Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

H-1B वीजा होल्डर्स के स्पाउस को वर्क परमिट पर रोक लगाएंगे ट्रम्प, हजारों भारतीयों पर असर हर तीसरे ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले को मि‍ल रहा है नकली सामान, सर्वे में खुलासा क्रूड की कीमतें 3 साल में पहली बार 75 डॉलर के पार, पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान पर Jio और Airtel भारत में लॉन्‍च करेंगे एप्‍पल वॉच सीरीज-3, 4 मई से शुरू होगी प्री बुकि‍ंग रेमि‍टेंस हासि‍ल करने में टॉप पर भारत, दूसरे नंबर पर रहा चीन इस बैंक ने 18 माह में 1 लाख को बनाया 1.80 लाख, आगे भी कमाई का मौका तीन फॉर्मूलों से गन्‍ना कि‍सानों को राहत देगी सरकार, जीओएम में हुई चर्चा मंगलवार के लिए इंट्राडे टिप्स, इन शेयरों में मिल सकता है अच्छा रिटर्न खास खबरः जो काम अंबानी और बिड़ला नहीं कर पाए, वो TCS ने ऐसे कर दिखाया सेंसेक्स में 149 अंकों की तेजी, निफ्टी 10600 के पार, हिंडाल्को 8.50 फीसदी टूटा चीन की ये कंपनी लाई सस्‍ते टीवी का ऑफर, 13999 रुपए में मि‍लेगा Smart TV ​रुपए में थमी गिरावट , 5 पैसे मजबूत होकर 66.42 के भाव पर खुला यूपी और बिहार की वजह से भारत पि‍छड़ा, नीति‍ आयोग के सीईओ कांत का बयान खोलना चाहते हैं रिलायंस और एस्‍सार का पेट्रोल पंप, ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन मोदी देना चाहते हैं 'जहां झुग्‍गी-वहीं मकान', पर गुजरात को छोड़कर दूसरे राज्‍यों ने बनाई दूरी
बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Agri-Bizमीट एक्‍सपोर्ट में दोबारा तेजी आने की उम्‍मीद, सरकार के यू टर्न का होगा असर

मीट एक्‍सपोर्ट में दोबारा तेजी आने की उम्‍मीद, सरकार के यू टर्न का होगा असर

नई दि‍ल्‍ली। पशुवध को लेकर कड़े कानून की वजह से मीट एक्‍सपोर्ट में आई करीब 18% गि‍रावट के बाद सरकार ने नि‍यमों में ढि‍लाई का मसौदा तैयार कि‍या है। मीट कारोबारि‍यों को उम्‍मीद है कि‍ नए नि‍यमों से नि‍र्यात एक बार फि‍र अपनी रफ्तार पकड़ लेगा। यह अभी ड्राफ्ट है, मगर बहुत उम्‍मीद है कि‍ जल्‍द ही यह कानून पुराने कानून की जगह ले लेगा। 


पि‍छले साल 23 मई को लागू हुए प्रिवेंशन ऑफ क्रूएलि‍टी टू एनि‍मल्‍स रूल्स 2017 को लेकर पूरे देश में काफी हंगामा हुआ था। इसके तहत वध करने के लि‍ए मार्केट में दुधारू पशुओं की खरीद फरोख्त पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी। इस नि‍यम का कारोबारि‍यों ने काफी विरोध कि‍या था। हालांकि तब सरकार ने अपना स्‍टैंड नहीं बदला, जि‍सका खामि‍याजा एक्‍सपोर्ट में गि‍रावट के रूप में भुगतना पड़ा। 


वर्ष 2015-16 के मुकाबले वर्ष 2016-17 में गौवंश (MEAT OF BOVINE ANIMALS, FRESH AND CHILLED) के मीट के एक्‍सपोर्ट में करीब 18 फीसदी की गि‍रावट दर्ज की गई थी। 


सरकार के कदम का स्‍वागत करते हैं 
इंडिया फ्रोजन फूड के मोहम्‍मद हाजी इमरान ने कहा कि सरकार का यह कदम स्‍वागतयोग्‍य है। मौजूदा नि‍यमों की वजह से कई बार बेवहज परेशानि‍यों का सामना करना पड़ता है। मीट एक्‍सपोर्ट के मामले में दुनि‍या में हमारी पोजीशन काफी मजबूत है, मगर पि‍छले साल नए नि‍यम आने के बाद हमारे कारोबार में करीब 30% की गि‍रावट आ गई। 


अब  नि‍यमों में जो ढील दी गई है उसका पॉजि‍टि‍व असर आने वाले वक्‍त में दि‍खाई देगा। मीट के एक्‍सपोर्ट से हमारे देश को वि‍देशी मुद्रा मि‍लती है। हम चीन, यूरोप, यूएई, मलेशि‍या, इंडोनेशि‍या को मीट व अन्‍य संबंधि‍त प्रोडक्‍ट भेजते हैं। अब नि‍यमों में जो बदलाव प्रस्‍तावि‍त हैं उससे कामकाज करने में और आसानी होगी। घरेलू कारोबारी को भी इससे बल मि‍लेगा। 

 

बीफ का एक्‍सपोर्ट  

वर्ष वैल्‍यू लाख रुपए में    गि‍रावट
2015-16 44442.77  -----
2016-17 36517.22   17.83 %

इसमें ताजा और प्रसंस्‍कृत मांस शामि‍ल है। 

स्रोत - डि‍पार्टमेंट ऑफ कॉमर्स 


तीसरा सबसे बड़ा एक्‍सपोर्टर है भारत 
भारत दुनि‍या में बीफ का तीसरा सबसे बड़ा एक्‍सपोर्टर है। फूड एंड एग्रीकल्‍चर ऑर्गनाइजेशन  (FAO) और ऑर्गनाइजेशन फॉर इकोनॉमि‍क कॉपरेशन (OECD)की रिपोर्ट के मुताबि‍क, अगले कम से कम एक दशक तक भारत इस पोजीशन पर बरकरार  रहेगा। OECD-FAO की एग्रीकल्‍चर आउटलुक 2017-2026 की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, वर्ष 2026 में कुल बीफ एक्‍सपोर्ट में 16 फीसदी हिस्‍सेदारी भारत की होगी।  वर्ष 2016-17 में भारत ने कुल 29,532.65 करोड़ रुपए का पशु उत्‍पादों का नि‍र्यात कि‍या था। भेंड, बकरी, बीफ, पोल्‍ट्री प्रोडक्‍ट,  के अलावा प्रोसेस्‍ड मीट, अंडे, दूध और शहद शामि‍ल है।   आगे पढ़ें क्‍या हैं नए नि‍यम 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.