Home » Experts » SMEBudget 2017 offers a mixed bag for the startup

बजट में स्‍टार्टअप्‍स के लि‍ए पॉजि‍टि‍व एलान लेकि‍न कुछ चीजों पर मि‍ली नि‍राशा

इस साल के बजट ने स्‍टार्टअप कम्‍युनि‍टी के लि‍ए मि‍क्‍स था। इसमें कुछ चीजें हुईं और कुछ चीजें छूट गई हैं।

Budget 2017 offers a mixed bag for the startup
 
नई दि‍ल्‍ली। इस साल के बजट ने स्‍टार्टअप कम्‍युनि‍टी के लि‍ए मि‍क्‍स था। इसमें कुछ चीजें हुईं और कुछ चीजें छूट गई हैं। जो पॉजि‍टि‍व कदम हैं वह इस प्रकार हैं :
 
- स्‍टार्टअप्‍स के लि‍ए टैक्‍स छूट अवधि‍ पहले 7 साल में 3 साल कर दि‍या गया है। ज्‍यादातर स्‍टार्टअप्‍स को प्रॉफि‍ट कमाने में वक्‍त लगता है, यह इसी ओर में उठाया गया पॉजि‍टि‍व कदम है।
- 50 करोड़ रुपए तक की टर्नओवर वाली कंपनि‍यों के टैक्‍स रि‍डक्‍शन रेवेन्‍यू को घटाकर 25 फीसदी करना पॉजि‍टि‍व कदम है।
- मैट पर भी राहत मि‍ली है। इसे कंपनि‍यों के लि‍ए 10 साल की जगह 15 साल के लि‍ए कर दि‍या गया है।  
हालांकि‍, इन कदमों के बाद भी हम स्‍टार्टअप्‍स के लि‍ए कुछ और ऐलानों को सुनना चाहते थे।
 
- स्‍टार्टअप्‍स के लि‍ए मैट को पूरी तरह से हटा देना चाहि‍ए।
- यह भी अच्‍छा होता अगर स्‍टार्टअप्‍स के लि‍ए कैपि‍टल गेन्‍स को लि‍स्‍टेड कंपनि‍यों के साथ जोड़ दि‍या जाए क्‍योंकि‍ स्‍टार्टअप्‍स में लोगों का इन्‍वेस्‍टमेंट जोखि‍म भरा रहा है।
- बजट 2017 में एंजल टैक्‍स को हटाने के बारे में कुछ नहीं कहा गया। यह स्‍टार्टअप्‍स के बुरी खबर है क्‍योंकि‍ एंजल फंडिंग के बाद ही वीसी स्‍टार्टअप्‍स में आते हैं।
 
(लेखक इंडि‍या एंजल नेटवर्क के को-फाउंडर हैं)
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट