Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Economy »Taxation» Ecommerce Firms Deduct Up To 1 Per Cent TCS While Making Payments To Their Suppliers

    ई-कामर्स कंपनियों को काटना होगा 1% टीसीएस, जीएसटी मॉडल लॉ में है प्रावधान

    नई दिल्‍ली।गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स (जीएसटी) के दौर में ई-कामर्स कंपनियों के लिए अपने सप्‍लायरों के पेमेंट में एक फीसदी टीसीएस (टैक्‍स कलेक्‍टेड एट सोर्स) काटना जरूरी हो जाएगा। उम्‍मीद है कि आगामी 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो जाएगी।
     
    जानकारों ने चिंता जताई
     
    जीएसटी काउंसिल के मॉडल जीएसटी लॉ में इस तरह का प्रावधान किया गया है। इसमें ई कामर्स कंपनियों को एक फीसदी टीसीएस का प्रावधान किया गया है। हालांकि जानकारों ने इस प्रावधान पर चिंता जताई है। उनके अनुसार ऐसा होने से सामानों के इंटर स्‍टेट मूवमेंट पर भी 1 फीसदी टैक्‍स लगेगा, जिससे यह बढ़कर 2 फीसदी हो जाएगा। हालांकि इन चिंता पर अधिकारियों का कहना है कि मॉडल जीएसटी में आप टू 1 फीसदी शब्‍द का इस्‍तेमाल किया गया है। इसका मतलब है कि यह टैक्‍स एक फीसदी से ज्यादा नहीं होगा।
     
     
    पैसा फंसा रहने की चिंता
     
    इंइस्‍ट्री के लोगों का मानना है कि टीसीएस के प्रावधान से लोगों का पैसा लॉकइन हो जाएगा, जिससे कारोबार पर असर पड़ेगा। इससे ऑन लाइन बिक्री करने वालों को दिक्‍कतों का सामना करना पड़ेगा। इनका मानना है कि कंपनियां टीसीएस को अपने रिटर्न में दिखाएंगी लेकिन अगर कोई ग्राहक सामान वापस करता है, तो यह वास्‍तव में बिक्री नहीं माना जाएगा, ऐसे केस में दिक्‍कतें होंगी। जीएसटी मॉडल लॉ में कहा गया है कि इलॉट्रोनिक कामर्स का मतलब गुड्स और सर्विस जिसमें डिजिटल प्रॉडक्‍ट भी शामिल हैं।
     

    और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY