• Home
  • Auto
  • Hyundai inks wage deal with workers, technicians to get hike of Rs 25,200 per month over 3 yrs

मंथली 25200 रु बढ़ जाएगी कर्मचारियों की सैलरी, इस कंपनी ने किया बड़ा ऐलान

ह्युंडई मोटर इंडिया (Hyundai Motor India) ने अपने चेन्नई प्लांट के कर्मचारियों के साथ वेज सेटलमेंट का ऐलान किया है। कंपनी ने कहा कि इस एग्रीमेंट के बाद उसके कर्मचारियों (टेक्नीशियंस) की तीन साल की अवधि में औसतन 25,200 रुपए प्रति महीना सैलरी बढ़ जाएगी।

moneybhaskar

Mar 25,2019 06:39:00 PM IST

नई दिल्ली. ह्युंडई मोटर इंडिया (Hyundai Motor India) ने अपने चेन्नई प्लांट के कर्मचारियों के साथ वेज सेटलमेंट का ऐलान किया है। कंपनी ने कहा कि इस एग्रीमेंट के बाद उसके कर्मचारियों (टेक्नीशियंस) की तीन साल की अवधि में औसतन 25,200 रुपए प्रति महीना सैलरी बढ़ जाएगी। ह्युंडई मोटर इंडिया लिमिटेड (Hyundai Motor India Ltd) ने एक बयान में कहा कि यह वेज सेटलमेंट अप्रैल, 2018 से लागू होगा और मार्च, 2021 तक प्रभावी रहेगा।

तीन साल में 25200 रु महीना बढ़ेगी सैलरी

कंपनी ने कहा कि वेज सेटलमेंट एग्रीमेंट कंपनी मैनेजमेंट और मान्यता प्राप्त यूनियन यूयूएचई (United Union of Hyundai Employees) के बीच हुआ। कंपनी ने कहा, ‘एग्रीमेंट के तहत टेक्नीशियंस को तीन साल की अवधि के दौरान हर महीने औसतन 25,200 रुपए ज्यादा सैलरी मिलेगी।’

सैलरी में इस तरह मिलेगी ग्रोथ

टेक्नीशिएयंस पहले साल में 55 फीसदी, दूसरे साल में 25 फीसदी और तीसरे साल में 20 फीसदी बढ़ी हुई सैलरी मिलेगी। एचएमआईएल (Hyundai Motor India Ltd) ने कहा, ‘इसका मतलब होगा कि पहले साल में औसतन 13860 रुपए, दूसरे साल में 6300 रुपए और तीसरे साल में 5040 रुपए सैलरी बढ़ जाएगी।’

 

91 देशों को कार एक्सपोर्ट करती है कंपनी

डॉमेस्टिक मार्केट में क्रेटा (Creta) और आई20 (i20) जैसे मॉडल्स की बिक्री करने वाली एचएमआईएल (Hyundai Motor India Ltd) भारत की पैसेंजर व्हीकल्स की अग्रणी एक्सपोर्टर्स में से एक है। कंपनी अफ्रीका, अरब देशों, लैटिन अमेरिका और एशिया प्रशांत के 91 देशों को एक्सपोर्ट करती है।

X
COMMENT

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.