निवेश /दिवाली में निफ्टी के इन स्टाक के साथ अपने पोर्टफोलिया को करें रौशन 

  • TradingBells के को-फाउंडर एंड सीईओ अमित गुप्ता निवेशकों के लिए 5 टॉप पिक्स लेकर आए हैं। 

Moneybhaskar.com

Oct 26,2019 01:43:12 PM IST

नई दिल्ली. इस साल स्टॉक मार्केट के निवेशकों के लिए दिवाली जल्दी शुरू हो गई है क्योंकि निफ्टी पिछले दो सप्ताह में 500 अंक आगे बढ़ गया है। 7 अक्टूबर को यह 11,126 के आंकड़े पर था, जो 18 अक्टूबर को 11661 पर बंद हुआ। इसी बीच भारत सरकार देश को 2024 तक 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रयासरत है और मेक इन इण्डिया जैसे कदम उठा रही है। आने वाले साल के लिए भारतीय कॉरपोरेट उद्योग में विकास के सकारात्मक संकेत दिखाई दे रहे हैं। यहां तक कि विदेशी निवेशक जो नेट विक्रेता था, उन्होंने पिछले सप्ताह स्टॉक खरीदना शुरू कर दिया है। यह सकारात्मक संकेत है और दिवाली से पहले कारोबारियों के लिए बड़ी राहत है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही निफटी अब तक के सबसे उंचे स्तर पर बंद होगा और अगली दिवाली तक 13500 के स्तर तक पहुंच जाएगा। TradingBells के को-फाउंडर एंड सीईओ अमित गुप्ता मनी भास्कर को बताया कि दीवाली पर किन शेयर में निवेश करना चाहिए।

यहां हम निवेशकों के लिए 5 टॉप पिक्स लेकर आए हैं-

बजाज ऑटो एक बड़ा निर्यातक है जो स्पष्ट रूप से भारतीय बाज़ार से ज्यादा अन्तर्राष्ट्रीय बाज़ार ध्यान दे रहा है। पिछले साल वित्तीय वर्ष 19 में कंपनी ने 79 देशों को मिलियन से अधिक वाहन निर्यात किए, जिनमें दोपहिया, तीन पहिया और चार पहिया वाहन शामिल हैं। हाल ही में चेतक इलेक्ट्रिक के लॉन्च के साथ बाज़ार में बजाज का आकर्षण बढ़ा है, जो इलेक्ट्रिक वाहनों और स्वच्छ उर्जा की ओर रूख कर रहा है। कंपनी वर्चुअल रूप से ऋण से रहित है और पिछले 3 सालों से इक्विटी पर 23 फीसदी रिटर्न का अच्छा रिकॉर्ड बना रही है। साथ ही 40 फीसदी का डिविडेंड पेआउट भी बरकरार रखे हुए है। यहां उल्लेखनीय है कि हाल ही में बजाज ऑटो में प्रोमोटर्स की हिस्सेदारी बढ़ी है, जो इस बात का संकेत है कि स्टॉक की कीमतें प्रोमोटर्स को लुभा रहीं हैं।

रिलायन्स इंडस्ट्रीज

हाल ही में आरआईएल 9 ट्रिलियन के बाज़ार पूंजीकरण के आंकड़े को छूने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। रीटेल बिज़नेस और ऑनलाईन सेल्स पर फोकस के चलते इसकी बिक्री के आंकड़े तेज़ी से विकसित हो रहे हैं। रिलायंस रीटेल न केवल रिलायन्स फ्रैश या रिलायन्स डिजिटल तक सीमित है बल्कि इस दायरे को पार कर कहीं आगे बढ़ चुकी है। रिलायन्स कई बड़े ब्राण्डस की साझेदार है जैसे माक्र्स एण्ड स्पेंसर, स्टीव मेडन, मदरकेयर, माइकल कोर्स, जिमी चू, हैमलेज़, बरबैरी, अरमानी आदि शामिल हैं।

ऑनलाईन और रीटेल तथा प्रीमियम और स्वामित्व ब्राण्डस के मिश्रण के साथ वे खरीददारों को हर तरह के ऑफर दे रहे हैं, जिसके चलते देश में में ब्राण्ड की मौजूदगी बेहद सशक्त हो गई है।

अदानी पोर्टस

देश में पोर्टस यानि बंदरगाहों के सबसे बड़े मालिक रेल संचालन में भी सक्रिय हैं और भारत के सबसे बड़े निजी रेल संचालक हैं। इसके पास 34 कंटेर नर रैक्स हैं और 14 रैक्स का आर्डर किया जा चुका है। कंपनी GPWIS योजना के तहत 7 ग्रेन रैक्स और 2 बॉक्स-एनएच रैक्स का संचालन भी करती है। सरकार कोनकोर के विभाजन की योजना बना रही है, ऐसे में यह अदानी पोर्टस के लिए अच्छा मौका हो सकता है, जिससे वे देश के सबसे बड़े बंदरगाह संचालक और सबसे बड़े रेल फ्राईट ऑपरेटर बन जाएंगे।

कोटक महिन्द्रा बैंक

कोटक बैंक हमेशा से अच्छी गुणवत्ता सम्पत्ति और एनपीए के नियन्त्रण पर ध्यान देता रहा है। कुल सम्पत्ति में इसके जोखिम की प्रतिशतता लगातार गिर रही है और वर्तमान में बैंक उद्योग जगत में निम्न एनपीए पर है। कंपनी ने पिछले 5 सालों में 26 फीसदी से अधिक मुनाफ़ा कमाया है।

वित्तीय क्षेत्र इस समय लिक्विडिटी के दौर से गुज़र रहा है, कोटक बैंक आने वाले साल में इस सेक्टर का प्रमुख नाम बन सकता है।

नेस्टले

नेस्टले कुछ निफटी 50 कंपनियों में से एक है, जिसका कारोबार में 100 साल से अधिक का इतिहास है। इसकी प्रतिष्ठा पर 2015 में सवालिया निशान लग गया जब खाद्य रक्षा विनियामकों ने भारत में इसके उत्पाद मैगी पर सवाल उठाए। हालांकि तब से उन्होंने अपने प्रचार अभियानों को जारी रखते हुए उपभोक्ताओं का भरोसा जीता है। इसका उपभोग लगातार बढ़ रहा है और मैगी की बिक्री लगातार बढ़ कर अब तक का अधिकतम मार्केट शेयर हासिल कर चुकी है। नेस्टले इण्डिया से आने वाले समय में शानदार परफोर्मेन्स की उम्मीद है।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.