Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Delhi» High Court Directed Delhi Police To Ensure Safety Of Ola And Uber Cabs

    ओला, उबर और ड्राइवरों की सुरक्षा सुनिश्चित करे दिल्‍ली पुलिस, हिंसक प्रदर्शनों को लेकर हाईकोर्ट का आदेश

    ओला, उबर और ड्राइवरों की सुरक्षा सुनिश्चित करे दिल्‍ली पुलिस, हिंसक प्रदर्शनों को लेकर हाईकोर्ट का आदेश
    नई दिल्‍ली।ओला और उबर कैब के खिलाफ जारी हिंसक विरोध को लेकर दिल्‍ली हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनाया है। कोर्ट ने दिल्‍ली पुलिस को कैब कंपनी और इन कैब को चलाने वाले ड्राइवरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। अदालत ने इसके साथ ही प्रदर्शन कर रहे यूनियंस को हिदायत दी है कि वह शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगें रखें। इस मामले की अगली सुनवाई 28 फरवरी को होगी।
     
    कोर्ट ने कहा, हिंसक प्रदर्शनों से कुछ नहीं होगा हासिल
     
    दिल्‍ली हाईकोर्ट ने प्रदर्शन कर रही दोनों ड्राइवर्स यूनियन से कहा कि इस तरह के प्रदर्शन से वह जरूर सरकार से अपनी बात मनवाते रहें होंगे, लेकिन उन्‍हें अपने दिमाग से इस बात का निकाल लेना चाहिए कि ये कंपनियां भी इस तरीके से उनकी बात मान लेंगी। अदालत ने यूनियन्‍स को अपनी सोच में बदलाव करने की हिदायत देते हुए कहा कि शांतिपूर्ण व्‍यापारिक समझौतों के अलावा अपनी मांगें रखने का कोई रास्‍ता नहीं है।
     
    यूनियंस ने हिंसक प्रदर्शन की जिम्‍मेदारी नहीं ली
     
    मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस राजीव सहाई एंडलॉ ने कहा कि ज्‍वाइंट पुलिस कमिश्‍नर (ट्रैफिक) और इसी रैंक का अन्‍य अधिकारी ये सुनिश्चित करे कि ओला-उबर से जुड़े ड्राइवर्स और कार मालिकों को पूरी सुरक्षा मिले। इसके साथ ही ये भी ध्‍यान रखा जाए कि उनकी कारों को भी नुकसान न पहुंचाया जाए। दिल्‍ली सर्वोदय ड्राइवर एसोसिएशन (एसडीएडी) और राजधानी टूरिस्‍ट ड्राइवर्स यूनियन ने इन हिंसक घटनाओं की जिम्‍मेदारी लेने से इनकार कर दिया है। एसडीएडी ने कहा कि वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रही है। इसके लिए उसने परमिशन भी ली हुई है। वहीं, राजधानी यूनियन ने कहा कि वह सिर्फ टूरिस्‍ट कैब्‍स को ऑपरेट कर रही है और इन हिंसक घटनाओं को एसडीएडी ही अंजाम दे रही है।
     
    नुकसान तो आखिर में यूनियंस का ही है
     
    कोर्ट ने कहा कि अगर ये हिंसक घटनाएं दोनों यूनियंस नहीं कर रही हैं, तो भी ये घटनाए उनके लिए हो रही हैं। क्‍योंकि किसी को भी इसमें शामिल होने में कोई इंटरेस्‍ट नहीं होगा। कोर्ट ने यूनियंस को समझाया कि अगर ये हिंसक घटनाएं जारी रहेंगी, तो इससे उनका नही नुकसान है। ऐसे में यात्री ट्रांसपोर्ट के दूसरे विकल्‍प खोज लेंगे और तुम पर लोगों का विश्‍वास कम हो जाएगा।
     
    यूनियन के पास ब्‍लैक-येलो टैक्‍सी चलाने का विकल्‍प
     
    दिल्‍ली हाईकोर्ट ने कहा कि अगर यूनियंस को लग रहा है कि ओबा और उबर उन्‍हें कम पैसे दे रही है, तो उनके पास ब्‍लैक और येलो टैक्‍सी चलाने का विकल्‍प खुला है। कोर्ट ने साफ किया कि यूनियंस अपने दिमाग से निकाल लें कि उनके इस हिंसक प्रदर्शन के चलते ये कंपनियां उनकी मांगें मान लेंगी। इसकी वजह से कंपनियां दूसरे शहरों में चली जाएंगी और अपना बिजनेस वहां चलाना शुरू कर देंगे। कोर्ट ने उन्‍हें शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगें रखने की हिदायत दी।

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY