विज्ञापन
Home » Industry » Agri-BizAsafoetida farming in himachal pradesh save crores of indian currency

हिमाचल में है यह छोटा सा गांव, बचाएगा देश के करोडों रुपए

रंग लाई गांव वालों की कोशिशें, हींग के बीच में फूटा पहला अंकुर

1 of

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के किन्नूर जिले के छोटे से गांव लिप्पा की अहमियत उस वक्त बढ़ गई, जब वहां हींग की खेती की कोशिशें परवान चढ़ने लगी। दरअसल यहां के किसानों की इस कोशिश से देश को करोड़ों रुपए की विदेशी मुद्रा की बचत होगी। दरअसल भारत हर साल हींग के आयात पर औसतन 8,800 करोड़ रुपए खर्च करता है। भारत हींग का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करने वाला देश है। विश्व के  कुल हींग उत्पादन का 40% का उपयोग अकेले भारत करता है। ऐसे में लिप्पा गांव हींग का उत्पादन करके देश के करोड़ों रुपए विदेश जाने से रोक सकता है। लिप्पा गांव में हींग का बीज पहली बार 2017 में बोया गया था, जिसका पहला अंकुर अब फूट चुका है।

 

पांच वर्ष में तैयार होता है पौधा 

एक अनुमान के मुताबिक हींग के एक पेड़ से एक किलो तक दूध निकलता है। इसका एक पौधा दूध देने के लिए पांच वर्ष में तैयार होता है। जो कि 11 हजार रुपए से 40 हजार रुपए तक बिकता है। शुद्ध हींग की कीमत 35 हजार रुपए किलो होती है। इसका मसालों से लेकर दवाइयों में इस्तेमाल होता है। भारत के खाने में हींग का विशेष रूप से इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि हींग खाने से पेट की बीमारियां दूर रहती हैं।  

आगे भी पढ़ें ....  

 

हिमाचल हींग की खेती का नया ठिकाना

हींग की खेती के लिए हिमाचल प्रदेश का लिप्पा गांव सबसे मुफीद जगह है, क्योंकि यहां का औसत तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहता है और हींग की खेती जीरो से 35 डिग्री सेल्सियस तापमान के बीच होती है। इससे पहले 2012 में जम्मू कश्मीर में हींग की खेती की कोशिश की गई थीं। लेकिन सफलता नहीं मिली थी।

यह भी पढ़ें... 

 

हींग के बीज पर प्रतिबंध

हींग की खेती आसान नहीं है, क्योंकि इसके बीज हासिल करना मुश्किल है। इसकी खेती कुछ चुनिंदा देशों अफगानिस्तान, ईरान, इराक, तुर्कमेनिस्तान और पाकिस्तान के बलूचिस्तान में होती है। इन देशों को हींग की बिक्री से काफी विदेशी करंंसी प्राप्त होती है। इसलिए ये देश हींग के बीज देश से बाहर नहीं जाने देते हैं। यही वजह है कि यहां हींग के बीज की व्यापारिक बिक्री पर रोक है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन