Home »Economy »Taxation» Moving Goods Worth More Than Rs 50 K Under GST Will Require Prior Online Registration

50 हजार से ज्यादा के प्रोडक्ट के ट्रांसपोर्टेशन पर GST में रजिस्ट्रेशन जरूरी, सरकार की रहेगी नजर

 
नई दिल्‍ली. सरकार ने नए गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स (जीएसटी) रिजीम में टैक्स चोरी रोकने के लिए बड़ी पहल की है। इसके तहत 50 हजार रुपए से ज्‍यादा के प्रोडक्ट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिए पहले 'ई-वे बिल' रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा। टैक्‍स अधिकारी ऐसे प्रोडक्ट्स के ट्रांसपोर्टेशन के दौरान कभी भी चेक कर सकते हैं। इन प्रोडक्ट्स की डिलिवरी के लिए अधिकतम 15 दिन का समय दिया जाएगा।
 
 
कारोबारियों को कराना होगा ई-वे रजिस्ट्रेशन
सेंट्रल बोर्ड ऑफ एक्‍साइज एंड कस्‍टम (सीबीईसी) ने इस संबंध में नए नियम जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि 50 हजार रुपए से ज्‍यादा के प्रोडक्ट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने से पहले कारोबारियों को इलेक्‍ट्रॉनिक वे (ई-वे) बिल के लिए रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा। जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) वेबसाइट पर रजिस्‍ट्रेशन के बिना राज्‍य के अंदर और राज्‍य के बाहर ले जाने पर रोक रहेगी।
 
 
1से15दिनों तक के लिए मिलेगा ई-वे बिल
जीएसटीएन पर ई-वे बिल 1 से लेक 15 दिनों के लिए मिलेगा। यह समय इस आधार पर दिया जाएगा कि सामान को‍ कितनी दूरी पर ले जाना है। सामान को 100 किलोमीटर तक ले जाना है तो 1 दिन का समय दिया जाएगा। वहीं अगर सामान को 1000 किलोमीटर से ज्‍यादा दूर ले जाना है तो 15 दिन का समय दिया जाएगा।
 
 
मिलेगा ई-वे बिल नंबर मिलेगा
ई-वे बिल में रजिस्‍ट्रेशन के बाद आपूर्तिकर्ता को एक रजिस्‍ट्रेशन नंबर जारी किया जाएगा। साथ ही में यहा रजिस्‍ट्रेशन नंबर (ईबीएन) ट्रांसपोर्टर को भी जारी किया जाएगा। इस बात की जानकारी ड्रॉफ्ट बिल में जारी की गई है। इसके अनुसार ट्रांसपोर्टर को यह रिकॉर्ड अपने साथ रखना होगा। इसको या तो बिल के रूप में रखा जाए या अगर वाहन में रेडियो फ्रीक्‍वेंशी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस (आरएफआईडी) लगी है, तो इलेक्‍ट्रॉनिक मोड में वह रख सकता है।
 
 
कहीं भी चेक किया जा सकेगा यह ई-वे बिल
टैक्‍स अधिकारी इस सामान के ट्रांसपोर्टेशन के दौरान कहीं भी चेकिंग कर सकेंगे। इस दौरान अधिकारियों को ई-वे बिल की हार्ड कॉपी या इलेक्‍ट्रॉनिक मोड में इसे दिखाना होगा। यह चे‍किग राज्‍य के अंदर या राज्‍य के बाहर कहीं भी की जा सकेगी।
 
 
30मिनट से ज्यादा वाहन नहीं रोक पाएंगे अधिकारी
नए नियमों के अनुसार टैक्‍स चोरी की सूचना पर यह कार्रवाई की जाएगी, जो अधिकारी चेकिंग करेंगे उनको 24 घंटे के अंदर इस के बारे विभाग में रिपोर्ट देनी होगी। वहीं अगर टैक्‍स अधिकारी वाहन को 30 मिनट से ज्‍यादा देर के लिए रोकते हैं तो इसकी सूचना ट्रांसपोर्टर जीएसटीएन सर्वर पर दे सकता है।

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY