Home » Industry » Autooption of electric car and bikes sales

इलेक्ट्रिक बाइक बनी पसंद, सेल्स में 138 फीसदी का इजाफा

मोदी सरकार के प्रयासों के बावजूद इलेक्ट्रिक कारों की सेल्स में गिरावट

option of electric car and bikes sales

नई दिल्ली. इलेक्ट्रिक वाहनों को सरकार द्वारा बढ़ावा दिए जाने के बावजूद वित्तवर्ष 2017 के मुकाबले वित्तवर्ष 2018 में ई-कारों की बिक्री 40 प्रतिशत घटकर 1,200 इकाई रह गई, जबकि ई-दोपहिया वाहनों की बिक्री समान अवधि में 138 प्रतिशत बढ़कर 54,800 इकाई हो गई। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।  

 

56 हजार वाहन बिके 
ई-वाहन उद्योग से जुड़े सोसायटी ऑफ मैन्युफैक्चरर्स ऑफ इलेक्ट्रिक वीइकल के आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2018 में देश में सड़कों पर 56,000 इलेक्ट्रिक वाहन थे, जिनमें से ई-कार की तादाद 1,200, जबकि बाकी 54,800 दोपहिया गाड़ियां थीं। आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2016 में देश में 20,000 इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन बेचे गए थे, जो कि वित्त वर्ष 17 में 23,000 यूनिट हो गया था। समान वर्ष के दौरान 2,000 ई-कारें बेची गईं और जो बिक्री वित्तवर्ष 2017 में स्थिर बनी रही। 

 

तेजी से बढ़ रही है सेल्स 
आंकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2016 में सड़कों पर केवल 22,000 इलेक्ट्रिक वाहन थे, जो वित्त वर्ष 2017 में बढ़कर 25,000 हो गई। सोसायटी में कॉरपोरेट मामलों के निदेशक सोहिंदर गिल के मुताबिक, बढ़ती संख्या इस बात का संकेत हैं कि लोग ई-वाहनों को आर्थिक रूप से लाभप्रद और परिवहन के स्वच्छ मान रहे हैं। उन्होंने ई-कारों की बिक्री में कमी आने के लिए 'बुनियादी ढांचे की कमी, नीति की अस्पष्टता को जिम्मेदार ठहराया, जो अभी भी विकास की राह की प्रमुख बाधाएं हैं।' 

 

10 हजार ई कारों का ऑर्डर 
गिल ने विश्वास व्यक्त किया कि ये वर्ष विशेष रूप से इलेक्ट्रिक दुपहिया सेगमेंट के लिए सकारात्मक दिखाई देता है और हम इस क्षेत्र के पिछले साल की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद करते हैं। यह ध्यान देने की बात है कि केंद्र सरकार एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों के परिवहन को बढ़ा रही है, जिसने 10,000 ई-कारों का ऑर्डर किया है। टाटा मोटर्स और महिंद्रा ने 500 इकाइयों के वितरण का पहला चरण पूरा कर लिया है। लेकिन जिन सरकारी संगठनों ने उन्हें खरीदा है, वे बैटरी के टिकाऊपन की खराब स्थिति के कारण उनके प्रदर्शन से नाखुश हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss