विज्ञापन
Home » Auto » Industry/ TrendsFine on volkswagen

कार कंपनी की चालाकी पड़ी उसी पर भारी, भारत में लगा 171 करोड़ रुपए का जुर्माना

कंपनी ने स्वीकार की अपनी गलती, दोबारा ऐसी कार न बनाने की खाई कसम

1 of

नई दिल्ली. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की चार सदस्यीय समिति ने जर्मन कार मेकर कंपनी Volkswagen पर 171. 34 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। कंपनी पर वायु प्रदूषण मानकों के उल्लंघन का आरोप है। एनजीटी के मुताबिक कंपनी की कारों से उत्सर्जित नाइट्रोजन ऑक्साइड की अधिक मात्रा के चलते लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ा है। एक एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी की कारों ने साल 2016 में देश के राजधानी दिल्ली में करीब 48.678 टन नाइट्रोजन ऑक्साइड का उत्सर्जन किया है। 

 

दोबारा ऐसी कार न बनाने की खाई कसम 

कंपनी ने अपनी पुरानी गलतियों से सबक लेते हुए भविष्य में दोबारा ऐसी कार न बनाने का फैसला किया है। जर्मनी की स्पोर्ट कार निर्माता कंपनी पोर्शे (Porsche) पहले ही ऐलान कर चुकी है कि अब वह कभी भी डीजल से चलने वाली कार नहीं बनाएगी। कंपनी के सीईओ ओलिवर ब्लूम ने एक अखबार से कहा था कि वह भविष्य में पोर्शे कार को सिर्फ पेट्रोल, हाईब्रिड और इलेक्ट्रिक वैरिएंट में बनाएंगे। उन्होंने कहा कि उनका पूरा ध्यान इलेक्ट्रिक कार बनाने पर होगा। 


क्या रही वजह

कंपनी के डीजल कार बनाने के पीछे की वजह काफी दिलचस्प है। दरअसल दिग्गज कंपनी पोर्शे की पैरेंट कंपनी फॉक्सवैगन को तीन साल पहले कारों में लगाए गए कार्बन उत्सर्जन मानकों में जानबूझकर गड़बड़ी का दोषी पाया गया था। फॉक्सवैगन ने खुद वर्ष 2015 में अमेरिकी जांच में स्वीकार किया था कि उसने दुनियाभर में 1.1 करोड़ कारों में ऐसे इक्विपमेंट लगाए, जो ज्यादा कार्बन उत्सर्जन को कम बताते थे। इस तरह कंपनी की सारी कारें प्रदूषण के मानकों पर खरी उतरती थीं। 

कितने का हुआ नुकसान

कंपनी का झूठ जल्द पकड़ा गया और उसकी दुनियाभर में काफी बदनामी हुई। वहीं इस फ्रॉड के अपराध में कंपनी पर 27 अरब यूरो यानी 2.28 लाख करोड़ का जुर्माना लगाया गया। इसके अलावा कंपनी को लाखों कारों को वापस बुलाने को मजबूर होना पड़ा। कंपनी आज भी दुनियाभर की अदालतों में कई मुकदमों का सामना कर रही है। वहीं रेटिंग एजेंसी Fitch ने कंपनी की रेटिंग को घटा दिया है।

 

 

कैसे की गड़बड़ी

टेलीग्राफ के मुताबिक वर्ष 2008 से 2015 के दौरान कंपनी ने 1,98,500 Volkswagen कारों में E189 इंजन लगाया गया। इसमें 36,500  Audi वाहन शामिल थे, जो  प्रदूषण को कम करके दिखाता था। इसमें एक सॉफ्टवेयर का सहारा लिया गया, जो टेस्ट ड्राइव के दौरान इंजन की पावर और परफार्मैंस को नार्मल कर देता था। इसकी वजह से प्रदूषण कम होता था और कार टेस्ट में पास हो जाती थी। लेकिन रोड में चलाने के वक्त इंजन तय प्रदूषण लिमिट से 40 गुना ज्यादा प्रदूषण उत्पन्न करता था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन