Home »Economy »Taxation» IT Department Clarified About Quoting Of Aadhaar In Mandatory For ITR

ITR में आधार नम्‍बर जरूरी करने को लेकर इनकम टैक्‍स विभाग ने दी सफाई, कुछ को मिली राहत

नई दिल्‍ली. ऐसेसमेंट ईयर 2017-18 में आयकर रिटर्न भरने वाले उन्‍हीं लोगों को आधार नम्‍बर लिखना जरूरी है, जो इनको लेने के लिए कानूनी रूप से मान्‍य हैं। विभाग ने आज स्‍पष्‍ट किया है कि जो लोग आधार नम्‍बर कानूनी रूप से लेने के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं, उनके लिए रिटर्न में इसे लिखना जरूरी नहीं होगा।
 
 
फाइनेंस एक्‍ट में किया था बदलाव
 
फायनेंस एक्‍ट 2017 में आयकर रिटर्न फाइन करने वालों के लिए आधार नम्‍बर देना जरूरी किया गया है। जिन लोगों के पास आधार नम्‍बर नहीं है, उनके लिए आधार का इनरोलमेंट नम्‍बर देना जरूरी किया गया है। इसके अलावा पैन लेने के लिए भी अब आधार नम्‍बर जरूरी कर दिया गया है। आगामी 1 जुलाई 2017 के बाद पैन नम्‍बर लेने के लिए आधार नम्‍बर बताना जरूरी होगा।
 
विभाग का स्‍पष्‍टीकरण
 
इनकम टैक्‍स विभाग ने आधार नम्‍बर को जरूरी करने के मामले पर स्‍पष्‍टीकरण देते हुए कहा है कि यह उनके लिए ही जरूरी है जो कानूनी रूप से इसे लेने के अधिकारी हैं। जो लोग इसे इसके लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं उनको रिटर्न में आधार नम्‍बर लिखना जरूरी नहीं है। विभाग ने कहा है कि यह इनकम टैक्‍स एक्‍ट की धारा 139AA के तहत यह नियम उन्‍हीं लोगों के जरूरी है जो आधार एक्‍ट 2016 के तहत आधार नम्‍बर ले सकते हैं। आधार एक्‍ट के तहत आधार के लिए आवेदन करने की तिथि के ठीक पूर्व एक वर्ष के दौरान वह भारत में कम से कम एक बार में या कई बार में न्‍यूनतम 182 दिन रहा हो। देश में इस वक्‍त 25 करोड़ पैन कार्ड धारक हैं, तो 111 करोड़ लोगों को आधार नम्‍बर जारी किया जा चुका है। 
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY