• Home
  • Expert Opinion
  • Focus on financial planning during the festive season otherwise otherwise Budgets May Be Worse

निवेश /त्योहारों के सीज़न में फाइनेंशियल प्लानिंग पर दें ध्यान, वरना बिगड़ सकता है बजट

  • वित्तीय लक्ष्यों को ध्यान में रख कर निवेश करें। 

Saurabh Kumar Verma

Saurabh Kumar Verma

Oct 07,2019 04:18:00 PM IST

नई दिल्ली. हर साल सितंबर से दिसंबर का समय त्योहारों वाला होता है। नवरात्रि, दशहरा, दीवाली से लेकर क्रिसमस तक इस वक्त सभी लोग सोना और दूसरे आभूषण, नए कपड़े, गाड़ियां, घर इत्यादि की खरीदारी में व्यस्त रहते हैं। चूंकि त्योहारों का मौसम तमाम खर्चों का वक्त होता है इसलिए आपको समझदारी से फाइनेंशियल प्लानिंग पर ध्यान देना चाहिए। Comparepolicy.com के सीईओ सुभाष नागपाल ने मनी भास्कर को बताया कि वित्तीय रूप से सुरक्षित भविष्य के लिए आपको किन खास बातों का ध्यान रखना चाहिए।

जल्दी निवेश शुरू करना है जरूरी

अपने निवेश को न टालें। जिस दिन से आप कमाना शुरू करते हैं उसी दिन से आपको फाइनेंशियल प्लानिंग शुरू कर देनी चाहिए। आप छोटी से छोटी रकम से भी निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। निवेश करने की आदत आपको बाद में काफी मदद करती है। जल्दी निवेश शुरू करके आप कंपाउंडिंग का फायदा उठा सकते हैं जिससे आपकी निवेश की गई राशि में तेज़ी से बढ़ोत्तरी होती है।

ज़रूर बनाएं इमरजेंसी फंड

हर महीने अपनी कमाई में से आपको एक रकम इमरजेंसी फंड के लिए बचानी चाहिए। आपको पहले बचत करने और बाद में खर्च करने की आदत डालनी चाहिए। इमरजेंसी फंड में एक निश्चित राशि बचाने से आपको अप्रत्याशित खर्चों को पूरा करने में मदद मिलेगी। यदि आपकी कमाई प्रति माह 35,000 रुपये है और आपका मासिक खर्च लगभग 20,000 रुपये है तो आपको बची हुई राशि यानि 15,000 रुपये अलग से जमा करने चाहिए। यह आपको लगभग 1-2 लाख रुपये का इमरजेंसी फंड इकट्ठा करने में मदद करेगा। इस रकम की मदद से त्योहारों के सीज़न में अतिरिक्त खर्च आपको उतना परेशान नहीं करेगा।

वित्तीय लक्ष्यों को ध्यान में रख कर निवेश करें

कोई भी निवेश आपको अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करता है। जब आप निवेश की शुरुआत करते हैं तभी आपको अपने वित्तीय लक्ष्यों की पहचान करके उसी हिसाब से सही राशि का निवेश शुरू करना चाहिए। इसके लिए आप ULIP योजनाओं में निवेश कर सकते हैं जो आपको अलग-अलग फंड में निवेश करने की सुविधा देती हैं जिससे आप अपने लक्ष्य के हिसाब से रिटर्न सुनिश्चित कर सकते हैं।

इंश्योरेंस पॉलिसी है ज़रूरी

​​​​​​​हमेशा ध्यान रखें कि इंश्योरेंस करवाना और निवेश करना दो अलग अलग चीज़ें हैं। ये दो अलग प्रोडक्ट हैं और आप इन्हें मिला नहीं सकते। आपके न रहने पर भविष्य में आपके परिवार की वित्तीय सुरक्षा के लिए लाइफ इंश्योरेंस मददगार साबित होता है। इसी तरह अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में हेल्थ इंश्योरेंस आपके काम आता है।

समझदारी से करें खर्च

आजकल क्रेडिट कार्ड आसानी से उपलब्ध होने और बाद में भुगतान की आज़ादी मिलने की वजह से लोग बेवजह खरीदारी कर लेते हैं। लेकिन हर किसी को खरीदारी करने से पहले सतर्क रहना चाहिए। कुछ भी खरीदने से पहले अपने आप से पूछें कि क्या आपको वास्तव में उस वस्तु की आवश्यकता है। खरीदारी के वक्त ईएमआई जैसे विकल्प आकर्षक तो लगते हैं लेकिन असल में इस पर आप ज्यादा रकम चुका बैठते हैं। इसलिए ईएमआई पर कुछ भी खरीदने से पहले दो बार सोचें। आज खरीदने और बाद में चुकाने की आदत आपके लिए फायदेमंद साबित नहीं होगी। इंटरेस्ट फ्री ईएमआई का विकल्प भी कई जगह मिलता है, लेकिन इंटरेस्ट फ्री ईएमआई के लालच में आ कर कुछ खरीदने से पहले आपको पहले यह आंकलन कर लेना चाहिए कि आप पूरे इंस्टॉलमेंट पीरियड के दौरान सभी इंस्टालमेंट चुकाने में कामयाब हो भी पाएंगे या नहीं।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.