विज्ञापन
Home » Industry » Agri-BizImportant things to know about agriculture in 2019

2019 में बदल जाएंगे खेती के तरीके, कर पाएंगे ज्यादा मुनाफा

स्मार्ट खेती के साथ स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग भी हो सकेगी

1 of

नई दिल्ली. तकनीक ने लोगों के कई काम आसान किए है। ऐसे में खेती कैसे दूर रह सकती थी। साल 2019 किसानों को नई सौगात दे सकता है। अगर सब ठीक रहा, तो शायद ऐसा वक्त आएगा, जहां किसान खेती से ज्यादा मुनाफा कर पाएंगे। खेती के लिए किसानों को खेत जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। किसान घर बैठे ही अब अपने खेत की निगरानी कर सकेंगे। दरअसल ऐसी मुहिम सैमसंग की ओर से शुरु की गई है, जो 5 जी की मदद से खेती को आसान बना देगी। इसमें ड्रोन उनकी मदद करेगा। इसका डेमो बीते साल इंडियन मोबाइल कांग्रेस में दिखाया गया था। 

 

भारत सरकार से मिला ग्रीन सिग्नल

सैमसंग भारत सरकार के दूरसंचार विभाग के साथ मिलकर अगले साल मार्च से पहले दिल्ली में 5G सर्विस का ट्रायल रन शुरू करने जा रही है। सैमसंग की हेड आफ साउथ वेस्ट एशिया बिजनेस क्लॉउडिया पार्क ने इस बारे में मनी भास्कर को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दूरसंचार मंत्रालय से इस मामले में हरी झंडी मिल गई है और साल 2019 की पहली तिमाही में 5जी का ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा। सैमसंग के पास 5G का नेटवर्क तैयार है। उन्होंने बताया कि अभी 4जी सेवा के विस्तार के लिए सैमसंग का रिलायंस जियो के साथ करार है और कंपनी चाहती है कि 5जी के लिए दोनों के बीच यह करार कायम रहे।

 

 

कैसे होगी खेती

खेत पर ड्रोन को भेजा जाएगा। किसान ड्रोन के माध्यम से अपने लैपटाप या कंप्यूटर पर चेक कर सकेंगे कि उनके खेत में क्या कमी है या किस चीज की जरूरत है। ड्रोन के खेत पर चक्कर लगाने के बाद किसान को यह पता चल जाएगा कि मिट्टी की आर्द्रता कितनी है, खेत का तापमान कैसा है और खेत में किस प्रकार के उर्वरक की जरूरत है। उसके बाद किसान ड्रोन के माध्यम से उर्वरक जैसी चीजों का छिड़काव कर सकेंगे। मोबाइल कांग्रेस में इस प्रकार की खेती का लाइव डेमो दिया गया। खेत की इस नवीनतम तकनीक के लिए रिलायंस जियो एवं सैमसंग ने हाथ मिलाया है। इस माध्यम के लिए जियो की 5जी सेवा तो सैमसंग की तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

 

स्मार्ट खेती के साथ स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग भी

मोबाइल कांग्रेस में सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स प्रेसिडेंट एवं नेटवर्क बिजनेस के प्रमुख योंगकी किम के बताया कि इस तकनीक से स्मार्ट खेती के साथ स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग को अंजाम देने के साथ इसका इस्तेमाल स्मार्ट सिटी में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सैमसंग के बनाए रास्ते से 5जी की क्षमता का पूरा दोहन किया जा सकेगा जिससे भारत के साथ यहां के कारोबारियों को भी काफी लाभ होगा। किम ने बताया कि सैमसंग ने रिलायंस जियो के साथ मिलकर 4जी एलटीई को काफी एडवांस बनाया है। इस दीपावली तक यह नेटवर्क 99 फीसदी आबादी तक पहुंच जाएगी। उन्होंने बताया कि जियो-सैमसंग एलटीई नेटवर्क प्रतिदिन के डाटा ट्रैफिक के 90 फीसदी पेटाबाइट को हैंडल करता है जो कि सोशल मीडिया पर प्रतिदिन शेयर होने वाले 600 अरब फोटोग्राफ के बराबर हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन