Home » Industry » AutoMagic bullet Royal Enfield has lost market capitalisation

Royal Enfield की धाक को चुनौती दे रहे नए खिलाड़ी, मार्केट में कम हुई हिस्सेदारी

पिछले साल में मार्केट कैपिटलाइेजशन में 18 हजार करोड़ रुपए की कमी

1 of

नई दिल्ली. Royal Enfield की मोटरसाइकिल्स का प्रीमियम मिडवेट कैटेगरी (250सीसी से 7500सीसी) में दबदबा हुआ करता था। हालांकि अब इस कैटेगरी में एक दर्जन से ज्यादा मोटरसाइकिल मेकर ने पिछले एक साल में एंट्री मारी है। इसमें Harley Davidson, KTM जैसी बाइक निर्माता कंपनियां शामिल हैं। इसके अलावा रॉयल एनफील्ड की क्लॉसिक 350 बाइक को लेजेंड्री बाइक जावा से टक्कर मिल रही है। बता दें कि आयशर मोटर्स की 90 फीसदी कमाई रॉयल एनफील्ड बाइक से होती है। प्रीमियम मोटरसाइकिल कैटेगरी (250सीसी और इससे ज्यादा) में रॉयल एनफील्ड मोटरसाइकिल 95 फीसदी हिस्सेदारी रखती है। 

 

मार्केट कैपिटलाइजेशन में आई कमी 

Bloomberg के डाटा के मुताबिक देश की बड़े मोटरसाइकिल ब्रांड Royal Enfield के वर्ष 2018 के मार्केट कैपिटलाइजेशन में 17,900 करोड़ रुपए की कमी आई है। Eicher Motors के शेयर प्राइस पिछले साल में 22 फीसदी गिरे है। एक जनवरी 2018 को शेयर प्राइस 29,901 रुपए था, जो कि 4 दिसंबर को गिरकर 23,300 रुपए पर पहुंच गया। वहीं रॉयल एनफील्ड का मार्केट कैपिटलाइेजशन एक जनवरी 2018 के मुकाबले 4 दिसबंर 2018 को 81,451 करोड़ रुपए से घटकर 63,550 करोड़ रुपए रह गया।

 

आगे पढ़ें- क्या रही वजह 

क्या रही वजह 

रॉयल एनफील्ड का मार्केट कैपिटलाइजेशन कम होने की वजह केरल बाढ़, इनपुट कॉस्ट का बढ़ना और कंपनी के कर्मचारियों की एक माह लंबी हड़ताल रही है। कंपनी का जहां केरल समेत दक्षिण भारत में बड़ा मार्केट शेयर है। वहीं प्रीमियम सेगमेंट में कई बाइक्स की लॉन्चिंग ने रॉयल एनफील्ड का खेल बिगाड़ दिया। इसके अलावा इंश्योरेंस कॉस्ट का बढ़ना, माइक्रोइकोनॉमी फैक्टर, रुपए का डॉलर के मुकाबले कमजोर होना भी बड़ी वजहें रहीं।

 

आगे पढ़ें-ब्रिटेन और अमेरिका में बिक्री बढ़ाने पर जोर 

 

ब्रिटेन और अमेरिका में बिक्री बढ़ाने पर जोर 

नई दिल्ली, महाराष्ट्र, और कर्नाटक में रॉयल एनफील्ड के कारोबार में पिछले एक साल में कुछ कमी आई है। टू व्हीलर्स के बड़े मार्केट उत्तर प्रदेश में अगर फेस्टिवल सीजन को छोड़ दें, तो यहां भी मोटरसाइकिल की बिक्री पिछले सालों के मुकाबले कम रही है। हालांकि रॉयल एनफील्ड की ओर से बाइक की बिक्री बढ़ाने के लिए वेटिंग पीरियड में कमी की गई है। साथ ही नई लॉन्च की गई बाइक्स की प्रीबुकिंग शुरू की गई है। इसके अलावा कंपनी बाइक की बिक्री ब्रिटेन और अमेरिका जैसे देशों में बढ़ाने की कोशिश की जा रही है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss