विज्ञापन
Home » Industry » Agri-BizA big step for cow protection, 10 percent of the compost should be made from cow dung

तैयारी / गाय के सरंक्षण के लिए बड़ा कदम, कंपनियों के लिए 10 प्रतिशत खाद गोबर से बनाना होगा जरूरी

चुनाव के तुरंत पहले बने राष्ट्रीय कामधेनु आयोग की सिफारिश, विदेशी खाद की मांग कम होने से डालर की भी होगी बचत

A big step for cow protection, 10 percent of the compost should be made from cow dung
  • KRIBHCO और IFFCO जैसी कंपनियां कुल उत्पादन का दस फीसदी हिस्सा गोबर व गोमूत्र से बनने वाला खाद बनाए 

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव से तुरंत पहले बने राष्ट्रीय कामधेनु आयोग सरकार से सिफारिश करेगा कि KRIBHCO और IFFCO जैसी कंपनियां अपने कुल वार्षिक उत्पादन में से 10 प्रतिशत तक गोबर और गोमूत्र से  जैविक खाद का निर्माण करें। आयोग के इस कदम से गायों के संरक्षण में मदद मिलेगी और विदेशों से आयातित उर्वरक पर निर्भरता कम होगी। यही नहीं कीमती विदेशी मुद्रा की भी बचत होगी। 


92 फीसदी विदेशी खाद का उपयोग 

आयोग का तर्क है कि देश में लगभग 92 प्रतिशत रासायनिक उर्वरकों का आयात  किया जाता है। जैविक खाद बनने से आयातित उर्वरक पर देश की निर्भरता काफी कम हो जाएगी। वहीं, गोबर और गोमूत्र का उचित उपयोग सुनिश्चित करेगा। राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष बल्लभभाई कथिरिया ने समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया कि जैव-उर्वरक का अनिवार्य उत्पादन लोगों की मानसिकता को बदल देगा। इससे लोगों को डेयरी फार्मिंग और अन्य संबंधित गतिविधियां करने में काफी सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि इसका अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक और लंबे समय तक प्रभाव रहेगा।

यह भी पढ़ें : ट्रंप चप्पल, ओबामा अनाज की तरह भारत में भी तंज कसने वाली प्रचार सामग्री के लिए दंपति ने शुरू किया स्टार्टअप

कहां से मिलेगा इतना गोबर 

जैव-उर्वरक के निर्माण के लिए गोबर के स्रोत में कठिनाइयों के बारे में पूछे जाने पर कथीरिया ने कहा कि ऐसी समस्या उत्पन्न नहीं होगी। देश में 1,000 गोशालाएं और कांजी हाउस हैं। इसके अलावा भी गांवों तक दूध कलेक्शन जैसे ही गोबर कलेक्शन के सेंटर बनाने से यह समस्या हल हो जाएगी। जैसे दूध गांवों से इकट्ठा किया जाता है और शहरों में लाया जाता है,  वैसे ही वाहनों का उपयोग करके गाय-गोबर और गोमूत्र एकत्र किया जाएगा। वहां मैन्युफैक्चिंग संयंत्रों में जाएगा। 

यह भी पढ़ें :  दिग्विजय परिवार के पास साध्वी से 855 गुना ज्यादा है दौलत


नई सरकार आने पर प्रस्ताव पर होगा अमल 

कथिरिया का कहना है कि नई सरकार के सत्ता में आने और बजटीय कार्य शुरू होने के बाद प्रस्ताव को रसायन और उर्वरक मंत्रालय के माध्यम से स्थानांतरित किया जाएगा। कथिरिया ने तर्क दिया कि इस कदम से कृषि क्षेत्र में संकट कम होगा। इसके अलावा जैविक खेती को बल मिलेगा जिससे कि एक स्वस्थ भारत का निर्माण होगा। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी में केंद्रीय मंत्रिमंडल की अध्यक्षता में गायों के संरक्षण, संवर्धन और विकास और उनकी संतान के लिए राष्ट्रीय कामधेनु आयोग की स्थापना को मंजूरी दी थी।

यह भी पढ़ें : मौजे दान करने के आइडिया से 22 गुना टर्नओवर भी बढ़ा, 24 घंटे में मिल गए 17 लाख रुपए

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss