बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Agri-Bizइंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने से होगा चीनी मि‍लों और कि‍सानों को फायदा : Crisil

इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने से होगा चीनी मि‍लों और कि‍सानों को फायदा : Crisil

इस बार चीनी मि‍लों को अच्‍छा प्रॉफि‍ट होने की उम्‍मीद है, जि‍सकी बदौलत गन्‍ना कि‍सानों को भी समय से पेमेंट मि‍ल सकेगी।

1 of

नई दि‍ल्‍ली।  इस बार चीनी मि‍लों को अच्‍छा प्रॉफि‍ट होने की उम्‍मीद है, जि‍सकी बदौलत गन्‍ना कि‍सानों को भी समय से पेमेंट मि‍ल सकेगी। रेटिंग एजेंसी क्रि‍सि‍ल (Crisil ) ने अपनी रि‍पोर्ट में ऐसे आसार जताए हैं। एजेंसी का कहना है कि सरकार ने इस महीने की शुरुआत मेंं ही चीनी पर 100 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगा दी ताकि सस्‍ते आयात पर रोक लगे और उत्‍पादकों को बेहतर दाम मि‍ल सकें। गि‍रती कीमतों को रोकने के लि‍ए सकरार ने चीनी मि‍लों पर सप्‍लाई लीमि‍ट भी लगा दी थी। 


चीनी मि‍लों को होगा लाभ 
क्रि‍सि‍ल ने कहा कि सरकार के इन दोनों कदमों से चीनी मीलों को लाभी पहुंचेगा। इसका फायदा कि‍सानों को समय से भुगतान के रूप में मि‍लेगा। अक्‍टूबर 2017 से जनवरी 2018 के बीच चीनी की कीमतों में करीब 18 फीसदी की गि‍रावट आ गई थी। इस बार चीनी का उत्‍पादन अच्‍छा होने की उम्‍मीद है। 


क्रि‍सि‍ल के सीनि‍रय डायरेक्‍टर सुबोध राय ने कहा कि ज्‍यादा उत्‍पादन हो जाने की वजह से पूरी दुनि‍या में चीनी की कीमतें नीचे आ गई हैं। इसलि‍ए हमारा मानना है कि घरेलू चीनी मि‍लों के हि‍तों के लि‍ए चीनी पर 100 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगाना समय से लि‍या गया सही फैसला है। उनका मानना है कि इस फैसले की बदौलत वि‍श्‍व बाजार में चीनी की कीमतों में आने वाली और गि‍रावट के बीच चीनी मि‍लों को 6 से 7 रुपए प्रति‍कि‍लो का अतिरि‍क्‍त सहारा मि‍लेगा।

 
इस बार होगा ज्‍यादा प्रोडक्‍शन 
इंडि‍या शुगर मि‍ल्‍स एसोसि‍एशन, इस्‍मा ने भी इस सीजन में प्रोडक्‍शन के अपने अनुमान को 10 लाख टन बढ़ाकर 2.61 करोड़ टन कर दि‍या है। हालांकि सरकार ने 2.49 लाख टन चीनी के उत्‍पादन का अनुमान जताया है। पि‍छले साल चीनी का उत्‍पादन 7 सालों के में सबसे कम 2.02 करोड़ टन था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट