Home »Industry »Auto» Now Honda, Yamaha And Suzuki Have More Than 35 Percent Market Share

जापानी कंपनियों का 35% इंडि‍यन टू-व्‍हीलर मार्केट पर कब्‍जा, बजाज, हीरोमोटो को मि‍ली चुनौती

जापानी कंपनियों का 35% इंडि‍यन टू-व्‍हीलर मार्केट पर कब्‍जा, बजाज, हीरोमोटो को मि‍ली चुनौती
नई दि‍ल्‍ली. एक समय पर भारत में देसी कंपनि‍यों के साथ साझेदारी कर टू-व्‍हीलर मार्केट में एंट्री करने वाली जापान की कंपनि‍यों का दबदबा तेजी से बढ़ रहा है। भारतीय टू-व्‍हीलर बाजार में होंडा मोटरसाइकि‍ल एंड स्‍कूटर्स इंडि‍या, यामाहा इंडि‍या और सुजुकी मोटरसाइकि‍ल जैसी जापान की कंपनि‍यों की हि‍स्‍सेदारी एक ति‍हाई तक पहुंच गई है। ऐसे में यह कंपनि‍यां बजाज ऑटो, हीरो मोटोकॉर्प और टीवीएस के लि‍ए बड़ी चुनौती बन गई हैं। ऐसा इसलि‍ए भी है क्‍योंकि‍ देसी कंपनि‍यों की सेल के मुकाबने जापान की कंपनि‍यों की ग्रोथ ज्‍यादा तेजी से बढ़ रही है।
 
टू-व्‍हीलर मार्केट जापान की कंपनि‍यों का एक-ति‍हाई हि‍स्‍सा
 
सोसाइटी ऑफ इंडि‍यन ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर्स (सिआम) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबि‍क, 2016-17 में टोटल टू-व्‍हीलर सेल 1,75,89,511 यूनि‍ट्स रही है। वहीं, होंडा, यामाहा और सुजुकी की टोटल सेल 62,18,976 यूनि‍ट्स है। ऐसे में सेल्‍स के मामले में इन तीनों की हि‍स्‍सेदारी 35 फीसदी से ज्‍यादा है।
 
होंडा मोटरसाइकि‍ल एंड स्‍कूटर्स इंडि‍या के वाइस प्रेसि‍डेंट (सेल्‍स एंड मार्केटिंग) वाई. एस गुलेरि‍या ने moneybhaskar.com को दि‍ए इंटरव्‍यू में कहा था कि‍ इंडि‍यन टू-व्‍हीलर मार्केट में कंपनि‍यों के लि‍ए बड़े अवसर हैं। मार्केट मैच्‍योर हो रहा है। ऐसे में होंडा जैसी अच्‍छी टेक्‍नोलॉजी वाली कंपनि‍यों के भारत में मौके खड़े हो गए हैं।  
 
होंडा, यामाहा, सुजुकी की सेल बढ़ी
 
होंडा मोटरसाइकि‍ल की सेल्‍स 2016-17 के दौरान 50 लाख यूनि‍ट्स रही जोकि‍ पि‍छले साल की समान अवधि‍ के मुकाबले 12 फीसदी ज्‍यादा है। 2015-16 में होंडा ने 44 लाख यूनि‍ट्स बेची थीं। वहीं, स्‍कूटर सेल्‍स के मामले में कंपनी ने सालाना आधार पर रि‍कॉर्ड 16 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है। 
 
इसके अलावा, यामाहा मोटर इंडि‍या की सेल 2016-17 में 8.6 लाख यूनि‍ट्स रही है। हालांकि‍, कंपनी की ओर से कैलेंडर ईयर के हि‍साब से सेल जारी की जाती है। ऐसे में कंपनी ने 2016 में 7.8 लाख यूनि‍ट्स बेची जबकि‍ 2015 में यह आंकड़ा 5.94 लाख यूनि‍ट्स था। इसमें 32 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई। सुजुकी इंडि‍या की सेल में इसी दौरान 74 फीसदी का भारी इजाफा दर्ज कि‍या गया है। 2016-17 में कंपनी ने 3.50 लाख यूनि‍ट्स को बेचा है। इसमें 12 फीसदी की ग्रोथ आई है।
 
कंपनि‍यां2015-16 (सेल्‍स)2016-2017 (सेल्‍स)
होंडा टू-व्‍हीलर44 लाख50 लाख
यामाहा (कैलेंडर ईयर)7.8 लाख5.94 लाख
सुजुकी इंडि‍या3.50 लाख2.90 लाख
हीरो मोटोकॉर्प66.32 लाख66.63 लाख
बजाज ऑटो18.98 लाख20.01 लाख
                               
देसी कंपनि‍यों को मि‍ली चुनौती
 
जहां एक ओर जापान की कंपनि‍यों की सेल में तेजी से इजाफा आया है वहीं बजाज ऑटो और हीरो मोटोकॉर्प को कड़ी चुनौति‍यों का सामना करना पड़ रहा है। हीरो मोटोकॉर्प की सेल्‍स 2016-17 में 66.63 लाख यूनि‍ट्स रही जबकि‍ पि‍छले साल की समान अवधि‍ में यह आंकड़ा 66.32 लाख यूनि‍ट्स था।
 
वहीं, बजाज मोटरसाइकि‍ल्‍स की सेल्‍स इसी दौरान 5 फीसदी बढ़कर 20.01 लाख यूनि‍ट्स रही जबकि‍ 2015-16 में यह आंकड़ा 18.98 लाख यूनि‍ट्स था। टीवीएस मोटर की सेल मार्च 2017 में 8.4 फीसदी बढ़कर 2.1 लाख यूनि‍ट्स रही जबकि‍ पि‍छले साल की समान अवधि‍ में यह आंकड़ा 2 लाख यूनि‍ट्स था।
 
जापानी कंपनि‍यों की स्‍ट्रैटजी
 
1980 के दशक में टीवीएस-सुजुकी, एस्‍कॉर्ट्स-यामाहा और हीरो-होंडा की पार्टनरशि‍प हुई थी। यह पार्टनरशि‍प दोनों भारतीय और जापानी कंपनि‍यों के लि‍ए जरूरी थीं क्‍योंकि‍ भारतीय कंपनि‍यों के पास जापान की टेक्‍नोलॉजी चाहती थीं और जापान की कंपनि‍यां भारतीय मार्केट में एंट्री। करीब 26 साल तक की पार्टनरशि‍प के बाद होंडा ने हीरो का साथ छोड़ दि‍या। होंडा को पूरी तरह से भारतीय बाजार की समझ हो चुकी थी और वह खुद आगे बढ़ना चाहती है।  
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY