उन्होंने अपने पिता से सीखी थीं। मुकेश अंबानी के मुताबिक, अपने पिता से सीखी बातों के चलते ही वह देश के सबसे अमीर शख्‍स बनकर उभरे। 19 अप्रैल को मुकेश अंबानी के बर्थडे पर पर आइए जानते हैं ऐसी ही 5 बातों के बारे में, जो मुकेश अंबानी ने अपने पिता से सीखी थीं और इसी के दम पर देश के सबसे अमीर व्‍यक्ति बन गए।  

 

'बिजनेस में रिलेशनशिप नहीं पार्टनरशिप चलती है'
रिलायंस Jio की लॉन्चिंग के बाद अपने एक इंटरव्‍यू में मुकेश अंबानी ने कहा था कि धीरूभाई उन्‍हें बेटे की तरह नहीं बल्कि पार्टनर की तरह ट्रीट करते थे। वह कहते थे कि बिजनेस में रिलेशनशिप नहीं पार्टलरशिप चलती है। मुकेश अंबानी के मुताबिक, वह अपने बच्‍चों को भी बिजनेस में पार्टनर मानते हैं।  
 
 
आगे पढ़ें- क्‍या थी वो दूसरी सीख... 

'एक बिजनेसमैन को पता होता है कि क्या करना है'

कोई भी काम शुरू करने से पहले आपको ये पता होना चाहिए कि आपका लक्ष्‍य क्‍या है। तभी आप उस तक पहुंच सकते हैं। बिना लक्ष्‍य के भागने से कुछ हासिल नहीं होता।
 
 
आगे पढ़ें- क्‍या थी वो तीसरी सीख...

 

'नाकामियों से डरो मत, उनसे सीखे, कभी हार मत मानो'
हर व्‍यक्ति को सफलता और असफलता का सामना करना पड़ता है। इसलिए असफलता से डरना नहीं चाहिए बल्कि डटकर उनका सामना करना चाहिए। मुकेश अंबानी के मुताबिक, उन्‍हें भी बिजनेस में कई बार नाकामी हाथ लगी, लेकिन वो पिता के शब्‍द ही थे, जो उन्‍हें भरोसा देते रहे।
 
 आगे पढ़ें- क्‍या थी वो चौथी सीख...

 

 

'हमेशा पॉजिटिव रहें'
चाहे आप पढ़ें या काम करें, हमेशा पॉजिटिव रहना जरूरी है। इस अप्रोच के साथ आप भी करेंगे तो आपको सफलता मिलेगी। कई सारे नेगेटिव लोग आपके आसपास रहेंगे लेकिन आपको पॉजिटिविटी ही फैलानी है।  
  
आगे पढ़ें- क्‍या थी वो पांचवी सीख...

 

'अच्‍छी टीम का चुनाव'
एक अच्‍छी टीम के बिना आप कुछ नहीं कर सकते हैं। इसलिए अच्‍छे लोगों के साथ टीम बनाना और मेहनत से काम में जुटे रहना, सफलता पाने के लिए बहुत जरूरी है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट