विज्ञापन
Home » Industry » AutoLuxury car to be costly

इन कारों की खरीद पर पड़ेगी महंगाई को दोहरी मार, पहले के मुकाबले लगेगा ज्यादा टैक्स

सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडॉयरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स ने जारी किया निर्देश

Luxury car to be costly

भारत की ज्यादातर कार निर्माता कंपनियों ने 1 जनवरी 2019 से नई कीमतों पर कार की बिक्री शुरू कर दी है। कार के कीमतों में बढ़ोतरी के बाद कार खरीदारों को महंगाई का एक और डोज मिल सकता है। इसकी वजह सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडॉयरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स का वो निर्देश है, जिसके तहत ग्राहक को जीएसटी, ऑटो डीलर की तरफ से वसूले जाने वाले टैक्स के हिसाब से भी अदा करना होगा। 

नई दिल्ली. भारत की ज्यादातर कार निर्माता कंपनियों ने 1 जनवरी 2019 से नई कीमतों पर कार की बिक्री शुरू कर दी है। कार के कीमतों में बढ़ोतरी के बाद कार खरीदारों को महंगाई का एक और डोज मिल सकता है। इसकी वजह सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडॉयरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स का वो निर्देश है, जिसके तहत ग्राहक को जीएसटी, ऑटो डीलर की तरफ से वसूले जाने वाले टैक्स के हिसाब से भी अदा करना होगा। 

 

1 फीसदी के हिसाब से लगेगा टैक्स 

ऐसेे में अब लग्जरी कारों पर टैक्स की अतिरिक्त मार पड़ेगी और 10 लाख रुपए से ज्यादा कीमत की कारें खरीदना महंगा हो जाएगा। 10 लाख रुपए से ज्यादा दाम वाले ऑटोमोबाइल्स पर उसके एक्स शोरूम प्राइस पर 1% की दर से टैक्स कलेक्टेड ऐट सोर्स (TCS) लगता है और उसमें GST भी शामिल होता है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स की तरफ से जारी सर्कुलर के मुताबिक जीएसटी के लिहाज से टैक्सेबल वैल्यू में इनकम टैक्स ऐक्ट के प्रोविजंस के हिसाब से वसूल किए जाने वाले TCS को शामिल किया जाएगा, क्योंकि बायर की तरफ से सप्लायर को चुकाई जाने वाली वैल्यू में TCS शामिल होगा।' 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन