बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Taxation25 लाख रु से ज्यादा जमा करने वाले 1.16 लाख लोगों को इनकम टैक्स का नोटिस

25 लाख रु से ज्यादा जमा करने वाले 1.16 लाख लोगों को इनकम टैक्स का नोटिस

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ऐसे लोगों से 30 दिन के भीतर रिटर्न फाइल करने को कहा है।

1 of

नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ऐसे 1.16 लाख इंडिविजुअल्स और कंपनियों को नोटिस भेजे हैं, जिन्होंने नोटबंदी के बाद अपने बैंक अकाउंट्स में 25 लाख रुपए से ज्यादा कैश जमा किया लेकिन वे निश्चित तारीख तक रिटर्न फाइल नहीं कर पाए। सीबीडीटी के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने यह जानकारी दी।

 

टैक्स डिपार्टमेंट ने तैयार की 18 लाख लोगों की लिस्ट

सुशील चंद्रा ने कहा कि वे भारी कैश डिपॉजिट करने वाले लोग भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के निशाने पर हैं, जिन्होंने आईटी रिटर्न फाइल किया है। टैक्स डिपार्टमेंट ने ऐसे 18 लाख लोगों की लिस्ट तैयार की है, जिन्होंने नोटबंदी के बाद 2.5 लाख रुपए से ज्यादा के 500 और 1000 रुपए के जंक्ड नोट अपने अकाउंट्स में जमा किए थे।

 

ये भी पढ़े -  नोटबंदी के बाद बैंक में जमा हुए 15 करोड़ बेनामी प्रॉपर्टी घोषित

 

आईटी रिटर्न फाइल नहीं करने वालों की बनाईं दो कैटेगरी

इन इंडिविजुअल्स और कंपनियों, जिन्होंने अभी तक अपना आईटी रिटर्न फाइल नहीं किया है, को दो कैटेगरी में बांटा गया है। एक कैटेगरी में 25 लाख रुपए से ज्यादा जमा करने वाले और दूसरी कैटेगरी में 10 लाख रुपए से 25 लाख रुपए के बीच जमा करने वाले हैं।

 

ये भी पढ़े -  रिवाइज्ड ITR की जांच में सख्त हों अफसर, गड़बड़ी पर सबसे ज्यादा वसूलें टैक्स

 

30 दिन के भीतर फाइल करें रिटर्न, वरना होगा एक्शन

चंद्रा ने कहा, '1.16 लोग ऐसे हैं, जिन्होंने नोटबंदी के बाद अपने अकाउंट में 25 लाख रुपए कैश जमा किया, लेकिन अभी तक रिटर्न फाइल नहीं किया।' उन्होंने कहा, 'इसलिए हमने उनसे 30 दिन के भीतर आईटी रिटर्न फाइल करने के लिए कहा है।'

 

चंद्रा ने कहा कि लगभग 2.4 लाख लोगों ने 10 लाख से 25 लाख रुपए के बीच कैश जमा किया, लेकिन अभी तक रिटर्न फाइल नहीं किया। उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने रिटर्न फाइल नहीं किया तो अगले फेज में भी उन्हें नोटिस मिलेगा।

 

 

609 लोगों पर हुई कार्रवाई

नोटिस आईटी एक्ट के सेक्शन 142 (1) के तहत दिए गए हैं। अधिकारी ने कहा कि इस साल अप्रैल-सितंबर के दौरान आईटी कानून का उल्लंघन पर कार्रवाई का सामना करने वाले लोगों की संख्या दोगुनी से ज्यादा बढ़कर 609 तक पहुंच गई, जबकि बीते साल समान अवधि में 288 थी। वहीं 1,046 कंप्लेंट्स फाइल की गईं, जबकि बीते साल यह आंकड़ा 652 था।

 

ये भी पढ़े - नोटबंदी में किए ओवरटाइम का मिलेगा पैसा

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट