कमोडिटी /दो साल से नहीं बढ़े हैं गन्ने के दाम, इस साल किसानों को रेट बढ़ने की उम्मीद

  • पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश के किसानों ने लगभग 33,000 करोड़ रुपए मूल्य के गन्ने की आपूर्ति चीनी मिलों में की थी 
  • लेकिन इसमें से आज भी किसानों का लगभग 3500 करोड़ रुपए का गन्ना भुगतान बकाया है

Moneybhaskar.com

Dec 02,2019 06:14:00 PM IST

नई दिल्ली. पिछले दो सालों से अत्यधिक चीनी उत्पादन और विशाल चीनी-भंडार से परेशान चीनी उद्योग की स्थिति इस साल बदल सकती है। इस साल कम चीनी उत्पादन होने और अंतरराष्ट्रीय बाजार में अधिक मांग के कारण चीनी उद्योग को तो राहत मिलेगी परन्तु क्या गन्ना किसानों की स्थिति भी सुधरेगी? 2018-19 में चीनी का आरंभिक भंडार (ओपनिंग स्टॉक) 104 लाख टन, उत्पादन 332 लाख टन, घरेलू खपत 255 लाख टन और निर्यात 38 लाख टन रहा। इस प्रकार वर्तमान चीनी वर्ष 2019-20 में चीनी का प्रारंभिक भंडार 143 लाख टन है। अतः हमारी सात महीने की खपत के बराबर चीनी पहले ही गोदामों में रखी हुई है।

पिछले साल के मुकाबले 21 फीसदी कम रह सकता है चीनी उत्पादन

कुछ महीने पहले तक यह बहुत ही चिंताजनक स्थिति थी जिसको देखते हुए सरकार ने चीनी मिलों को चीनी की जगह एथनॉल बनाने के लिए कई प्रोत्साहन दिए थे। लेकिन पहले सूखे और बाद में अत्यधिक बेमौसम बारिश के कारण देश में गन्ने की फसल को काफी नुकसान हुआ। इससे महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन पिछले साल के 107 लाख टन से घटकर 55 लाख टन और कर्नाटक में 44 लाख टन से घटकर 33 लाख टन रहने की संभावना है। इस्मा (इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन) के अनुसार देश में इस वर्ष चीनी का उत्पादन पिछले वर्ष के मुकाबले 21 फीसदी घटकर लगभग 260 लाख टन होने का अनुमान है जो घरेलू बाजार की खपत के लिए ही पर्याप्त होगा।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारत कर सकेगा चीनी की आपूर्ति

2019-20 में विश्व में चीनी का उत्पादन 1756 लाख टन और मांग 1876 लाख टन रहने की संभावना है। यानी उत्पादन मांग से 120 लाख टन कम होने का अनुमान है। इस कारण इस वर्ष अन्तरराष्ट्रीय बाजार में चीनी की अच्छी मांग होगी जिसकी आपूर्ति हम कर सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चीनी उत्पादन में संभावित कमी से हमारे पहाड़ से चीनी-भंडार अचानक अच्छी खबर में बदल गए हैं। उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों और चीनी उद्योग का इस स्थिति में सबसे ज्यादा लाभ होगा। पिछले साल की तरह प्रथम स्थान पर उत्तर प्रदेश ही रहेगा जहां इस वर्ष 120 लाख टन चीनी उत्पादन का अनुमान है। पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश के किसानों ने लगभग 33,000 करोड़ रुपए मूल्य के गन्ने की आपूर्ति चीनी मिलों में की थी। परन्तु इसमें से आज भी किसानों का लगभग 3500 करोड़ रुपए का गन्ना भुगतान बकाया है।

दो साल से नहीं बढ़े गन्ने के दाम

पिछले दो साल से अत्यधिक चीनी उत्पादन और भरे हुए भंडारों का हवाला देकर एक तरफ चीनी मिल किसानों का भुगतान टालती रही हैं, तो दूसरी तरफ सरकार ने भी गन्ने के दाम नहीं बढ़ाए। केन्द्र सरकार ने जुलाई में वर्ष 2019-20 के लिए गन्ने का एफआरपी (उचित एवं लाभकारी मूल्य) 10 फीसदी की आधार रिकवरी के लिए 275 रुपए प्रति क्विंटल घोषित किया था। वर्ष 2018-19 में भी केन्द्र सरकार का एफआरपी इतना ही था परन्तु आधार रिकवरी दर 9.5 फीसदी थी। इस वर्ष आधार रिकवरी दर बढ़ाने और महंगाई दर के प्रभाव से गन्ने का वास्तविक मूल्य घट गया है। यही हाल उत्तर प्रदेश में भी रहा जहां एसएपी (राज्य परामर्शित मूल्य) पिछले दो सालों से 315-325 रुपए प्रति क्विंटल के स्तर पर ही है। परन्तु अब गन्ना और चीनी दोनों के उत्पादन की स्थिति देश और अंतरराष्ट्रीय बाजार में बदल गई है जिसके कारण गन्ना मूल्य बढ़ाया जाना चाहिए।

किसानों की मांग 400 रुपए प्रति क्विंटल मिले गन्ने का दाम

पिछले दिनों उत्तर प्रदेश सरकार ने 2019-20 के गन्ना मूल्य निर्धारण के लिए सभी हितधारकों से विचार विमर्श किया। इस बैठक में उत्तर प्रदेश चीनी मिल्स एसोसिएशन ने फिर एक बार अपनी खराब आर्थिक स्थिति, चीनी के अत्यधिक उत्पादन और भंडार का डर दिखाकर इस साल भी गन्ने का रेट ना बढ़ाने की मांग रखी। गन्ने की उत्पादन लागत लगभग 300 रुपए प्रति क्विंटल है। किसानों का कहना है कि दो सालों से गन्ने के रेट नहीं बढ़ाए गए हैं। सरकार के लागत के डेढ़ गुना के वायदे को भूल भी जाएं तो भी बदली परिस्थिति में कम से कम 400 रुपए प्रति क्विंटल का भाव मिलना चाहिए।

चीनी के सह-उत्पाद बेचकर मिलें करती हैं अच्छी कमाई

वास्तविकता तो यह है कि चीनी मिलें चीनी के सह-उत्पादों जैसे शीरा, खोई (बगास), प्रैसमड़ आदि से भी अच्छी कमाई करती हैं। इसके अलावा सह-उत्पादों से एथनॉल, बायो-फर्टीलाइजर, प्लाईवुड, बिजली व अन्य उत्पाद बनाकर भी बेचती हैं। गन्ना (नियंत्रण) आदेश के अनुसार चीनी मिलों को 14 दिनों के अंदर गन्ना भुगतान कर देना चाहिए। भुगतान में विलम्ब होने पर 15 फीसदी प्रति वर्ष की दर से ब्याज भी देय होता है। परन्तु चीनी मिलें साल-साल भर गन्ना भुगतान नहीं करतीं और किसानों की इस पूंजी का बिना ब्याज दिए इस्तेमाल करती हैं। इस तरह मिलें बैंकों के ब्याज की बचत भी करती हैं। पिछले दो सालों में सरकार ने चीनी मिलों को अनेक प्रोत्साहन पैकेज भी दिए हैं इसके बावजूद भी मिलों ने गन्ने का समय पर भुगतान नहीं किया।

व्यावसायिक इस्तेमाल वाली चीनी का रेट बढ़ाने से हल होगी समस्या

हर साल होने वाली गन्ना भुगतना की समस्या से निपटने के लिए हमें चीनी उद्योग के विषय में एक अलग नीति बनाने पर भी विचार करना होगा। देश में चीनी का 75 फीसदी उपयोग व्यावसायिक प्रतिष्ठानों द्वारा किया जाता है जिसमें चॉकलेट, पेय पदार्थ, च्यवनप्राश, जूस, मिठाई, आइस-क्रीम, बिस्कुट आदि निर्माता शामिल हैं। इन पेय-खाद्य पदार्थों में 60 फीसदी तक चीनी होती है जिसे अत्यधिक मंहगे दामों पर उपभोक्ताओं को बेचा जाता है। जिस प्रकार व्यावसायिक उपयोग वाले गैस सिलिंडर का रेट घरेलू इस्तेमाल वाले सिलिंडर से ज्यादा होता है उसी प्रकार व्यावसायिक इस्तेमाल होने वाली चीनी का रेट घरेलू से ज्यादा तय कर दिया जाए तो चीनी मिलों और गन्ना किसानों दोनों की समस्या का हल हो सकता है।

ब्राजील से सीख सकती है सरकार

इसके अलावा, ब्राजील की तरह हमें भी गन्ने का प्रयोग बाजार की मांग के अनुसार चीनी, एथनॉल या अन्य उत्पादों को बनाने में नियंत्रित रूप से करना चाहिए। इससे एक तो अत्यधिक चीनी उत्पादन से बचा जा सकता है और दूसरा एथनॉल का प्रयोग पेट्रोल में मिलाकर पेट्रोलियम पदार्थों के आयात में खर्च होने वाली विदेशी मुद्रा को भी कुछ बचाया जा सकता है। इससे वायु प्रदूषण भी कुछ कम होगा। ये दोनों कदम देश, सरकार, किसान और चीनी उद्योग के हित में हैं। अधिक उत्पादन को देखते हुए पिछले दो सालों से गन्ने के दाम वास्तव में घटा दिए गए हैं। अब बदली परिस्थितियों में कम चीनी उत्पादन और अच्छी अंतरराष्ट्रीय मांग को देखते हुए सरकार किसानों को अच्छा गन्ना मूल्य दिलाना सुनिश्चित करे।

-चौधरी पुष्पेन्द्र सिंह, अध्यक्ष, किसान शक्ति संघ

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.