बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Taxation1833 Cr की बेनामी प्रॉपर्टी अटैच, 20 हजार से ज्यादा IT रिटर्न की डिटेल में होगी जांच

1833 Cr की बेनामी प्रॉपर्टी अटैच, 20 हजार से ज्यादा IT रिटर्न की डिटेल में होगी जांच

अक्‍टूबर तक के सरकारी डाटा के मुताबिक, 1833 करोड़ रुपए की 541 बेनामी अटैच की गई है।

1 of
नई दिल्‍ली.    इनकम टैक्‍स विभाग ने देशभर में 1833 करोड़ की बेनामी प्रॉपर्टी अटैच की हैं। यह जानकारी सोमवार को सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) ने दी। वहीं, इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने 20572 टैक्‍स रिटर्न्स को डिटेल स्‍क्रूटनी के लिए चुना है, क्योंकि नोटबंदी के पहले और बाद में इनके रिटर्न्स मेल नहीं खा रहे हैं। इसके अलावा इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट को करीब 1 लाख मामलों में टैक्‍स चोरी का शक है, जिनकी डिटेल जांच की जाएगी।
 

अक्‍टूबर तक 1833 करोड़ रुपए की 541 बेनामी प्रॉपर्टी अटैच

- अक्‍टूबर तक के सरकारी डाटा के मुताबिक, 1833 करोड़ रुपए की 541 बेनामी अटैच की गई है। 517 को नोटिस दिया गया था। 
 
किन रीजन में ये प्रॉपर्टीज अटैच की गई 
रीजन प्रॉपर्टीज
अहमदाबाद 136
भोपाल   93
कर्नाटक एंड गोवा 76
चेन्‍नई 72
जयपुर 62
मुम्‍बई       61
दिल्‍ली       
55
 
20 हजार से ज्‍यादा IT रिटर्न की होगी जांच
- वहीं, इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने 20,572 आईटी रिटर्न  को डिटेल स्‍क्रूटनी के लिए छांटा है। इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट का कहना है कि इन लोगों के रिटर्न में नोटबंदी के पहले और बाद में जो जानकारी दी गई वह मेल नहीं खा रही है। 
 
IT विभाग कर रहा है कार्रवाई 
- सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टैक्‍सेस (सीबीडीटी) के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने बताया- "इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट लगातार बेनामी प्रॉपर्टी के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रहा है। यह जारी रहेगी। हम ज्यादा से ज्यादा डाटा और इन्फॉर्मेशन जुटाकर बेनामी प्रॉपर्टी का पता लगा रहे हैं। जैसे ही कोई जानकारी मिलती है सख्त एक्शन लिया जाता है।" 
- "इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने इसी साल 31 जनवरी को ऑपरेशन क्लीन मनी का पहला फेज शुरू किया था। सरकार ने पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोट को बंद कर दिया था। उसके बाद इन नोटों को गलत तरीके के बदलने की कोशिश और ब्‍लैक मनी का खपाने की जांच भी इसी अभियान के तहत की जा रही है।" 
 
कई लाख करोड़ की ब्‍लैक मनी खपाने का शक
- सरकारी डाटा के मुताबिक, नोटबंदी के बाद 17.73 लाख संदिग्‍ध केस की पहचान की गई, जिनमें 3.68 लाख करोड़ रुपए की डेरा-फेरी होने की संभावना है। इन ट्रांजैक्‍शन में 23.22 लाख बैंक खातों का इस्‍तेमाल किए जाने का अनुमान है।
- सरकार ने बाद में इन लोगों को नोटिस देकर जानकारी मांगी थी। इनमें से अभी तक डिपार्टमेंट को 11.8 लाख लाेगों ने 16.92 लाख बैंक खातों का ऑनलाइन डिटेल दिया है।
 
900 सर्च अभियान चलाए
- इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने 9 नवंबर 2016 से लेकर मार्च 2017 के बीच करीब 900 सर्च अभियान चलाए थे। इसमें 900 करोड़ रुपए की संपत्ति सीज की गई थी, जिसमें से 636 करोड़ रुपए कैश था। इस दौरान 7961 करोड़ रुपए की ऐसी प्रॉपर्टी का पता चला जिसका खुलासा नहीं किया गया था।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट