विज्ञापन
Home » Industry » AutoHow to get best price of your old car

पुरानी कार बेचने का है प्लान, तो इन तरीकों से पा सकतें है अच्छी कीमत

SC के फैसले के बाद कारों की कीमत में 10 फीसदी हुई है गिरावट

1 of

नई दिल्ली. देश में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने इस साल 29 अक्टूबर को दिल्ली एनसीआर में 10 साल से अधिक पुराने डीजल वाहन तथा 15 साल से अधिक पुराने पेट्रोल वाहन जब्त करने का आदेश दिया था। इसके चलते पुरानी कारों की कीमतें लगातार गिर रही हैं। सबसे ज्यादा चोट डीजल कार पर पड़ी है, क्योंकि मार्केट में इनकी तादात ज्यादा है। मार्केट के जानकारों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद डीजल वाहनों की कीमतों में करीब 10 फीसदी गिरावट दर्ज की गई है, जबकि पेट्रोल वाहनों के दाम 5 फीसदी गिरे हैं। 

 

दिल्ली एनसीआर से बाहर पा सकते हैं अच्छी कीमत 

दिल्ली एनसीआर की दस साल पुरानी कार का बेहतर दाम पाना है, तो उसे दिल्ली के बाहर बेचना बेहतर होगा। वहीं अगर कार 7 से 8 साल पुरानी है तो उसे बेचने से पहले कुछ माह का इंतजार करना होगा। ये इसलिए कि शायद कुछ माह में फ्यूल की कीमतें ठहर जाएं। उस स्थिति में कार का अच्छा दाम मिल सकेगा। ऐसे में जल्दबाजी में कार बेचना सही नहीं होगा। अगर आपकी कार पर भी उच्चतम न्यायालय के दायरे में आती है, तो उसे दिल्ली-एनसीआर से बाहर बेचना आपके लिए अच्छा हो सकता है। इसीलिए आसपास के राज्यों या उनसे भी आगे जाने पर सस्ती कारों के लिए बहुत बड़ा बाजार मिल जाता है।

 

कार को कबाड़ में बेचने से पहले करें ये काम 

अगर आपकी कार सुप्रीम कोर्ट की तय सीमा से अधिक पुरानी है तो उसे कबाड़ में बेचना ही सबसे अच्छा विकल्प होगा, क्योंकि उससे अधिक कीमत देने वाला ग्राहक मिलना आसान नहीं होगा। हालांकि कबाड़ में देने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि डीलर से आपको कबाड़ यानी स्क्रैप सर्टिफिकेट मिल गया है। साथ ही इंजन और चेचिस नबंर वाले पुर्जे ले लीजिए। इन पुर्जों को स्थानीय परिवहन कार्यालय में जमा कर दीजिए ताकि यह सुनिश्चित हो कि आपकी कार का गलत इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है।

 

आगे पढ़ें- एक्सचेंज डिस्काउंट में कार बेचना होगा बेहतर

एक्सचेंज डिस्काउंट में कार बेचना होगा बेहतर

अपनी कार बेचने से पहले पूरी तैयारी करें और पता लगाएं कि आपकी कार की कितनी कीमत मिल सकती है। इसके लिए ऑनलाइन जांच-पड़ताल करना सबसे अच्छा रहता है। अगर आप कार बेचने में ज्यादा मेहनत नहीं करना चाहते हैं, तो बेहतर होगा कि उसे डीलर को ही बेच दीजिए, जिससे आप नई कार लेने जा रहे हैं। हालांकि इसमें भी जोखिम है। कई लोग अपनी गाड़ी उस डीलर को दे देते हैं, जिससे वे नई कार खरीदने जा रहे हैं। सबसे अच्छा ये होगा कि पुरानी कार एक डीलर को बेचिए और नई कार दूसरे से खरीदिए। लेकिन अगर कार कंपनी ही एक्सचेंज डिस्काउंट दे रही हो तो उसे लेना बेहतर विकल्प होगा। अगर आप एक्सचेंज डिस्काउंट और कार की कीमत को जोड़ लेंगे तो पुरानी कार की कीमत ज्यादा ही पड़ेगी।

 

आगे पढ़ें- कार की मरम्मत के बिल रखें पास

कार की मरम्मत के बिल रखें पास 

आपको अपनी कार की मरम्मत और सर्विस आदि अधिकृत डीलरशिप पर ही करानी चाहिए और उसके बिल आदि भी अपने पास रखने चाहिए। इससे आपको बेहतर कीमत मिल सकती है। गाड़ी के सभी दस्तावेज जैसे रजिस्ट्रेशन के कागज (आरसी) आपके पास होने चाहिए। अंत में ध्यान रखें कि कार अच्छी दिख रही हो। गाड़ी की मरम्मत करा लें। छोटा-मोटा खर्च करने पर गाड़ी बेहतर लग रही हो तो खर्च कर दीजिए क्योंकि पहली झलक आपको बेहतर कीमत दिलाती है।  लेकिन नए टायर लगाने या कार पर पेंट कराने के झंझट से बचें। कार खरीदने वाला यह सब नहीं देखता और न ही इससे कीमत बढ़ती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन