बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Agri-Bizदेश में 279.51 मिलियन टन खाद्यान्‍न का रिकॉर्ड उत्‍पादन, तीसरा अनुमान जारी

देश में 279.51 मिलियन टन खाद्यान्‍न का रिकॉर्ड उत्‍पादन, तीसरा अनुमान जारी

देश में चालू वर्ष के दौरान रिकॉर्ड खाद्यान्‍न उत्‍पादन हुआ है।

1 of

नई दिल्‍ली। कृषि, सहयोग एवं किसान कल्‍याण विभाग ने वर्ष 2017-18 के लिए प्रमुख फसलों के उत्‍पादन के तीसरे अग्रिम अनुमान जारी कर दिये। मानसून 2017 के दौरान लगभग सामान्‍य वर्षा होने और सरकार की विभिन्‍न नीतिगत पहलों के परिणामस्‍वरूप देश में चालू वर्ष के   दौरान रिकॉर्ड खाद्यान्‍न उत्‍पादन हुआ है। वर्ष 2017-18 के लिए तीसरे अग्रिम अनुमानों के मुताबिक, देश में कुल खाद्यान्‍न उत्‍पादन 279.51 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है, जो वर्ष 2016-17 के दौरान हुए 275.11 मिलियन टन के पिछले रिकॉर्ड खाद्यान्‍न उत्‍पादन से 4.40 मिलियन टन अधिक है। चालू वर्ष में यह अनुमानित उत्‍पादन पिछले पांच वर्षों (2012-13 से लेकर 2016-17 तक) के दौरान हुए औसत खाद्यान्‍न उत्‍पादन से 19.33 मिलियन टन अधिक है।  

चावल का रि‍कॉर्ड उत्‍पादन 
वर्ष 2017-18 के दौरान कुल चावल उत्‍पादन रिकॉर्ड 111.52 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है। इस दौरान चावल उत्‍पादन वर्ष 2016-17 में हुए 109.70 मिलियन टन के उत्‍पादन से 1.82 मिलियन टन अधिक है। वर्ष 2017-18 के दौरान चावल उत्‍पादन पिछले पांच वर्षों में हुए 106.29 मिलियन टन के औसत उत्‍पादन से भी 5.22 मिलियन टन अधिक है। 


गेहूं ने भी तोड़ा रि‍कॉर्ड 
वर्ष 2017-18 के दौरान कुल गेहूं उत्‍पादन रिकॉर्ड 98.61 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है। इस दौरान गेहूं उत्‍पादन वर्ष 2016-17 में हुए 98.51 मिलियन टन के उत्‍पादन से 0.10 मिलियन टन अधिक है। वर्ष 2017-18 के दौरान गेहूं उत्‍पादन पिछले पांच वर्षों के औसत उत्‍पादन से भी 5.28 मिलियन टन अधिक है।


वर्ष 2017-18 के दौरान पोषक/मोटे अनाजों का उत्‍पादन रिकॉर्ड 44.87 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले पांच वर्षों के औसत उत्‍पादन से 3.17 मिलियन टन अधिक है। यही नहीं, वर्ष 2017-18 के दौरान उत्‍पादन वर्ष 2016-17 में हुए 43.77 मिलियन टन के उत्‍पादन से 1.10 मिलियन टन अधिक है।


दालों का बंपर प्रोडक्‍शन 
वर्ष 2017-18 के दौरान कुल दाल उत्‍पादन रिकॉर्ड 24.51 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले वर्ष में हुए 23.13 मिलियन टन के उत्‍पादन से 1.37 मिलियन टन अधिक है। पिछले पांच वर्षों के औसत उत्‍पादन की तुलना में भी वर्ष 2017-18 के दौरान अनुमानित कुल उत्‍पादन 5.66 मिलियन टन अधिक है।


वर्ष 2017-18 के दौरान कुल तिलहन उत्‍पादन 30.64 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है, जो वर्ष 2016-17 में हुए 31.28 मिलियन टन के उत्‍पादन की तुलना में 0.64 मिलियन टन कम है। हालांकि, पिछले पांच वर्षों में हुए औसत तिलहन उत्‍पादन की तुलना में वर्ष 2017-18 के दौरान अनुमानित तिलहन उत्‍पादन 1.09 मिलियन टन अधिक है।

 

वर्ष 2016-17 की तुलना में उत्‍पादन में 49.03 मिलियन टन की उल्‍लेखनीय वृद्धि होने के परिणामस्‍वरूप वर्ष 2017-18 के दौरान कुल गन्‍ना उत्‍पादन 355.10 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया गया है। पिछले पांच वर्षों के दौरान हुए औसत गन्‍ना उत्‍पादन की तुलना में भी वर्ष 2017-18 के दौरान अनुमानित गन्‍ना उत्‍पादन 13.06 मिलियन टन अधिक है।

 

वर्ष 2017-18 के दौरान कपास उत्‍पादन 34.86 मिलियन गांठें (प्रत्‍येक 170 किलो) होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले वर्ष के दौरान हुए 32.58 मिलियन गांठों के उत्‍पादन की तुलना में 2.28 मिलियन गांठें अधिक है। इतना ही नहीं, पिछले पांच वर्षों के दौरान हुए 33.50 मिलियन गांठों के औसत उत्‍पादन की तुलना में भी वर्ष 2017-18 के दौरान अनुमानित कपास उत्‍पादन 1.36 मिलियन गांठें अधिक है।

वर्ष 2017-18 के दौरान जूट एवं मेस्ता का उत्‍पादन 10.62 मिलियन गांठें (प्रत्‍येक 180 किलो) होने का अनुमान लगाया गया है, जो वर्ष 2016-17 के दौरान हुए उत्‍पादन की तुलना में कम है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट