विज्ञापन
Home » Industry » Agri-BizWhy is importing Milk from foreign country like USA

अब आप खाएंगे अमेरिकी दूध और दही, भारत प्रतिबंधों में देगा सशर्त छूट

विश्व में भारत सबसे ज्यादा दूध का करता है उत्पादन, जानिए फिर क्यों अमेरिका से मंगाने की पड़ी जरूरत

1 of

नई दिल्ली. भारत सरकार अमेरिकी डेयरी प्रोडक्ट को आयात की शर्तों के साथ इजाजत देने को तैयार है। इसके लिए भारत अमेरिकी दूध के आयात पर लगाए प्रतिबंधों में ढील देगा। हालांकि अमेरिका को भारत को यह गारंटी देनी होगी कि उसके प्रोडक्ट में किसी तरह का कोई मांसाहार उपयोग में नही लाया गया है। भारत ने कहा कि वो सिर्फ ऐसे पशुओं का दूध और उनके प्रोडक्ट आयात करेगा, जिन्होंने कभी मांसाहरी चारा न खाया हो। केंद्र सरकार ने इसके पीछे दलील देते हुए कहा कि दरअसल भारत में दूध और उसके प्रोडक्ट को धार्मिक कार्यो के लिए इस्तेमाल में लाए जाते हैं, साथ ही दूध के साथ हिंदुओं की धार्मिक भावनाएं जुड़ी हुई हैं। 

 

अमेरिका भारत की शर्त का करता रहा है विरोध   

अमेरिका की ओर से भारत की इस शर्त का विरोध किया जाता रहा है, जबकि अन्य देश अपने डेयरी प्रोडक्ट भारतीय शर्तों का पालन करते हुए डेयरी प्रोडक्ट का एक्सपोर्ट कर रहे हैं।  ऐसे में भारत ने अमेरिका को दूध टूक जवाब देते हुए कहा कि उसे डेयरी प्रोडक्ट्स का एक्सपोर्ट की इजाजत तभी मिलेगी, जब उसकी ओर से वेटनरी डॉक्टर्स से प्राप्त एक सर्टिफिकेट देना होगा, जिसमें यह जानकारी दर्ज होगी कि उसके प्रोडक्ट में किसी तरह की मांसाहार चारा खाने वाले पशु का दूध उपयोग में नहीं लाया गया है। 

 

 

700 करोड़ का बढ़ जाएगा अमेरिकी एक्सपोर्ट

अमेरिका की डेयरी इंडस्ट्री का दावा है कि अगर भारत में उनके प्रॉडक्ट्स के लिए मार्केट खोला जाता है तो इससे उसका एक्सपोर्ट 700 करोड़ डॉलर तक बढ़ सकता है। भारत और अमेरिका व्यापार से जुड़े कई विवादास्पद मुद्दों पर बातचीत करके उन्हें सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें इंफॉर्मेशन ऐंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी (ICT) प्रॉडक्ट्स से जुड़ा मुद्दा भी शामिल है। अमेरिका ने मोबाइल फोन, स्मार्टवॉच और टेलिकॉम नेटवर्क इक्विपमेंट जैसे आइटम्स पर टैरिफ घटाने की मांग की है। हालांकि, भारत ने टैरिफ कम करने से मना किया है। 

 

 

चीनी दूध के आयात पर प्रतिबंध
भारत ने पिछले करीब 5 साल से चीनी दूध पर प्रतिबंध लगा रखी है। भारत का दावा है कि चीन के दूध में केमिकल का प्रयोग किया जाता है। वैसे तो भारत का ‌विश्व में दूध उत्पादन के मामले में पहला स्थान है। लेकिन भारत में दूध की खपत भी सबसे ज्यादा होती है। पिछले कुछ वर्षों में भारत में उत्पादन के मुकाबले खपत ज्यादा बढ़ी है। ऐसे में भारत को विदेशों से दूध मंगाने की जरुरत पड़ती है।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन