विज्ञापन
Home » Economy » TaxationIncome Tax department sets eyes on cash transactions to increase tax collection

काम की खबर / अगर आपने भी नकद खरीदी है कार और जमीन तो हो जाएं सावधान, आ सकती है मुसीबत

लक्ष्य में पिछड़ने के बाद राजस्व बढ़ाने के लिए आयकर विभाग का नया प्लान

1 of

नई दिल्ली। यदि आपने बीते कुछ समय में नकद लेनदेन के जरिए कार, ज्वैलरी या जमीन खरीदी है तो सावधान हो जाएं, आयकर विभाग आपसे नकदी के बारे में पूछताछ कर सकता है। दरअसल, 12 लाख करोड़ का राजस्व जुटाने के लक्ष्य से पिछड़े इनकम टैक्स विभाग ने नकद लेनदेन करने वालों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक करने की योजना बनाई है। 

अस्पताल के बिल नकद करने पर भी होगी कार्रवाई
आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, आयकर विभाग वित्त वर्ष 2018-18 में 12 लाख करोड़ का राजस्व जुटाने के लक्ष्य से चूक गया है। ऐसे में विभाग ने सभी कर आकलन अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जो भी करदाता नकद लेनदेन के जरिए जमीन, ज्वैलरी और कार जैसे लग्जरी आइटम या फिर अस्पताल के बिल का भुगतान करते हैं तो उन पर पैनल्टी लगाई जाए। अधिकारी ने बताया कि अभी तक जमीन खरीदने के करीब 27 हजार ऐसे मामले पकड़ में आए जिनमें आयकर कानूनों का उल्लंघन कर नकद लेनदेन किया गया है। अधिकारी ने बताया कि हमें जल्द ही 5,500 करोड़ रुपए वसूलने की आवश्यकता है। 

20 हजार से अधिक के लेनदेन पर है रोक


केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड की ओर से 1 जून 2015 को जारी नए नियमों के अनुसार, कृषि भूमि समेत किसी भी प्रकार की जमीन खरीदने के लिए 20 हजार रुपए से अधिक के भुगतान के लिए चेक, आरटीजीएस या इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर का उपयोग किया जाएगा। यदि कैश लेनदेन का कोई मामला पकड़ में आता है तो आयकर एक्ट के सेक्शन 271डी के तहत बेचने वाले पर जुर्माना लगाया जाएगा। पिछले वित्त वर्ष में आयकर विभाग 1100 ऐसे मामले पकड़े हैं जिनमें 2 लाख रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ है।

एक दिन में नहीं ले सकते 2 लाख से ज्यादा की नकदी


आयकर एक्ट के सेक्शन 269एसटी के अनुसार, कोई भी व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति से एक दिन में 2 लाख से अधिक की धनराशि नकद नहीं ले सकता है। ऐसे मामलों में आयकर विभाग 45 करोड़ का जुर्माना लगा चुका है। इसके अलावा बड़े अस्पतालों और लग्जरी ब्रांड के शोरूम पर भी आयकर कानून का उल्लंघन करने पर 45 करोड़ का जुर्माना लगाया जा चुका है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन